ATM की लाइन में देशभक्ति सिखाने वाले युवक को सेना के जवान ने दिया करारा जवाब

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। मोदी सरकार की ओर से 500 और 1000 रुपये के नोट बंद किए जाने की घोषणा के तीन हफ्ते बाद भी बैंकों और एटीएम के बाहर लाइन छोटी नहीं हो रही।

Bank

इस फैसले का कुछ लोग समर्थन कर रहे हैं तो विरोध भी हो रहा है। सरकार के फैसले का समर्थन करने वाले लोग उदाहरण देते हैं कि सीमा पर जवान दिन रात खड़े रह सकते हैं तो आम जनता क्यों नहीं। ऐसे ही एक युवक को पूर्व सैनिक ने दिया करारा जवाब।

400 रुपए के लिए परेशान थी यूपी की बेटी, PMO ने की मदद

बैंक एटीएम की लाइन में खड़े एक पूर्व सैनिक ने वहां मची अव्यवस्था पर गुस्सा जाहिर किया तो उनके पीछे खड़े युवक ने देशभक्ति की बात शुरू कर दी। उसने बिना यह जाने कि सामने वाला व्यक्ति कौन है, कहना शुरू किया सीमा पर जवान 20 घंटे खड़ा रह सकता है तो आपको थोड़ी देर लाइन में खड़े होने में क्या परेशानी है।

पढ़ें: चेन्नई में हिरासत में लिए गए DMK नेता एमके स्टालिन, देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी

20 साल तक सेना में रहे

20 साल तक सेना में रहकर देश की सेवा करने वाले दर्शन ढिल्लो एटीएम से अपनी पेंशन के पैसे निकालने गए थे। उन्होंने शनिवार को फेसबुक पर इस घटना का जिक्र किया और बताया कि युवक को क्या जवाब दिया कि वह चुप हो गया।

पढ़ें: नोटबंदी पर विपक्ष के 'जन आक्रोश दिवस' का बीजेपी ने ऐसे दिया जवाब

सेना के जवान ने दिया ये जवाब

दर्शन ढिल्लो ने लिखा, 'मैं एटीएम की लाइन में खड़ा था और एक अच्छे फैसले पर कुप्रबंधन से थोड़ा नाराज था। मेरे पीछे खड़े मोदी भक्त ने तुरंत कहा कि अगर सेना का जवान 20 घंटे सीमा पर खड़ा रहा सकता है तो मैं क्यों नहीं।

मेरा जवाब सुनकर उसकी सारी देशभक्ति निकल गई। मैंने उसे बताया कि मैं 20 साल सेना में रहा और अपनी पेंशन का पैसा निकालने के लिए यहां लाइन में खड़ा हूं। अगर उसे देशभक्ति दिखानी है तो हमें असल वन रैंक वन पेंशन और सीपीसी का लाभ मोदी जी से दिलाकर दिखाए। बजाय इसके कि एटीएम की लाइन में खड़े होकर सर्टिफिकेट बांटे।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
army person gave a curt reply to modi bhakt at an ATM queue.
Please Wait while comments are loading...