• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अयोध्‍या केस: बाबरी मस्जिद पर बाबर के वज़ूद पर उठे सवालों पर जब दंग रह गए थे लोग

|

बेंगलुरु। सुप्रीम कोर्ट में चल रहे अयोध्‍या राम मंदिर जन्‍मभूमि विवाद की सुनवाई आज समाप्‍त हो जाएगी। बुधवार को 40वें दिन अयोध्या मामले की आखिरी सुनवाई हो रही है। माना जा रहा हैं कि नवंबर माह में 130 साल से अधिक पुराने अयोध्‍या रामजन्‍मभूमि विवाद का ऐतिहासिक फैसला भी आ जाएगा। फैसला हिंदू पक्ष में सुनाया जाएगा या मुस्लिम पक्ष में यह तो आने वाला समय बताएगा। पिछले 6 अगस्‍त से सुप्रीम कोर्ट में लगातार चल रही सुनवाई के दौरान केस में जिरह के दौरान बीच बीच में कई ऐसे सवाल पूछे गए जो काफी रोचक थे। शीर्ष अदालत द्वारा पूछे गए सवाल केवल रोचक ही नहीं थे बल्कि हिंदू और मुस्लिम पक्षों के वकीलों को बगले झांकने पर मजबूर कर दिया। आइये जानते हैं सुप्रीम कोर्ट में लगातार चली सुनवाई के दौरान वकीलों से पूछे गए ऐसे ही दिलचस्‍प सवाल, जिसने कौतूहल उत्पन्‍न कर दिया।

क्या बाबर कभी अयोध्या आया था?

क्या बाबर कभी अयोध्या आया था?

28 अगस्त 2019 को हुई सुनवाई के दौरान बड़ी ही प्रमुखता के साथ इस मुद्दे को उठाया गया कि क्या कभी बाबर अयोध्या आया था? सुनवाई के दौरान राम जन्मभूमि पुनरुद्धार समिति के वकील पीएन मिश्रा ने तर्क दिया कि बाबर कभी शायद अयोध्या आया भी नहीं था। उनका तर्क इस तथ्य पर टिका था कि एक मंदिर को ध्वस्त कर दिया गया था, लेकिन मस्जिद बाबर द्वारा नहीं बनाई गई थी और सिर्फ एक नियमित मस्जिद थी। मिश्रा ने आइन-ए-अकबरी का भी हवाला दिया और कहा कि अकबर के नव रत्नों में शुमार अबुल फ़जल , हुमायूं नामा और तुजुक ए जहांगीरी का भी जिक्र किया और कहा कि इनमें से किसी किताब में इस बात का जिक्र नहीं है कि बाबर ने मस्जिद बनवाई थी।

क्या बाबर ने बाबरी मस्जिद को अल्लाह को समर्पित किया था?

क्या बाबर ने बाबरी मस्जिद को अल्लाह को समर्पित किया था?

ये सवाल तब उठा था जब मिश्रा इलाहबाद हाई कोर्ट में अपने पक्ष की बात रख रहे थे। 30 अगस्त को चली सुनवाई में ये मुद्दा फिर उठा और कहा गया कि इस बात का कहीं भी जिक्र नहीं है कि मस्जिद शरिया नियमों के अनुसार बनी। मिश्रा ने कहा था कि मुस्लिम पक्ष इस बात को साबित करने में नाकाम रहा कि बाबर ने 1528 में मस्जिद का निर्माण कराया। उन्होंने इस बात को भी बल दिया कि ऐसा कोई फोरम नहीं है जहां इस समस्या का समाधान निकल सके। तब सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बात को माना था कि ये कहना कि मस्जिद बाबर ने अल्लाह को समर्पित की थी परेशानी को और पेचीदा करेगा।

क्या बाबर किसी कानून के अधीन था?

30 सितम्बर को हुई सुनवाई में इस बात को बड़ी ही प्रमुखता से बल दिया गया कि बाबर ने इस्मालिक शरिया कानून का सहारा लेते हुए मंदिर तोड़ा। इसपर मुस्लिम पक्षकारों के वकील निज़ाम पाशा ने कहा कि शरोया तभी लागू होता है जब मुस्लिम शासक हो। पाशा ने ये भी कहा कि मस्जिद बनाने तक बाबर ने किसी भी उच्च अधिकारी को जवाब नहीं दिया। जिस वक़्त पाशा अपनी दलील दे रहे थे जस्टिस बोबेड़े ने उनसे कहा कि हम यहां ये देखने के लिए नहीं बैठे हैं कि बाबर अपराधी था या नहीं। हम यहां ये देख रहे हैं कि बाबर ने सही नियमों का पालन किया या नहीं। साथ ही वो किसी कानून के अधीन था या नहीं।

क्या मक्का में काबा निर्मित था या उसे बनाया गया ?

क्या मक्का में काबा निर्मित था या उसे बनाया गया ?

सुप्रीम कोर्ट में 3 सितम्बर को हुई सुनवाई के दौरान काबा का जिक्र भी हुआ। रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर जस्टिस बोबेड़े ने राजीव धवन से पूछा कि क्या मक्का में काबा निर्मित था या उसे बनाया गया? मुस्लिम पक्ष के वकील धवन ने कहा कि ये पैगंबर मोहम्मद की ही तरह पवित्र है और कहा कि सिर्फ एक भगवान है और एक ही भगवान है।

श्री राम का असली वंशज कौन है?

श्री राम का असली वंशज कौन है?

9 अगस्त को मामले की सुनवाई के पांचवे दिन अदालत ने सवाल किया कि कई सौ सालों पहले भगवान राम का जन्म हुआ। ऐसे में क्या अब भी कोई रघुवंशी वहां वास करता है? शीर्ष अदालत ने इसके लिए जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस.ए. नजीर को शामिल किया। कोर्ट को भी पता था कि इससे तमाम सवालों के जवाब मिलेंगे और ' दिव्य रक्त' के लिए दावेदारों की भीड़ सामने आएगी। दिलचस्प बात ये थी कि श्री राम का असली वंशज कौन है? इसके लिए 7 लोगों, जयपुर की पूर्व राजकुमारी और वर्तमान में भाजपा सांसद दीया कुमारी, पूर्व मेवाड़ राजपरिवार के सदस्य और होटल व्यवसायी अरविंद सिंह मेवाड़, करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी और राजस्थान के प्रताप सिंह खाचरिया ने अपनी दावेदारी पेश की और अपने को भगवान राम का असली वंशज होने के सबूत दिए। साथ ही 7 सितम्बर को मध्य प्रदेश के अलग अलग 15 जिलों से तकरीबन 2000 लोगों ने अयोध्या की यात्रा की और बताया कि भगवान राम के असली वंशज अभी जिंदा हैं।

जीसस क्राइस्ट के जन्म का मुद्दा

जीसस क्राइस्ट के जन्म का मुद्दा

8 अगस्त 2019 को कोर्ट की सुनवाई के दौरान हिंदू पक्ष विवादित स्थल को भगवान राम का जन्मस्थल मानते हुए इसे आस्था से जोड़ रहा था। इस पर सर्वोच्च न्यायालय ने पूछा कि क्या दुनिया में कहीं भी अयोध्या विवाद जैसी समानताएं हैं? अदालत ने ये भी पूछा कि क्या वो मामला कभी अदालत तक आया? जस्टिस एसए बोबड़े जो वरिष्ठता के आधार पर सीजेआई बनने के लिए कतार में हैं, ने हिंदू पक्ष के वकील के परासरन से पूछा कि क्या कहीं पर कोर्ट ने कभी ऐसा मामला देखा मसलन जीसस क्राइस्ट का जन्म? रामलला विराजमान के वकील परासरन ने कहा कि रामलला जो अदालत के अनुसार अभी बालिग नहीं है उनके पास इसका अभी कोई माकूल जवाब नहीं है मगर जब दलीलें बंद हो जाएंगी वो जवाब जरूर देंगे।

अयोध्या की भूमि दैवीय क्यों है?

अयोध्या की भूमि दैवीय क्यों है?

सुप्रीम कोर्ट ने हिंदू पक्ष से पूछा कि आखिर उन्हें ये क्यों लगता है कि अयोध्या की भूमि दैवीय भूमि ही? इस सवाल के मद्देनजर जस्टिस बोबेड़े ने मुस्लिम पक्षकारों से तमाम तरह क अलग अलग सवाल किये। कोर्ट के सवाल पर हिंदू पक्ष के वकील परासरन ने भी तमाम सवाल किये और कहा कि, कानूनी कल्पना वक़्त की जरूरत के अनुसार निर्मित की गई है। परासरन ने ये भी कहा कि स मामले में देवता के अधिकारों और दायित्वों को सुरक्षित रखना है।

 श्री राम के जन्म की सही जगह कौन सी है?

श्री राम के जन्म की सही जगह कौन सी है?

बाबरी मस्जिद को 1992 में गिराया गया था। एएसआई ने तब इस बात की पुष्टि नहीं की थी कि मस्जिद परिसर के अंदर कोई मंदिर था। मामले पर हिंदू पक्ष का कहना है कि न सिर्फ वहां मंदिर था बल्कि उसी स्थान पर भगवान राम का जन्म हुआ था। कोर्ट ने राम लल्ला के वकील से पूछा था कि वो बताएं कि श्री राम के जन्म की सही जगह कौन सी है? राम लल्ला के वकील सीएस वैद्यनाथन ने दावा पेश किया कि जिस जगह मस्जिद का केंद्रीय गुंबद था वहीं भगवान राम पैदा हुआ थे। आइल अलावा उन्होंने इलाहाबाद हाई कोर्ट के तीन जजों के हवाले से ये भी कहा कि तीन जज भी इस बात को मान चुके हैं कि विवादित स्थल पर मंदिर था। इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए वैद्यनाथन ने कहा कि इस फैसले से हाई कोर्ट इस बात को मान चुका है कि मस्जिद के केंद्रीय गुंबद के नीचे राम जन्मभूमि थी। साथ ही उन्होंने जस्टिस शर्मा की उस बात का भी हवाला दिया जिसमें उन्होंने पूरी प्रॉपर्टी को राम जन्मभूमि माना था। मामले को लेकर वैद्यनाथन ने ये भी तर्क पेश किया कि किसी भी स्थान के पवित्र होने के लिए मूर्ति का होना जरूरी नहीं है। उन्होंने तर्क दिया था कि यदि श्रद्धा की भावना है तो इसे धार्मिक प्रभावकारिता माना जाएगा।

क्या भगवान राम की आत्मा जन्मभूमि में और मूर्ति में आहूत है?

क्या भगवान राम की आत्मा जन्मभूमि में और मूर्ति में आहूत है?

1 अक्टूबर 2019 को मामले को लेकर सबसे दिलचस्प सवाल हुआ। कोर्ट ने पूछा कि क्या भगवान राम की आत्मा जन्मभूमि में और मूर्ति में आहूत है? शीर्ष अदालत के इस सवाल का जवाब देते हुए हिंदू पक्ष के वकील परासरन ने कहा कि 'भगवान की छवि खुदी हुई है या मूर्ति चल सकने योग्य है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। न्यायवादी व्यक्ति आत्मा की अभिव्यक्ति से आता है।

अयोध्‍या राम मंदिर केस: 130 वर्ष पुराने विवाद के लिए 1000 से अधिक किताबें पलट चुके हैं वकील

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
During the Supreme Court hearing of the Ayodhya dispute, many interesting questions have been asked so far, including the history of Lord Ram and Babur, such as Did Babur ever come to Ayodhya?
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more