• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

स्पेशल ट्रेनों में घर ले जाए गए प्रवासियों में से 75 फीसदी मजदूर सिर्फ यूपी और बिहार के हैं

|

नई दिल्ली। प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए रेल मंत्रालय द्वारा चलाई गई प्रत्येक चार में से तीन श्रमिक ट्रेनों में दो तिहाई से अधिक प्रवासी मजूदर उत्तर प्रदेश और बिहार से हैं। इन विशेष ट्रेनों में 44 फीसदी ट्रेनें उत्तर प्रदेश और 30 फीसदी ट्रेंने बिहार जाने वाली हैं। चूंकि अधिकांश प्रवासी मजदूर उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्से और बिहार के हैं, जो बड़ी संख्या में रोजगार के लिए दूसरे शहरों में पलायन करते हैं।

    Indian Railway ने Shramik Passenger Train के लिए जारी की New Guideline | Lockdown | वनइंडिया हिंदी

    दिल्ली: 10 दिन में तैयार हुई दुनिया की सबसे बड़ी Covid-19 केयर फैसिलिटी के बारे में सबकुछ जानिए

    rail

    रेल मंत्रालय ने बताया कि रेलवे ने रविवार दोपहर तक 366 ट्रेनें चलाए है, जिनमें से 287 अपने गन्तव्य स्थल तक पहुंच गई हैं। इनमें यूपी और बिहार को मध्य प्रदेश, ओडिशा और झारखंड व अन्य राज्यों की तुलना में अधिक ट्रेनें मिलीं।

    कर्नाटक में अब उद्योगों के लिए सीधे किसानों से खरीदे जा सकेंगे जमीन

    rail

    रेल मंत्री पीयूष गोयल के मुताबिक वे एक दिन में 300 ट्रेनों को चलाने के लिए तैयार थे और उन्होंने राज्यों से अपील भी की थी कि वे प्रवासी श्रमिकों, छात्रों और पर्यटकों को ले जाने की अनुमति दें, ताकि सभी फंसे हुए प्रवासी 3-4 दिन में घर लौट सकें।

    rail

    लॉकडाउन में फंसे प्रवासियों और छात्रों के मुद्दे पर चौतरफा घिरे बिहार CM नीतीश कुमार

    उल्लेखनीय है रेल मंत्री पीयूष गोयल ने उक्त अनुरोध केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार के बीच छिड़ी राजनीतिक लड़ाई शुरू होने के एक दिन बाद आया जब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा पश्चिम बंगाल के प्रवासी मजदूरों को ले जाने वाली ट्रेनों को राज्य में पहुंचने की अनुमति देने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखा था।

    rail

    Covid19: जानिए, किसके लिए सिरदर्द बन गए हैं मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे उपाय

    रेल मंत्रालय ने कहा कि गन्तव्य तक पहुंच चुकी 287 में से अधिकतम 127 ट्रेनें उत्तर प्रदेश गई हैं और 87 ट्रेनें बिहार गई हैं। मध्य प्रदेश को 24 ट्रेनें, ओडिशा को 20 और झारखंड को 16 ट्रेनें मिलीं। आंध्र प्रदेश और हिमाचल प्रदेश को एक-एक ट्रेन मिली जबकि महाराष्ट्र को तीन ट्रेनें मिलीं।

    rail

    प्रवासी मजूदरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए कर्नाटक सरकार ने 9 राज्यों को लिखा पत्र

    वहीं, राजस्थान को चार और तेलंगाना और पश्चिम बंगाल को दो-दो ट्रेनें मिलीं है। इन ट्रेनों में अधिकतम 1,200 यात्री सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए यात्रा कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि रेल सेवाओं की आंशिक बहाली के बाद भी श्रमिक ट्रेनें प्रवासियों मजदूरों, छात्रों और पर्यटकों के लिए चलती रहेंगी।

    प्रवासी मजदूरों का पलायन रोकने के लिए CM योगी ने उठाए यह कदम, ये प्रदेश भी करेंगे फॉलो

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    The Railway Ministry said that the Railways has run 366 trains till Sunday afternoon, of which 287 have reached their destination. Among these, UP and Bihar got more trains than Madhya Pradesh, Odisha and Jharkhand and other states. According to Railway Minister Piyush Goyal, he was ready to run 300 trains in a day and also appealed to the states to allow them to take migrant workers, students and tourists so that all stranded migrants would go home in 3-4 days To return.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more