• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बंगाल की 12 कक्षा की छात्रा का दावा-'मेरे मास्क से होगा कोरोना वायरस का खात्मा'

|

कोलकाता, 11 मई: कोरोना महामारी की दूसरी लहर में हर दिन संक्रतिमों की संख्‍या बढ़ती जा रही है। केंद्र और राज्य सरकारों के तमाम प्रयास के बावजूद ये कोरोना बेकाबू होता जा रहा है। वहीं अब तक कोरोना से बचाव के लिए कई उपाय ढूढ़े जा चुके हैं लेकिन बंगाल के पुरबा बर्धमान जिले की कक्षा 12 की छात्रा दिगंतिका बोस दावा किया है कि उसने ऐसे मास्‍क का अविष्‍कार किया है कि वह कोरोनोवायरस को मार सकता है। उसका ये मास्‍क गूगल के म्यूजियम ऑफ डिज़ाइन एक्सीलेंस में मुंबई में प्रदर्शित किया जाएगा।

pic

मीडिया से बात करते हुए दिगंतिका ने कहा कि उनके मास्‍क में तीन चैंबर हैं। एक निगेटिव आयन जनरेटर है जो हवा में धूल के कणों को फ़िल्टर करता है। जब फ़िल्टर की गई हवा दूसरे चैंबर में प्रवेश करती है, तो यह तीसरे तक पहुंचती है जो एक रासायनिक चैंबर है जिसमें साबुन और पानी का मिश्रण होता है - जो कोरोना वायरस को मार सकता है।

pic

दिगंतिका ने कहा, "हम जानते हैं कि साबुन का पानी वायरस को मारता है, इसलिए जब हवा तीसरे चैंबर में पहुंचती है, तो रासायनिक समाधान में वायरस को मारने की क्षमता होती है।" इसी तरह, अगर एक कोविड-संक्रमित व्यक्ति मास्क का उपयोग करता है, तो वे जिस हवा को बाहर निकालते हैं, वह इसी तरह की प्रक्रिया से गुजरेगी और वायरस के प्रसार को रोका जा सकता है।

दिगंतिका ने बताया कि उसने मास्क पर परीक्षण के लिए राज्य के स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया है और यह कोविड -19 के प्रसार के खिलाफ एक कारगर प्रयास हो सकता है। कक्षा 12 की छात्रा ने कहा कि उसने कोविड -19 महामारी की पहली लहर के दौरान ये मास्‍क बनाया था। उसने कहा, पिछले साल हुए लॉकडाउन के दौरान जो भी संसाधन मेरे पास थे, मैं बनाया। मुझे हमेशा से ऐसी चीजों में दिलचस्पी रही है।"दिगंतिका में हमेशा इस तरह के इनोवेशन में रुचि थी।

बता दें दिगंतिका ने इससे पहले सुंदरबन में स्थानीय लोगों के लिए चश्मे की एक जोड़ी बनाई गई थी जो लोगों को अपना सिर मोड़े बिना पीछे देख सकते थे। इससे जंगल में जंगली जानवरों से स्थानीय लोगों को मदद मिली जो पीछे से उनका शिकार कर सकते थे। दिगंतिका को तीन बार एपीजे अब्दुल कलाम इग्नाइट पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। तीसरी बार उसे एक आरामदायक मास्क बनाने के लिए सम्मानित किया गया जो कानों को तनाव नहीं देता है।

English summary
Bengal student Digantika Bose claimed that she designed a mask that would eradicate coronavirus.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X