• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चीन को जवाब देने के लिए अरुणाचल में भी सेना तैयार, आर्मी चीफ ने जमीनी हालात का लिया जायजा

|

नई दिल्ली: लद्दाख में जारी सीमा विवाद को तीन महीने से ज्यादा का वक्त हो गया है। भारत की तमाम चेतावनियों के बाद भी चीन सीमा पर अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। हाल ही में खबर आई थी कि चीन ने अरुणाचल से लगती सीमा पर सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है, जिस वजह से भारतीय सेना ने भी वहां अपनी स्थिति मजबूत कर ली है। इस बीच गुरुवार को सेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे पूर्वोत्तर के दौरे पर पहुंचे।

    India China Tension : भारत ने चीन से शांति और गंभीरता से काम करने की दी सलाह | वनइंडिया हिंदी

    चीन के ‘जीन’ में है विस्तारवाद , उसकी जमीन हड़पो नीति से भारत समेत दुनिया के 23 देश परेशान

    china, india china, arunachal pradesh

    सैन्य अधिकारियों के मुताबिक सेना प्रमुख दिल्ली से वायुसेना के विशेष विमान से असम के तेजपुर पहुंचे। इसके बाद वहां स्थित सेना की फोर-कोर यानि गजराज कोर के मुख्यालय में अधिकारियों से मुलाकात की। फोर कोर के अंतर्गत अरुणाचल से लगती सीमाएं भी आती हैं। इस दौरान सेना प्रमुख के साथ पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान भी मौजूद थे। मुख्यालय के अधिकारियों ने सेना प्रमुख को एलएसी के जमीनी हालात के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

    सैटेलाइट ने खोली थी चीन की पोल

    आपको बता दें कि डीआरडीओ की ओर से संचालित खुफिया सैटेलाइट ईएमआइसैट ने कुछ दिनों पहले चीन के कब्जे वाले तिब्बत की ताजा तस्वीरें हासिल की थीं। जिसमें साफ दिख रहा था कि अरुणाचल से लगती सीमा पर चीन बड़े पैमाने पर सैनिकों की तैनाती कर रहा है। इस मिशन के दौरान रेडियो और रडार सिग्नलों की भी निगरानी की गई थी। इस रिपोर्ट के बाद अरुणाचल से लगती सीमा पर भी भारतीय सेना ने अपनी स्थिति को और मजबूत कर लिया था।

    जम्मू कश्मीर: चंद मिनटों के भीतर दो आतंकी हमले, BJP सरपंच को गोली मारी

    लद्दाख में सेना ने उतारा टैंक

    सूत्रों के मुताबिक चीन ने दौलत बेग ओल्डी (DOB) और देपसान्ग प्लेन्स में 17 हजार के करीब जवानों की तैनाती कर दी है। खबर सामने आते ही भारतीय सेना भी हरकत में आई और वहां पर टी-90 टैंक रेजीमेंट को तैनात कर दिया। ये तैनाती काराकोरम दर्रे के पास पेट्रोलिंग प्वाइंट 1 से लेकर देपसान्ग प्लेन्स तक की गई है। न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक चीन ने तैनाती अप्रैल से मई के बीच में की थी। इसके बाद से वो इस इलाके में पीपी-10 से पीपी 13 तक भारतीय सेना को निगरानी से रोक रहे हैं।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    army Chief MM Naravane review Operational Situation in Tezpur
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X