• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बिहार चुनाव 2020: हाथरस मामला बिहार चुनाव की कहानी को जानिए कैसे बदल सकता है?

|

नई दिल्‍ली। यूपी के हाथरस के चंदपा क्षेत्र की अनुसूचित जाति की बेटी के साथ हुई घटना से पूरे देश में जातीय आक्रोश बढ़ता जा रहा है। 14 सितंबर को दलित जाति की बेटी के साथ दरिंदगी और बाद में अस्‍पताल में मौत के बाद देश भर में गुस्‍सा उफान पर है। वहीं दलित उत्‍पीड़न और महिला सुरक्षा से जुड़े इस मु्द्दे की लपटें पूरे देश भर में पहुंच चुकी है। पश्चिम बंगाल, दिल्‍ली समेत अन्‍य राज्यों में इसको लेकर विरोध प्रदर्शन के साथ राजनीति गरमाती जा रही है। ये दलित लड़की की मौत की घटना बिहार चुनाव की कहानी को भी बदल सकती है क्‍योंकि इस घटना को लेकर भाजपा कटघरे में खड़ी है इस मुद्दे को लेकर उसकी जमकर किरकिरी हो रही है, जिसका खामियाजा उसे बिहार चुनाव में भुगतना पड़ सकता है!

बिहार में कांग्रेस के लिए गेम चेंजर साबित हुई थी ये घटना

बिहार में कांग्रेस के लिए गेम चेंजर साबित हुई थी ये घटना

आपको बता दें 1977 में, बिहार के बेलची गाँव में कई दलितों को ऊंची जाति के जमींदारों ने मार डाला था। सत्ता से बाहर, इंदिरा गांधी ने इस घटना का जमकर राजनीतिक लाभ लिया था। वो दलितों के लिए न्‍याय की लड़ाई में पहले उन्‍होंने ट्रेन, जीप और ट्रैक्टर से यात्रा की और भारी बारिश में हाथी की सवारी कर मिट्टी और बरसात के पानी से लथपथ पटरियों को पार किया। दलित समुदाय के लिए इंदिरा गांधी का ये कदम बिहार में कांग्रेस के पक्ष में बड़ा गेम चेंजर साबित हुआ था।

    Hathras case: पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे Rahul-Priyanka, बंद कमरे में की बात | वनइंडिया हिंदी
     राहुल गांधी और प्रियंका के इस कदम ने भी जमकर बटोरी सुर्खियां

    राहुल गांधी और प्रियंका के इस कदम ने भी जमकर बटोरी सुर्खियां

    वहीं इस घटना के चार दशक से अधिक समय के बाद गुरुवार (1 अक्टूबर) को इंदिरा गांधी के पोते राहुल गांधी और पोती प्रियंका गांधी वाड्रा को उत्तर प्रदेश पुलिस ने प्रतिबंधात्मक हिरासत में ले लिया, जब दोनों कांग्रेस नेताओं ने हाथरस जिले के उस दलित लड़की के गांव का दौरा करने की कोशिश कर रहे थे। जिस बाल्मिकी समुदाय की लड़की को उसी के गांव के ऊंची जाति के 4 लड़को ने पहले अपनी हैवानियत का शिकार बनाया और उसके बाद उसकी बेरहमी से जुबान काट दी। 19 वर्षीय पीड़िता वाल्मीकि समुदाय की थी। लड़की की मौत के बाद उसके दलित परिवार से मिलने जाने की कोशिश में जब राहुल जमीन पर गिर गए और मीडिया में जमकर सुर्खियां बटोरी। वहीं उनकी प्रियंका ने एक दिन बाद दिल्ली के वाल्मीकि मंदिर में एक प्रार्थना सभा में भाग लिया और कहा कि देश की हर महिला को सरकार से सवाल करना चाहिए और हाथरस की बेटी के लिए न्याय मांगना चाहिए।

    हाथरस घटना का असर बिहार चुनाव पर क्या डालेगा असर

    हाथरस घटना का असर बिहार चुनाव पर क्या डालेगा असर

    गांधी भाई-बहनों की तुलना उनकी दादी इंदिरा से करना अनुचित है और हाथरस बिहार में नहीं है, लेकिन यूपी से सटे हुए बिहार राज्य में अक्टूबर-नवंबर में विधानसभा चुनाव होने हैं और विपक्ष 2014 में दिल्‍ली में भाजपा की मोदी सरकार के आरुढ़ होने के बाद से ऐस बड़े राजनीतिक मौके की लगातार तलाश में थी और इस हाथरस घटना से उसे मिल गया है। हाथरस की लड़की के साथ हुआ अपराध चौंकाने वाला था, राज्य में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार को निशाना बनाने के लिए राजनीतिक विपक्ष लगातार हमले बोल रहा है, भाजपा के खिलाफ दलितों के उत्‍पीड़न को लेकर लग रहे ये आरोप की हवा का असर बिहार के एनडीए गठबधन के चुनाव पर पड़ने की पूरी संभावना नजर आ रही है।

    हाथरस घटना एनडीए की छवि को खराब कर सकता है

    हाथरस घटना एनडीए की छवि को खराब कर सकता है

    इसका असर भले ही चुनाव नतीजों पर न पड़े लेकिन इससे पोल की कहानी जरूर बदल जाएगी। हाथरस में हुए भीषण अपराध से बिहार में सत्तारूढ़ राजग (मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जदयू और भाजपा) की छवि धूमिल हो सकती है, जहां दलित कुल मतदाताओं का लगभग 17 प्रतिशत हैं। हाथरस की घटना का विरोध बिहार में शुरू हो चुका है। पटना के एक वरिष्ठ सामाजिक और राजनीतिक विश्लेषक एनके चौधरी ने मीडिया को दिए साक्षात्‍कार में कहा, "हाथरस के मुद्दे का निश्चित रूप से बिहार चुनाव पर कुछ प्रभाव पड़ेगा। यह एनडीए की छवि को खराब कर सकता है और एक अच्छे शासन और सरकार के अपने दावों को एक अंतर के साथ जोड़ सकता है।"

    महिलाओं ने नीतीश कुमार की चुनावी जीत में अहम भूमिका निभाई है

    महिलाओं ने नीतीश कुमार की चुनावी जीत में अहम भूमिका निभाई है

    एनके चौधरी ने कहा हाथरस में विपक्ष के महागठबंधन (तेजस्वी यादव के राजद, कांग्रेस और वामपंथी दलों को शामिल करने) के आरोपों को बल मिल सकता है। याद रहें, महिलाओं ने नीतीश कुमार की चुनावी जीत में अहम भूमिका निभाई है।"यूपी के विपरीत, बिहार में दलितों का कोई जनसमूह नहीं है। वे लोजपा के चिराग पासवान, एचएएम (सेकुलर) के जीतन राम मांझी, कांग्रेस के अशोक चौधरी और राजद के श्याम रजक के नेतृत्व में ब्लाकों में बंटे हुए हैं। लेकिन चुनाव की कहानी बदल सकती है। उन्होंने कहा, "दलितों और महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दे विपक्ष द्वारा अधिक मुखर रूप से उठाए जा सकते हैं। दलित उम्मीदवारों को अधिक सीटें देने पर विचार कर सकते हैं। एनडीए के घटक चिराग पासवान और जीतन राम मांझी के पास सीट बंटवारे में अधिक अधिकार हो सकते हैं।

    जेडीयू भी इसका खामियाजा उठाएगी

    जेडीयू भी इसका खामियाजा उठाएगी

    एससी / एसटी संगठन के अखिल भारतीय परिसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष उदित राज ने कहा कि हाथरस एक संवेदनशील मुद्दा है और इसने बिहार में लोगों को प्रभावित किया है। "यह एक चुनावी कारक है। एफआईआर दर्ज करने में देरी, शरीर को जलाने और राजनीतिक विरोध प्रदर्शन के दुस्साहस का भाजपा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा, और जेडीयू भी इसका खामियाजा उठाएगी। निजीकरण वैसे भी एक बड़ा मुद्दा था।

    दलित वोटों का हिंदू वोटों के रुप में शोषण होता रहा है

    दलित वोटों का हिंदू वोटों के रुप में शोषण होता रहा है

    एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल स्टडी (पटना) के पूर्व निदेशक डीएम दिवाकर ने कहा कि बिहार में पार्टियां केवल सत्ता साझा करने में रुचि रखती हैं। "किसी को भी दलित मुक्ति के बारे में चिंता नहीं है, दलितों को न्याय मिलेगा, भूमि सुधार हुए थे और उनके लिए विभिन्न आयोगों की सिफारिशें लागू की गई थीं।" "जब वे साक्षरता, शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण की बात करते हैं तो वे सबसे निचले पायदान पर होते हैं क्योंकि केवल उनके लिए बड़े-बड़े केवल वायदे किए जाते है। हर राजनीतिक दल का दलित मोर्चा होता है, लेकिन भाजपा और अन्य दलितों का हिंदू वोटों के रूप में शोषण करते हैं। वे दलित चेहरे चाहते हैं, और दलित नेता नहीं" "इसमें कोई संदेह नहीं है कि जिन क्षेत्रों में दलित आंदोलनों को देखा गया है उनमें बदलाव देखा गया है। लेकिन 1991 के बाद, जब वामपंथी आंदोलन कमजोर हुआ, तो स्थिति और खराब हो गई। उदारीकरण के प्रभाव के तहत, सार्वजनिक नीति गरीब विरोधी हो गई, चूंकि दलित सबसे बड़े हैं। गरीबों के बीच साझा करें, वे सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। बता दें बिहार चुनाव 2020 के लिए तारीखों की घोषणा हो चुकी है। राज्य की सभी 243 सीटें तीन चरणों (28 अक्टूबर, 3 नवंबर और 7 अक्टूबर) को चुनावों में जाएंगे। 10 नवंबर को परिणाम दिवस होगा।

    <strong>पश्चिम बंगाल सीएम ममता बनर्जी ने हाथरस घटना के विरोध में किया पैदल मार्च </strong>पश्चिम बंगाल सीएम ममता बनर्जी ने हाथरस घटना के विरोध में किया पैदल मार्च

    English summary
    Bihar election 2020: Hathras incident can change the story of Bihar election
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X