India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

'आश्वासन देने वाले ये मोहन या नड्डा कौन हैं...', आखिर क्यों RSS और भाजपा पर भड़क गए ओवैसी

|
Google Oneindia News

हैदराबाद 4 जून: अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को ज्ञानवापी विवाद पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत द्वारा की गई टिप्पणियों की आलोचना करते हुए कहा कि "विहिप के गठन से पहले अयोध्या संघ के एजेंडे में भी नहीं थी।'' ओवैसी ने कहा कि मोहन भागवत के बयान को हल्के में नहीं लिया जा सकता है। ओवैसी ने बाबरी मस्जिद जैसी घटना ज्ञानवापी के साथ होने की भी जताई।

Gyanvapi Case: RSS Chief Mohan Bhagwat के बयान पर Asaduddin Owaisi का हमला | वनइंडिया हिंदी | #news
'वे ज्ञानवापी पर भी कुछ ऐसा ही करेंगे?...'

'वे ज्ञानवापी पर भी कुछ ऐसा ही करेंगे?...'

एएनआई के साथ बातचीत में, एआईएमआईएम प्रमुख ओवैसी ने कहा, "ज्ञानवापी पर भागवत के भाषण को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। बाबरी मस्जिद के लिए आंदोलन को याद करें जो ऐतिहासिक कारणों से आवश्यक था। उस समय, आरएसएस ने सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का सम्मान नहीं किया और इसमें भाग लिया। फैसले से पहले मस्जिद को तोड़ा। क्या इसका मतलब यह है कि वे ज्ञानवापी पर भी कुछ ऐसा ही करेंगे?"

नड्डा और भागवत के मंशा पर उठाए सवाल

नड्डा और भागवत के मंशा पर उठाए सवाल

असदुद्दीन ओवैसी ने भाजपा प्रमुख जगत प्रकाश नड्डा और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत द्वारा दिए गए देश में शांति और सद्भाव सुनिश्चित करने के आश्वासन पर भी सवाल उठाया। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, "इन मुद्दों पर आश्वासन देने के लिए मोहन या नड्डा कौन हैं? उनके पास कोई संवैधानिक पद नहीं है। प्रधानमंत्री कार्यालय को इस मुद्दे पर और पूजा स्थल अधिनियम, 1991 के बारे में एक स्पष्ट संदेश दें। उन्होंने संविधान पर शपथ ली है। अगर वह इसके साथ खड़े होते हैं, तो इन सभी हिंदुत्व को रोकना होगा।''

'अयोध्या मंदिर संघ के एजेंडे में भी नहीं था...'

'अयोध्या मंदिर संघ के एजेंडे में भी नहीं था...'

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, "विश्व हिंदू परिषद (आरएसएस का एक संगठन) बनने से पहले, अयोध्या मंदिर संघ के एजेंडे में भी नहीं था। 1989 में ही भाजपा के पालनपुर प्रस्ताव में कहा गया था कि अयोध्या एजेंडे का हिस्सा बन गया है। आरएसएस ने सिद्ध किया है कि राजनीतिक दोहरापन उनमें है। काशी, मथुरा, कुतुब मीनार आदि पर विवाद उठाने वाले सभी जोकरों का संघ से सीधा संबंध है।"

बता दें कि विश्व हिंदू परिषद का गठन 1964 में आरएसएस नेताओं एमएस गोलवलकर और एसएस आप्टे द्वारा किया गया था। आरएसएस का गठन सितंबर 1925 में हुआ था।

'बाबरी के दौरान भी उन्होंने कहा कि कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे...'

'बाबरी के दौरान भी उन्होंने कहा कि कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे...'

ओवैसी ने तीखी टिप्पणी में कहा, "संघ की पुरानी रणनीति है कि जब चीजें अलोकप्रिय होती हैं तो बाद में उनका मालिक बन जाता है। कोई भी गोडसे और उनके दोस्त सावरकर को याद करता है?"

ओवैसी ने आगे कहा, "बाबरी मस्जिद आंदोलन के दौरान भी, कुछ लोगों ने कहा कि वे शीर्ष अदालत के आदेशों का पालन करेंगे, जबकि अन्य ने कहा कि यह आस्था का मामला है और अदालत फैसला नहीं कर सकती। आप जानते हैं कि ये लोग कौन हैं।"

ये भी पढ़ें-काशी का सिर्फ ज्ञानवापी ही नहीं, इन 5 मस्जिदों पर भी हिंदू करते हैं मंदिर पर बने होने का दावाये भी पढ़ें-काशी का सिर्फ ज्ञानवापी ही नहीं, इन 5 मस्जिदों पर भी हिंदू करते हैं मंदिर पर बने होने का दावा

Comments
English summary
Asaduddin Owaisi lashes out at RSS chief over Gyanvapi row
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X