• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

किसने बनाया आरोग्य सेतु ऐप? सरकार ने बयान जारी कर दी जानकारी

|

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के दौरान भारत में जहां हर जगह आरोग्य सेतु ऐप अनिवार्य कर दिया गया था, अब इस ऐप को लेकर सवालिया-निशान खड़े हो रहे हैं। सरकारी वेबसाइटों को डिजाइन करने वाले नैशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर ने कहा है कि आरोग्य सेतु ऐप को किसने बनाया, यह उसे पता ही नहीं है। अब सरकार की ओऱ से इस पर सफाई आई है। आरोग्य सेतु ऐप के निर्माण को लेकर भारत सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि, कहा- ऐप को उद्योग और शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों के सहयोग से बनाया गया है।

    NIC को नहीं पता Aarogya Setu App किसने बनाया?, RTI ने Ministry को भेजा Notice | वनइंडिया हिंदी

    Aarogya Setu App built in collaboration with the best of the minds of industry & academia

    दरअसल सौरव दास नाम के एक शख्स ने चीफ इन्फॉर्मेशन कमीशन में शिकायत दर्ज कराई थी। दास ने दावा किया था कि उन्होंने आरोग्य सेतु ऐप को बनाने वाले के बारे में जानकारी के लिए एनआईसी, नेशनल ई-गवर्नेंस डिविजन और मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी से संपर्क किया था। न तो एनआईसी और न ही मिनिस्ट्री ने उन्हें इस बारे में कोई जानकारी दी है।

    इसके बाद केंद्रीय सूचना आयोग ने मंगलवार को नेशनल इन्फॉर्मेटिक सेंटर (NIC) से जवाब मांगा था। सीआईसी ने पूछा कि, जब आरोग्य सेतु ऐप के वेबसाइट पर उनका नाम है, तो फिर उनके पास ऐप के डेवलपमेंट को लेकर को डिटेल क्यों नहीं है? आयोग ने इस संबंध में कई चीफ पब्लिक इन्फॉर्मेशन अधिकारियों सहित नेशनल ई-गवर्नेंस डिवीजन , इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और NIC को कारण बताओ नोटिस भेजा था।

    जिसके बाद आज सरकार ने अपनी पक्ष रहा है। सरकार ने बताया कि, आरोग्य सेतु ऐप के निर्माण उद्योग और शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों के सहयोग से बनाया गया है। इससे पहले राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया कि, आरोग्य सेतु ऐप जासूसी करने का सिस्टम है और इसे बिना किसी संस्थान की निगरानी के प्राइवेट ऑपरेटर को सौंप दिया गया है। यह डाटा और निजता को लेकर गंभीर चिंता पैदा करता है। तकनीक हमें सुरक्षित रखने में मदद कर सकती है, पर इसका भी डर है कि इसका फायदा बिना किसी नागरिक की मंजूरी के उसे ट्रैक करके उठाया जाए।

    महाराष्ट्र सरकार ने रेलवे को फिर से लोकल ट्रेनें शुरू करने का किया अनुरोध

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Aarogya Setu App built in collaboration with the best of the minds of industry & academia
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X