• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बेंगलुरु: IIS वैज्ञानिकों का दावा- लोगों में सांस की ध्वनि से पता लगाया जा सकता है कोरोना, रिजल्ट 93%

|
Google Oneindia News

बेंगलुरु, 02 जून। मरीजों में कोरोना वायरस महामारी की पहचान के लिए वैसे तो कई विकल्प आ गए हैं लेकिन अब एक नई तकनीक से कोविड का पता लगाना की खोज की गई है। अब तक यह बड़ा सवाल था कि क्या ध्वनि और लक्षणों का उपयोग करके कोविड का पता लगाया जा सकता है? इसका जवाब अब 'हां' में मिल गया है। बेंगलुरु स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने दावा किया कि ध्वनि विज्ञान और लक्षणों के सहारे मरीजों में लगभग 93 फीसदी सटीकता के साथ कोविड का पता लगाया जा सकता है।

Bengaluru IIS scientists claim corona can be detected by Sound-based diagnostic

भारतीय विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिक अपने शोध के परिणामों को अब अंतिम मंजूरी के लिए आईसीएमआर को सौंपने की तैयारी कर रहे हैं। वैज्ञानिकों ने 'कोसवारा' प्रोजेक्ट की शुरुआत पिछला साल कोरोना संक्रमण के बीच की थी। इसे कोरोना मरीजों में श्वसन, खांसी और बोलने की ध्वनि के आधार पर संक्रमण की पहचान करने के लिए टूल के तौर पर लॉन्च किया गया था। कोविड महामारी की शुरुआत के बाद मरीजों में ध्वनि विज्ञान के जरिए संक्रमण की करीब 93 फीसदी सटीकता के साथ पहचान करने में बड़ी सफलता मिली है।

    Coronavirus Lockdown: ICMR की सलाह, कहा- ये 3 शर्ते पूरी होने पर कही करें Unlock | वनइंडिया हिंदी

    यह भी पढ़ें: कोरोना का कहर: उत्तराखंड बोर्ड ने भी रद्द की 12वीं की परीक्षाएं, शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने किया ऐलान

    वैज्ञानिकों की टीम ने इस बात पर शोध किया कि स्वस्थ व्यक्तियों की श्वसन ध्वनियां किसी कोविड मरीज के सांस लेने की आवाज से कितना भिन्न होती है। इस शोध में 15-80 वर्ष के आयु वर्ग के करीब 1,699 वॉलंटियर्स ने अपना योगदान दिया, इनमें से 157 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे। वैज्ञानिकों ने स्वस्थ्य और संक्रमित वॉलंटियर्स के ध्वनि और लक्षण के नमूने एकत्र किए और उनकी जांच की। आईआईएससी के सहायक प्रोफेसर श्रीराम गणपति ने कहा, 'लोगों में कोरोना वायरस का पता लगाने में ध्वनि-आधारित मेडिकल विकल्प बेहद उपयोगी है। इससे कोरोना के 93% सटीकता का पता चलता है। हम शोध के परिणामों को आईसीएमआर को सौपने की प्रक्रिया पूरी कर रहे हैं।'

    English summary
    Bengaluru IIS scientists claim corona can be detected by Sound-based diagnostic
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X