• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Bharat Ratna Award: 1954-2019 तक विजेताओं की सूची

|

नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया है, राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद थे, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रणब मुखर्जी को भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया, नाना जी देशमुख और भूपेन हजारिका को यह सम्मान मरणोपरांत दिया गया है। आपको बता दें कि देश के इस सर्वोच्च नागरिक सम्मान की शुरुआत 1954 से हुई, देश का पहला 'भारत रत्न' का सम्मान देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को प्रदान किया गया था, अभी तक 48 लोगों को ये सम्मान मिल चुका है।

कैसा होता है भारत रत्‍न

कैसा होता है भारत रत्‍न

भारत रत्न एक तांबे के बने पीपल के पत्ते जैसा होता है, जो 59 मिमी लंबा, 48 मिमी चौड़ा और 3 मिमी मोटा होता है। इसमें सामने की तरफ प्लेटिनम से सूरज का चित्र बना होता है। पूरे रत्न की किनारी को प्लेटिनम से बनाया जाता है। भारत रत्न के सामने की तरफ सूरज के चिह्न के साथ हिन्दी में 'भारत रत्न' लिखा होता है। इसके पीछे की तरफ अशोक स्तम्भ का चिह्न बना होता है और साथ में 'सत्यमेव जयते' लिखा होता है।

भारत रत्न 35 मिमी का एक गोल सोने का मेडल

इसके साथ ही एक सफेद रंग का रिबन भी लगा होता है, ताकि इसे आसानी से गले में पहना जा सके। 1954 में भारत रत्न 35 मिमी का एक गोल सोने का मेडल था, जिस पर चमकते सूरज के चिह्न के साथ 'भारत रत्न' लिखा होता था और पीछे की तरफ अशोक स्तंभ के साथ 'सत्यमेव जयते' लिखा होता था। हालांकि, इसके साल भर बाद ही इसका डिजाइन बदल दिया गया था।

यह पढ़ें: विजय माल्या के बेटे सिद्धार्थ ने एक साल से शराब को नहीं लगाया हाथ, जानिए क्या है वजह

सर्वपल्ली राधाकृष्णन को मिला था पहला भारत रत्न अवार्ड

सर्वपल्ली राधाकृष्णन को मिला था पहला भारत रत्न अवार्ड

आइए जानते है कि साल 1954 से लेकर 2019 तक किसे-किसे ये सम्मान मिल चुका है...

  • 1954 में डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (देश के दूसरे राष्ट्रपति)
  • 1954 में चक्रवर्ती राजगोपालाचारी (स्वतंत्रता संग्राम सेनानीअंतिम गवर्नर जनरल)
  • 1954 में डॉ. चन्द्रशेखर वेंकट रमन (नोबेल पुरस्कार विजेता, भौतिकशास्त्री)
  • 1955 में डॉ. भगवान दास (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, लेखक)
  • 1955 में सर डॉ. मौक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या (सिविल इंजीनियर, मैसूर के दीवान)
  • 1955 में पं. जवाहरलाल नेहरू (प्रथम प्रधानमंत्री, लेखक, स्वतंत्रता सेनानी)
  • 1957 में गोविंद वल्लभ पंत (स्वतंत्रता सेनानी, उप्र के पहले मुख्यमंत्री, देश के दूसरे गृहमंत्री)
  • 1957 में डॉ. धोंडो केशव कर्वे (शिक्षक और समाज सुधारक)
  • .1958 में डॉ. बिधान चन्द्र राय (चिकित्सक और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री)
  • 1961 में पुरुषोत्तम दास टंडन (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और शिक्षक)
 सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न'

सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न'

  • 1961 में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद (प्रथम राष्ट्रपति, स्वतंत्रता सेनानी, विधिवेत्ता)
  • 1963 में डॉ. जाकिर हुसैन (देश के तृतीय राष्ट्रपति)
  • 1963 में डॉ. पांडुरंग वामन काणे (भारतविद और संस्कृत के विद्वान)
  • 1966 में लाल बहादुर शास्त्री (देश के तीसरे प्रधानमंत्री, स्वतंत्रता सेनानी) मरणोपरान्त
  • 1971 में इंदिरा गांधी (देश की चौथी प्रधानमंत्री)
  • 1975 में वराहगिरी वेंकट गिरी (देश के चौथे राष्ट्रपति, श्रमिक संघवादी)
  • 1976 में के. कामराज (स्वतंत्रता सेनानी, मुख्यमंत्री मद्रास), मरणोपरान्त
  • 1980 में मदर टेरेसा (नोबेल पुरस्कार विजेता, कैथोलिक नन, मिशनरीज़ संस्थापक)
  • 1983 में आचार्य विनोबा भावे (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, समाज सुधारक)
  • 1987 मेंअब्दुल गफ्फार खान (स्वतंत्रता सेनानी, प्रथम अभारतीय)
  • 1988 में मरुदुर गोपाला रामचन्दम (अभिनेता, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री)
  • 1990 में डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर (भारतीय संविधान के वास्तुकार, राज‍नीतिज्ञ, अर्थशास्त्री) मरणोपरान्त
  • 48 लोगों को मिल चुका है ये सम्मान

    48 लोगों को मिल चुका है ये सम्मान

    • 1990 में नेल्सन मंडला (नोबेल पुरस्कार विजेता, रंगभेद विरोधी आंदोलन के नेता)
    • 1991 में राजीव गांधी (देश के सातवें प्रधानमंत्री) मरणोपरान्त
    • 1991 में सरदार वल्लभ भाई पटेल (देश के पहले गृहमंत्री, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी), मरणोपरान्त
    • 1991 में मोरारजी भाई देसाई (देश के पांचवें प्रधानमंत्री, स्वतंत्रता सेनानी)
    • 1992 में मौलाना अबुल कलाम आजाद (देश के प्रथम शिक्षा मंत्री, स्वतंत्रता सेनानी) मरणोपरान्त
    • 1992 में जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा (जेआरडी टाटा), (देश के जाने माने उद्योगपति) मरणोपरान्त
    • 1992 में सत्यजीत रे (फिल्म निर्माता, निर्देशक)
    • 1997 में एपीजे अब्दुल कलाम (देश के 11वें राष्ट्रपति, वैज्ञानिक)
    • 1997 में गुलजारीलाल नंदा (दो बार कार्यवाहक प्रधानमंत्री, स्वतंत्रता सेनानी)
    • 1997 में अरुणा आसिफ अली (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी), मरणोपरान्त
    • 1998 में एमएस सुब्बालक्ष्मी (शास्त्रीय संगीत गायिका)
    • 1998 में सी. सुब्रमण्यम (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, कृषि मंत्री)
    • 1998 में जयप्रकाश नारायण (स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ), मरणोपरान्त
    • साल 2014 में पहली बार किसी क्रिकेटर को मिला था भारत रत्न

      साल 2014 में पहली बार किसी क्रिकेटर को मिला था भारत रत्न

      • 1999 में पंडित रविशंकर (सितार वादक)
      • 1999 में अमर्त्य सेन (नोबेल पुरस्कार विजेता, अर्थशास्त्री)
      • 1999 में गोपीनाथ बोरदोलोई (स्वतंत्रता सेनानी, असम के मुख्यमंत्री), मरणोपरान्त
      • 39. 2001 में लता मंगेशकर (पार्श्व गायिका), जन्म 28 सितम्बर 1929
      • 2001 में उस्ताद बिस्मिल्ला खां (शहनाई वादक) जन्म 21 मार्च 1916, निधन 21 अगस्त 2006
      • 2008 में पंडित भीमसेन जोशी (शास्त्रीय गायक) जन्म 4 फरवरी 1922, निधन 24 जनवरी 2011
      • 2014 में सचिन तेंदुलकर (भारतीय क्रिकेटर)
      • 2014 मेंसीएनआर राव (जाने-माने वैज्ञानिक व केमेस्ट्री के विशेषज्ञ )
      • 2014 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (पूर्व प्रधानमंत्री)
      • 2014 मेंपं. मदनमोहन मालवीय ( शिक्षाविद, समाज सुधारक)
      • 2019 में प्रणब मुखर्जी ( पूर्व राष्ट्रपति)
      • 2019 में भूपेन हजारिका (गायक, संगीतकार)
      • 2019 में नानाजी देशमुख (समाज सुधारक)

यह पढ़ें: Article 370: पायल रोहतगी ने वीना मलिक को बताया भिखारी, मलाला को भी सुनाई खरी-खरी

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
List of Bharat Ratna Award Winners: 48 eminent personalities have received Bharat Ratna so far. Pranab Mukherjee, Bhupen Hazarika (posthumously) and Nanaji Deshmukh (posthumously) were honoured This year.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more