• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने दी सरकार को चुनौती, लागू करके दिखाएं CAA, NRC और NPR

|

नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोन कानून को लेकर पूरे देश में विरोध जारी है। अलग-अलग हिस्‍सों में लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी बीच भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने बुधवार को केंद्र सरकार को चुनौती दे दी है। उन्‍होंने कहा है कि वह देश में सीएए, एनपीआर (राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्‍टर) और एनआरसी (राष्‍ट्रीय नागरिकता पंजी) को लागू करके दिखाए। चंद्रशेखर आजाद ने उत्तराखंड के देहरादून में सीएए और एनपीआर के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन में बोल रहे थे। आपको बता दें कि सीएए देश में पहले ही लागू किया जा चुका है।

    Citizenship Act को लेकर Chandrashekhar Azad ने Modi government को दी चेतावनी | वनइंडिया हिंदी
    23 फरवरी को किया भारत बंद का ऐलान

    23 फरवरी को किया भारत बंद का ऐलान

    देहरादून में जारी धरने को अपना समर्थन देते हुए चंद्रशेखर आजाद ने आगामी 23 फरवरी को भारत बंद का भी ऐलान किया। बता दें, सीएए के विरोध में मुस्लिम संगठनों के आह्वान पर मुस्लिम समाज के लोग विगत 27 जनवरी से परेड़ ग्राउंड में धरना देकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इस दौरान विभिन्न संगठनों के लोग वहां अपना समर्थन देने पहुंच रहे हैं। बुधवार को भीम आर्मी के चंद्रशेखर भी समर्थकों के साथ परेड ग्राउंड पहुंचे और अपना समर्थन दिया।

    अपने संबोधन में क्‍या कहा चंद्रशेखर ने

    अपने संबोधन में क्‍या कहा चंद्रशेखर ने

    चंद्रशेखर ने कहा कि पूरे दुनिया में आज भारत में थोपे जा रहे सीएए कानून की चर्चा हो रही है। पूरी दुनिया मुस्लिम समाज को देख रही है। देश की जनता धर्म के आधार पर आधारित इस काले कानून को बर्दाश्त नहीं करेगी। जब तक इसे वापस नहीं लिया जाता आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान उन्होंने देश की एकता और अखंडता के साथ ही संविधान को बचाने की शपथ भी उपस्थित लोगों को दिलाई। साथ ही उन्होंने आगामी 23 फरवरी को सीएए के विरोध में भारत बंद का ऐलान भी किया। इस दौरान जावेद खान, इलियास खान, रजिया वेग, नजमा खान, रईस अहमद, वसीम अहमद, दानिश कुरैशी सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

    CAA के खिलाफ धरना से पहले हैदराबाद में हुए थे गिरफ्तार

    CAA के खिलाफ धरना से पहले हैदराबाद में हुए थे गिरफ्तार

    भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को हैदराबाद पुलिस ने बीते 26 जनवरी को गिरफ्तार किया था। वो NRC, CAA, NPR के खिलाफ जनसभा को संबोधित करने के लिए हैदराबाद पहुंचे थे। हैदराबाद पुलिस ने कहा था कि चंद्रशेखर को लंगरहाउस पुलिस थाना सीमा में सीएए और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिया गया है। वह प्रदर्शन में शामिल थे और प्रदर्शनकारियों को विरोध-प्रदर्शन के लिए पुलिस की कोई अनुमति नहीं मिली थी।

    शाहीन बाग पहुंचकर ये कहा था चंद्रशेखर ने

    शाहीन बाग पहुंचकर ये कहा था चंद्रशेखर ने

    चंद्रशेखर आजाद शाहीन बाग पहुंच केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला था। शाहीन बाग में लोगों को संबोधित करते हुए चंद्रशेखर आजाद ने कहा, 'हमने अभी तक इतिहास में जलियांवाला बाग सुना था। अब शाहीन बाग सुना है। यह गैर राजनीतिक आंदोलन है। ऐसा आंदोलन बार-बार नहीं होता है। अब अगले 10 दिन में शाहीन बाग जैसे 5000 प्रदर्शन स्थल बनाए जाएंगे।' चंद्रशेखर ने कहा, 'जब सच्चे और ईमानदार लोग सड़क पर आते हैं, तब क्या होता है यह शाहीन बाग के लोगों ने सरकार को बता दिया है। मैं जब जेल में था, तो दिल्ली में सर्दी ने 112 साल का रिकॉर्ड तोड़ा, लेकिन प्रदर्शन ने सब रिकॉर्ड तोड़ दिए। मैं रोज अखबार पढ़ता था कि कहीं मेरी बहनों पर लाठीचार्ज तो नहीं किया गया।' मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए भीम आर्मी चीफ ने कहा कि यह गूंगी-बहरी सरकार को जगाने के लिए आज लाखों मां-बहनें सड़क पर उतर गई हैं। पहले भी हमने जन आंदोलन में अंग्रेजों को भगाया था और अब काले अंग्रेजों को भगाएंगे। '

    पूर्व पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया का दावा- खबरी ने पहले ही दे दी थी गुलशन कुमार के मर्डर प्‍लान की जानकारी, लेकिन...

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Bhim Army chief throws CAA, NPR, NRC dare to Centre says- All three are divisive.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more