• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट ने सरकार से गैर-आवश्यक वस्तुओं की बिक्री की अनुमति मांगी

|

नई दिल्ली। 3 मई के बाद भारत में लॉकडाउन के बढ़ने की संभावनाओं के बीच ई-कॉमर्स कंपनी अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट ने सरकार से लॉकडाउन पर गैर-आवश्यक वस्तुओं की बिक्री की अनुमति देने का अनुरोध किया है। चूंकि गत 3 मई को पिछले 40 दिनों से भारत में जारी लॉकडाउन की अवधि समाप्त हो रही है और लॉकडाउन के विस्तार की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा रहा है।

E commerce

अमेजन इंडिया ने जारी बयान में जोर दिया है कि लंबे लॉकडाउन अवधि में लोगों को आवश्यक चीजों के अतिरिक्त भी अन्य उत्पादों की जरूरत होगी। ई-कॉमर्स कंपनियों ने सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित करते हुए गैर-आवश्यक सूची में दर्ज वस्तुओं को सुरक्षित डिलीवरी का वादा किया है।

महामारी के बीच ऑनलाइन आर्डर में आई तेजी, अमेज़न 75,000 नए कर्मचारियों की करेगा भर्ती

E commerce

दरअसल, लॉकडाउन की घोषणा के बाद से ही ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर गैर-आवश्यक वस्तुओं की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अमेज़न इंडिया ने अनुरोध किया कि ई-कॉमर्स कंपनियों को महामारी के खिलाफ संयुक्त लड़ाई में अपनी भूमिका निभाने में सरकार अनुमति देकर सक्षम करें।

E commerce

अमेजन इंडिया चीफ ने कहा कि ई-कॉमर्स सोशल डिस्टेंसिंग पालन करते हुए नागरिकों की उनकी जरूरतों की चीजें विक्रेताओं / खुदरा विक्रेताओं के जरिए सुरक्षित तरीके से पहुंचाती है। हम नागरिकों को सुरक्षित रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं और सरकार से आग्रह करते हैं कि ई-कॉमर्स को महामारी के खिलाफ संयुक्त लड़ाई में अपनी भूमिका निभाने में सक्षम बनाने के लिए सभी सामानों की आपूर्ति की अनुमति प्रदान करे।

Covid19: लॉकडाउन के कारण अकेले विमानन क्षेत्र में खतरे में हैं 20 लाख नौकरियां!

E commerce

कंपनी ने आगे कहा है कि उन्हें सभी सामान बेचने की अनुमति देने से "हजारों छोटे व्यवसायों को अपनी आजीविका चलाने में मदद मिलेगी। वहीं, फ्लिपकार्ट ने जारी एक बयान में कहा है कि ई-कॉमर्स MSME के ढेरों भार को कम करने और उनके उत्पादों को सुरक्षित तरीके से उपभोक्ताओं को वितरण में मदद करने में मदद कर सकता है।

E commerce

गौरतलब है वर्तमान में केवल आवश्यक सामानों में शामिल भोजन, चिकित्सा उपकरण, दवा आदि को इन ई-कॉमर्स कंपनियों के माध्यम से वितरित करने की अनुमति दी जा रही है। हालांकि मोबाइल फोन आदि जैसी चीजों को आवश्यक वस्तुओं की सूची में शामिल करने के लिए उत्पादों की सूची के विस्तार करने के बारे में चर्चा हुई है, लेकिन सरकार ने फिर उसे वापस ले लिया और सभी गैर-जरूरी चीजों के खिलाफ प्रतिबंध जारी रखा है।

लॉकडाउनः सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को 20,000 करोड़ का राहत पैकेज दे सकती है सरकार

E commerce

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शनिवार देर रात को जारी एक आदेश में कहा कि यह स्पष्ट किया जाता है कि ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा बिक्री केवल आवश्यक वस्तुओं के लिए ही जारी रहेगी।" हालांकि उक्त आदेश में मॉल और शॉपिंग कॉम्प्लेक्स को छोड़कर आवासीय क्षेत्रों में मौजूद सभी दुकानों को फिर से खोलने की अनुमति दी गई है।

E commerce

वैसे, आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति को संभालने वाले सभी वितरण एजेंटों को व्यक्तिगत राज्य सरकारों से काम करने की अनुमति लेनी होती है।

लॉकडाउन के कारण 60 सालों में पहली बार थम जाएगा एशियाई देशों का विकास- IMF

E commerce

उल्लेखनीय है ज्यादातर ई-कॉमर्स कंपनियों को लॉकडाउन की घोषणा के बाद से सेवाओं और व्यवसायों में मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। फिलहाल लॉकडाउन 3 मई तक लागू है और इसकी उच्च संभावना है कि लॉकडाउन को और लंबे समय तक बढ़ाया जा रहा है।

Covid 19: महामारी के चलते दुनिया में भुखमरी दोगुनी हो सकती है: संयुक्त राष्ट्र

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In a statement issued by Amazon India, it has been emphasized that in the long lockdown period people will need other products besides essential things. E-commerce companies have promised safe delivery of items on the non-essential list while ensuring social distancing. Since the last 40 days of the ongoing lockdown in India is ending on 3 May and the possibility of extension of the lockdown is not ruled out.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X