• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

दिल्ली हिंसा गंभीर मुद्दा, चर्चा से भागें नहीं, संसद में आकर जवाब दें मोदी-शाह: अधीर रंजन चौधरी

|

नई दिल्ली। कांग्रेस सासंद अधीर रंजन चौधरी ने दूसरे दिन भी संसद के बजट सत्र स्थगित होने के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, सदन को दिल्ली में हुई हिंसा को प्राथमिकता देनी चाहिए क्योंकि वह गंभीर मुद्दा है। अधीर रंजन चौधरी ने कहा, हमारी मांग है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह सदन में आकर इस चर्चा में भाग लें और हमारे सवालों का जवाब दें। गौरतलब है कि संसद में बजट सत्र का दूसरा चरण भी आज हंगामें की भेंट चढ़ गया, मंगलवार को दोनों सदनों में दिल्ली हिंसा को लेकर जोरदार हंगामा हुआ।

adhir ranjan chowdhury said that Delhi violence is a serious issue come to Parliament and answer Narendra Modi and Amit Shah

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने अपने बयान में कहा, सरकार कहती है कि वह चर्चा के लिए तैयार है लेकिन जब समय आता है तो वह स्पीकर पर छोड़ देती है। सदन में स्पीकर भी कहते हैं चर्चा होगी लेकिन माहौल शांत होने के बाद। कांग्रेस सांसद ने मांग की है कि दिल्ली हिंसा की गंभीरता को समझते हुए सरकार को इस पर चर्चा करनी होगी। चौधरी ने आगे कहा, मोदी सरकार कहती है कि हम होली के बाद ही चर्चा करेंगे उससे पहले नहीं, क्या सदन में चर्चा करने का अधिकार हमें नहीं है? सरकार हिंसा की गंभीरता पर ध्यान नहीं दे रही है। अधीर रंजन चौधरी ने आरोप लगाते हुए कहा कि, मोदी सरकार चर्चा नहीं करना चाहती इसलिए वह टाल-मटोल कर रही है। कांग्रेस सासंद ने कहते हैं कि उनको लगता है मोदी सरकार के पास हमरे सवालों का कोई जवाब नहीं है।

कल तक के लिए स्थगित हुई कार्यवाही

लगातार हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही बाधित होती रही। विपक्ष के जोरदार हंगामे के बाद स्पीकर ने लोकसभा की कार्यवाही को बुधवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया। राज्यसभा में भी इस मुद्दे पर हंगामा देखने को मिला। कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा कि दिल्ली में जो कुछ हुआ वह बेहद गंभीर है। हम जब चर्चा की मांग करते हैं तो सरकार कहती है कि माहौल सामान्य नहीं है। बता दें कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली के इलाकों में 24-25 फरवरी को हुई हिंसा में 47 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि इस हिंसा में 250 से लोग घायल हुए हैं। इस हिंसा के दौरान आईबी अफसर अंकित शर्मा और हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की जान चली गई, करोड़ों रुपए की संपत्ति का नुकसान हुआ है।

शिक्षक ने बेरोजगार युवक को अपनी जगह पढ़ाने स्कूल भेजा, कहा- 5 हजार दे दिया करूंगा; सस्पेंड

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
adhir ranjan chowdhury said that Delhi violence is a serious issue come to Parliament and answer Narendra Modi and Amit Shah
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X