• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महाराष्ट्र: एंबुलेंस में कूडे की तरह भरे मिले 12 कोरोना मरीजों के शव, अहमदनगर में बवाल

|

अहमदनगर। देश में कोरोना संक्रमित लोगों के सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से आए हैं। इसी बीच महाराष्ट्र से एक और चौंकाने वाली घटना सामने आई है। अहमदनगर में एक एम्बुलेंस में 12 कोरोना मरीजों के शवों को ले जाने का मामला सामने आया है। कोविड-19 मरीजों के शव एक साथ एक दूसरे के ऊपर ढेर करके रख दिए गए थे। उन्‍हें रविवार को अहमदनगर में श्मशान में अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया था। फोटो सामने आने के बाद विवाद खड़ा हो गया है।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

कोविड मरीजों की 12 लाशें के साथ दुर्व्यवहार

कोविड मरीजों की 12 लाशें के साथ दुर्व्यवहार

'इंडियन एक्स्प्रेस' की खबर के मुताबिक, अहमदनगर निगम आयुक्त श्रीकांत मिकलवार ने बताया, इस मामले में हमने चतुर्थ श्रेणी के एक कर्मचारी को नोटिस जारी किया है। इस कर्मचारी का काम कोविड शवों के अंतिम संस्कार का था। इस पूरी घटना को शिवसेना स्थानीय नगरसेवक बालासाहेब बोराटे ने देखा और उसे कैमरे में कैद किया। इन लाशों में से 4 महिलाएं है और 8 पुरुष। मरीजों की हमेशा से शिकायत रही है कि अस्पताल में उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं होता। बता दें, अहमदनगर में कोरोना का प्रकोप ज्यादा है और यहां कुल 10 हजार पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। अब तक 112 मरीजों की मौत हो चुकी है।

अस्पताल ने दी सफाई

अस्पताल ने दी सफाई

अहमदनगर सिविल अस्पताल पर आरोप लगाते हुए निगम आयुक्त ने कहा, यह सुनिश्चित करना अस्पताल प्रशासन का काम था कि शवों को शव वाहन में ठीक से व्यवस्थित किया जाए और फिर श्मशान में भेज दिया जाए। ऐसा लगता है कि उन शवों को रखने के लिए कोई स्ट्रेचर का इस्तेमाल नहीं किया गया था। अगर पीपीई किट की समस्या थी, तो उन्हें इसके लिए पूछना चाहिए था। हमारी सेवा में पांच एम्बुलेंस भी हैं। वे एम्बुलेंस सेवा के लिए भी पूछ सकते थे।

अहमदनगर में जमकर हुआ बवाल

अहमदनगर में जमकर हुआ बवाल

वहीं अहमदनगर सिविल अस्पताल के सिविल सर्जन के रूप में अस्थायी प्रभार संभाल रहे सुनील पोखरना ने इस पूरे मामले में कहा, 'अस्पताल अंतिम संस्कार के लिए कोविड 19 मरीजों के शवों को श्मशान में ले जाने के लिए जिम्मेदार नहीं है। हमारा काम तब खत्म हो जाता है जब हम नगर निगम कर्मचारियों को ये शव सौंप देते हैं। रविवार को हमारे पास कोरोना मरीजों के 12-15 शव पड़े थे। हमने सभी कागजी कार्रवाई पूरी होने के बाद शवों को नगर निगम कर्मियों को सौंप दिया। उसके बाद, वे कर्मचारी शवों को श्मशान ले गए।

राजीव त्यागी के निधन पर बोले राहुल गांधी-कांग्रेस ने आज अपना एक बब्बर शेर खो दिया

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
bodies of 12 Covid patients crammed in one hearse van in Ahmednagar
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X