• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

संजय राउत से मुलाकात के बाद शरद पवार ने खोले पत्ते, शिवसेना से गठबंधन पर दिया बड़ा बयान

|

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार का संकट अभी भी बरकरार है। भाजपा जहां देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री पद पर बनाए रखने के रुख पर अड़ी हुई है तो वहीं शिवसेना ने भी स्पष्ट कर दिया है कि वो '50-50' फॉर्मूले के अलावा किसी प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करेगी। इस बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने शिवसेना के साथ सरकार गठन को लेकर चल रहे कयासों पर विराम लगा दिया है। शिवसेना सांसद संजय राउत से मुलाकात के एक घंटे बाद ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए शरद पवार ने कहा कि महाराष्ट्र की जनता ने उन्हें जनादेश विपक्ष में बैठने के लिए दिया है और भाजपा-शिवसेना को मिलकर प्रदेश के अंदर सरकार बनानी चाहिए।

    Maharashtra में सरकार गठन के लिए NCP ने Shiv Sena के सामने रखी ये Condition । वनइंडिया हिंदी
    'भाजपा-शिवसेना साथ मिलकर सरकार बनाएं'

    'भाजपा-शिवसेना साथ मिलकर सरकार बनाएं'

    शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने के सवाल पर शरद पवार ने कहा, 'शिवसेना और एनसीपी की सरकार का सवाल ही कहां है? भाजपा और शिवसेना पिछले 25 सालों से साथ हैं। आज नहीं तो कल वो दोनों फिर से साथ आ जाएंगे। मेरे पास अभी इस मामले पर कहने के लिए कुछ नहीं है। भाजपा और शिवसेना को जनता का जनादेश मिला है, इसलिए उन्हें जल्द से जल्द सरकार बनानी चाहिए। हमें जनता ने विपक्ष की भूमिका निभाने के लिए अपना जनादेश दिया है। केवल एक ही विकल्प है कि भाजपा और शिवसेना साथ मिलकर सरकार बनाएं। राष्ट्रपति शासन से बचने के लिए इसके अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है।'

    ये भी पढ़ें-महाराष्ट्र में बड़ा उलटफेर: शरद पवार से मिले संजय राउत, मुलाकात से पहले किया ये ट्वीटये भी पढ़ें-महाराष्ट्र में बड़ा उलटफेर: शरद पवार से मिले संजय राउत, मुलाकात से पहले किया ये ट्वीट

    संजय राउत से मुलाकात पर कही ये बात

    संजय राउत से मुलाकात पर कही ये बात

    शिवसेना सांसद संजय राउत के साथ मुलाकात को लेकर शरद पवार ने कहा, 'संजय राउत ने आज मुझसे मुलाकात की और आगामी राज्यसभा सत्र के बारे में चर्चा की। कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिन पर हमने चर्चा की, जिनके बारे में हम एक समान रुख अपना सकते हैं।' वहीं किसानों के मुद्दे पर शरद पवार ने कहा, 'केंद्र को उन किसानों की मदद करनी चाहिए, जिनकी फसलें बारिश के कारण बर्बाद हो गई हैं। मैंने प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और महसूस किया कि किसानों को राहत दी जानी चाहिए। दूसरा मुद्दा ये है कि बीमा कंपनियां किसानों को फसलों के नुकसान के लिए भुगतान नहीं कर रही है, वित्त मंत्रालय को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए।

    '50-50 से कम कुछ मंजूर नहीं'

    '50-50 से कम कुछ मंजूर नहीं'

    आपको बता दें कि इससे पहले शिवसेना सांसद संजय राउत ने बुधवार को ट्वीट करते हुए कहा, 'जो लोग कुछ भी नहीं करते हैं, वो कमाल करते हैं...।' संजय राउत के इस ट्वीट को भाजपा के साथ चल रही शिवसेना की तकरार से जोड़कर देखा जा रहा है। इस ट्वीट के बाद संजय राउत ने शरद पवार से मुलाकात की। वहीं, मीडिया से बात करते हुए बुधवार को संजय राउत ने कहा, 'भाजपा के साथ हम केवल उस प्रस्ताव पर चर्चा करेंगे, जिसपर हमने विधानसभा चुनाव से पहले सहमति व्यक्त की थी। अब किसी भी नए प्रस्ताव की अदला-बदली नहीं की जाएगी। भाजपा और शिवसेना ने चुनावों से पहले सीएम के पद को लेकर एक समझौता किया था और उसके बाद ही हम चुनाव में गठबंधन के लिए आगे बढ़े।'

    ये भी पढ़ें-बीजेपी-शिवसेना में चल रही तनातनी पर शरद पवार के पोते का तंज,'अगर बालासाहेब जिंदा होते तो...'ये भी पढ़ें-बीजेपी-शिवसेना में चल रही तनातनी पर शरद पवार के पोते का तंज,'अगर बालासाहेब जिंदा होते तो...'

    English summary
    BJP And Shiv Sena Should Form Government, Our Mandate Is For Opposition: Sharad Pawar.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X