• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बाबरी मामलाः फैसला सुनाने वाले पूर्व विशेष जज की सुरक्षा बढ़ाने से SC ने किया इंकार

|

नई दिल्ली। 28 वर्ष पुराने बाबरी विध्वंस मामले में फैसला सुनाने वाले विशेष अदालत के पूर्व जज सुरेंद्र कुमार यादव की निजी सुरक्षा बढ़ाने से सुप्रीम कोर्ट ने इंकार कर दिया है। इस हाई प्रोफाइल मामले में सभी 32 आरोपियों को विशेष जज रहे एसके यादव ने बरी कर दिया था। आरोपियों में वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी शामिल थे। सभीको 30 सितंबर को निर्देोष करार दिया गया था, जिससे 28 वर्ष पुराने मुकदमे का अंत हो गया था।

SC

छत्तीसगढ़ः DGP ने मासूम को सिगरेट की बट जलाने वाले पुलिसकर्मी को बर्खास्त करने के आदेश दिएछत्तीसगढ़ः DGP ने मासूम को सिगरेट की बट जलाने वाले पुलिसकर्मी को बर्खास्त करने के आदेश दिए

जस्टिस आरएफ नरीमन की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की पीठ पूर्व जज एसके यादव के सुरक्षा बढ़ाने वाले आवेदन पर विचार कर रही थी और सोमवार सुबह सुनवाई करते हुए पीठ ने कहा कि गत 30 सितंबर को लिखे पत्र के अनुसार हम सुरक्षा प्रदान करना उचित नहीं समझते हैं। पत्र में पूर्व जज ने मामले की संवदेनशीलता को देखते हुए अपनी निजी सुरक्षा का जारी रखने का आग्रह किया था।

SK

गौरतलब है 60 वर्षीय पूर्व जज एसके यादव वर्ष 2019 में रिटायर होने वाले थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने दशकों पुराने मामले की सुनवाई के लिए उनका कार्यकाल बढ़ा दिया था और रिटारमेंट के अंतिम दिन पूर्व जज ने सुनाए अपने फैसले में सभी 32 आरोपियों को बरी करने का फैसला सुनाया था।

LK

2021 विधानसभा चुनावः 5 नवंबर को पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर जाएंगे अमित शाह2021 विधानसभा चुनावः 5 नवंबर को पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर जाएंगे अमित शाह

पूर्व जज ने अपने फैसले में कहा कि केवल उत्तेजक भाषण देने के लिए विवादित ढांचे को गिराने का अपराध साबित करना पर्याप्त नहीं था। फैसले में कहा गया कि आरोपी नेताओं ने असामाजिक तत्वों को रोकने की कोशिश की और उनमें से किसी के खिलाफ साजिश का हिस्सा होने का कोई निर्णायक सबूत नहीं मिला।

LK

पुलवामा हमलाः शशि थरूर बोले, क्या सैनिकों की सुरक्षा की उम्मीद करने के लिए कांग्रेस माफी मांगे?पुलवामा हमलाः शशि थरूर बोले, क्या सैनिकों की सुरक्षा की उम्मीद करने के लिए कांग्रेस माफी मांगे?

अयोध्या विवादित ढांचे पर फैसले की सुनवाई में 351 सीबीआई गवाहों और लगभग 600 साक्ष्यों को शामिल किया गया था। मामले की सुननाई पूर्व विशेष जज ने गत 1 सितंबर को खत्म कर दी थी और सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित समय सीमा को पूरा करने के लिए अगले दिन से उन्होंने फैसला लिखना शुरू कर दिया था।

महामारीः 11000 से अधिक कर्मचारियों की छंटनी करने जा रहा है डिज्नी वर्ल्ड!महामारीः 11000 से अधिक कर्मचारियों की छंटनी करने जा रहा है डिज्नी वर्ल्ड!

English summary
The Supreme Court has refused to extend the personal security of Surendra Kumar Yadav, a former judge of the special court, who delivered the verdict in the 28-year-old Babri demolition case. In this high profile case, all the 32 accused were acquitted by Special Judge SK Yadav. The accused included senior BJP leaders LK Advani, Murali Manohar Joshi. All were declared innocent on September 30, ending the 28-year-old trial.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X