• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

PETA की सलाह पर अमूल के एमडी का जवाब, पूछा 100 करोड़ डेयरी किसानों को आजीविका कौन देगा?

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली, 29 मई: अमेरिकन एनिमल राइट्स ऑर्गनाइजेशन द पीपल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (PETA) ने बाजार में हो रहे बदलावों के जवाब में अमूल इंडिया से डेयरी दूध के बजाय शाकाहारी दूध का प्रोडक्शन करने का अनुरोध किया था। PETA ने अमूल के मैनेजिंग डायरेक्टर आरएस सोढ़ी को एक पत्र लिखकर अमूल से "बढ़ते शाकाहारी भोजन और दूध बाजार से लाभ उठाने" का आग्रह किया, जिसके बाद से ट्विटर पर इसे लेकर एक बड़ी बहस छिड़ गई। पेटा का सुझाव पर गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड द्वारा प्रबंधित एक भारतीय डेयरी सहकारी समिति, अमूल ने अब इसका जवाब दिया है।

pic

100 करोड़ किसानों को रोजगार कौन देगा?

अमूल कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर आर एस सोढी ने ट्विटर पर पेटा से सवाल किया है कि हमारे स्विच करने से 100 मिलियन डेयरी किसान, जिनमें से 70% भूमिहीन हैं, उनकी आजीविका चल जाएगी और वे अपने बच्‍चों की फीस भर सकेंगे इसके साथ ही कितने लोग वास्‍तव में लैब में बना दूध खरीद सकते हैं।भारत में कितने लोग वास्तव में लैब निर्मित दूध का खर्च उठा सकते हैं। क्या वे 10 करोड़ डेयरी किसानों (70% भूमिहीन) को आजीविका देंगे? उनके बच्चों की स्कूल फीस कौन देगा? कितने लोग रसायन और सिंथेटिक विटामिन से बने महंगे लैब निर्मित कारखाने के भोजन का खर्च उठा सकते हैं? "

ये किसानों के पैसे से बनाए गए संसाधनों को बाजारों को सौंपना होगा

बता दें अमूल एक सहकारी संस्था होने के कारण सीधे डेयरी किसानों से दूध खरीदती है। एमडी सोढ़ी ने पशु अधिकार समूह पर निशाना साधते हुए दावा किया कि शाकाहारी दूध पर स्विच करने का मतलब होगा किसानों के पैसे का उपयोग करके बनाए गए संसाधनों को बाजारों को सौंपना जो कि नगर निगमों द्वारा उत्पादित आनुवंशिक रूप से संशोधित सोया मिल्‍क को अत्‍यधिक कीमतों पर बेचते हैं।

मध्‍यम वर्ग के लोग शाकाहारी दूध का खर्च नहीं उठा पाएगा

सोढ़ी ने यह भी कहा कि शाकाहारी दूध पर स्विच करने से मध्यम वर्ग के लिए एक आवश्यक वस्तु अप्राप्य हो जाएगी जो शाकाहारी दूध का खर्च मध्‍यम वर्ग नहीं उठा पाएगा। उन्होंने कहा क्‍या "पेटा चाहती है कि अमूल 100 मिलियन गरीब किसानों की आजीविका छीन ले और 75 वर्षों में निर्मित अपने सभी संसाधनों को सौंप दे किसानों के पैसे से अमीर बहुराष्ट्रीय कंपनियों के आनुवंशिक रूप से संशोधित सोया दूध को अत्यधिक कीमतों पर बाजार में बेचा जाता है, जिसे औसत निम्न मध्यम वर्ग उसका खर्च नहीं उठा सकता है।

दुनिया भर में डेयरी उत्पादों की मांग घट रही
पेटा ने सोढ़ी को लिखे अपने पत्र में वैश्विक खाद्य निगम कारगिल की 2018 की रिपोर्ट का हवाला दिया, जिसमें दावा किया गया है कि दुनिया भर में डेयरी उत्पादों की मांग घट रही है क्योंकि डेयरी को अब आहार का एक अनिवार्य हिस्सा नहीं माना जाता है।

  • पेटा ने दावा किया कि नेस्ले और डैनोन जैसी वैश्विक डेयरी कंपनियां गैर-डेयरी दूध निर्माण में हिस्सेदारी हासिल कर रही हैं, इसलिए अमूल को शाकाहारी उत्पादों में भी कदम रखने के बारे में सोचना चाहिए।
  • पेटा ने दावा किया कि चल रहे कोविड -19 महामारी ने लोगों को बीमारियों और जूनोटिक वायरस के बीच की कड़ी के बारे में अधिक जागरूक किया है। पेटा ने सुझाव दिया अमूल को देश में उपलब्ध 45,000 विविध पौधों की प्रजातियों का उपयोग करना चाहिए और शाकाहारी वस्तुओं के लिए उभरते बाजार का लाभ उठाना चाहिए।
  • माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर गंभीर प्रतिक्रिया का सामना करने के बाद, पेटा ने कहा कि यह सिर्फ अमूल को शाकाहारी खपत के मौजूदा रुझानों के बारे में सूचित कर रहा था और सहकारी को मौजूदा रुझानों के जवाब में स्मार्ट व्यवसाय विकल्प बनाने के लिए "प्रोत्साहित" कर रहा था।
  • भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) के अनुसार सभी प्रकार के पौधे आधारित दूध 'दूध' की परिभाषा के अंतर्गत नहीं आते हैं। अमूल का दावा है कि "पौधे आधारित पेय पदार्थ डेयरी उत्पादों के रूप में प्रतिरूपण और मुखौटा कर रहे हैं"।
  • बता दें अमूल ने पहले 24 मार्च को "जनहित में" कुछ विज्ञापन प्रकाशित किए थे, जिसमें कहा गया था कि "प्लांट-आधारित डेयरी एनालॉग उत्पाद जैसे सोया पेय दूध नहीं हैं"। जवाब में, पेटा, ब्यूटी विदाउट क्रुएल्टी (बीडब्ल्यूसी) और शरण इंडिया ने एडवरटाइजिंग स्टैंडर्ड काउंसिल ऑफ इंडिया (एएससीआई) में शिकायत दर्ज कराई, जिसमें कहा गया था कि विज्ञापन में किए गए दावे झूठे थे। ASCI ने विज्ञापन को सही माना और तीनों शिकायतों को खारिज कर दिया।
  • ASCI ने अमूल द्वारा किए गए दावों को सही ठहराया कि डेयरी दूध पौष्टिक और कैल्शियम, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट, वसा, खनिज और प्रोटीन का एक समृद्ध स्रोत है।
https://hindi.oneindia.com/photos/top-news-of-29-may-oi62210.html

English summary
Amul MD's reply on PETA's suggestions - Who will give livelihood to 10 crore dairy farmers?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X