• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बुझाई नहीं, शिफ्ट होगी अमर जवान ज्योति: सरकार ने विपक्ष पर साधा निशाना, 'फैलाई जा रही गलत सूचना'

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 21 जनवरी। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में राजपथ पर तैयारियां जोरों-शोरों से जारी है। इस बीच दावा किया गया कि दिल्ली के इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति की लौ को बुझाया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक अब केंद्र सरकार ने ऐसी किसी भी प्रक्रिया की योजना को खारिज कर दिया है। सरकार ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए फैलाई जा रही इस 'गलत जानकारी' पर विराम लगा दिया है। सरकारी सूत्रों ने कहा कि दिल्ली के इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति की लौ बुझाई नहीं जा रही है, उसे सिर्फ राष्ट्रीय युद्ध स्मारक (नेशनल वॉर मेमोरियल) की मशाल में विलीन किया जा रहा है।

Amar Jawan Jyoti will not be extinguished Government says misinformation being spread

सरकार का यह स्पष्टीकरण उन खबरों के बीच आया है कि गणतंत्र दिवस से पहले 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले सैनिकों की याद में जलाई गई अमर जवान ज्योति की लौ को बुझाया जाएगा और उससे सटे राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में आग में मिला दिया जाएगा। .सूत्रों ने कहा, 'अमर जवान ज्योति की लौ के बारे में बहुत सारी गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं। यह देखना अजीब है कि अमर जवान ज्योति की लौ ने 1971 और अन्य युद्धों के शहीदों को श्रद्धांजलि दी, लेकिन उनका कोई भी नाम वहां मौजूद नहीं है।

यह भी पढ़ें: जानें 1972 से इंडिया गेट पर जल रही अमर जवान ज्योति का इतिहास, आज से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगी मशाल

सूत्रों ने आगे कहा, 'इंडिया गेट पर अंकित नाम केवल कुछ शहीदों के हैं, जिन्होंने प्रथम विश्व युद्ध और एंग्लो-अफगान युद्ध में अंग्रेजों के लिए लड़ाई लड़ी थी और इस तरह यह हमारे औपनिवेशिक अतीत का प्रतीक है।' 1971 और उसके पहले और बाद के युद्धों सहित अन्य लड़ाई के सभी भारतीय शहीदों के नाम राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में अंकित किए गए हैं। सरकारी सूत्रों ने कहा कि इसलिए शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करना एक सच्ची श्रद्धांजलि है। सरकार ने विपक्ष पर भी निशाना साधते हुए इस कदम पर उनकी आलोचना को 'विडंबना' बताया। सरकारी सूत्रों ने कहा, 'यह विडंबना है कि जिन लोगों ने सात दशकों तक राष्ट्रीय युद्ध स्मारक नहीं बनाया, वे अब हमारे शहीदों को स्थायी और उचित श्रद्धांजलि दे रहे हैं।'

Comments
English summary
Amar Jawan Jyoti will not be extinguished Government says misinformation being spread
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X