• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

69 फीसदी भारतीयों का कहना है कि मोदी सरकार ने चीन को बेहतर जवाब दियाः सर्वे

|

नई दिल्ली। इंडिया टूडे द्वारा कराए गए मूड ऑफ द नेशन नामक एक सर्वे के मुताबिक करीब 69 फीसदी भारतीय मानते हैं कि केंद्र में सत्तासीन मोदी सरकार ने पूर्वी लद्दाख में गैलवान घाटी में गतिरोध स्थल पर चीन को बेहतर जवाब दिया है। इंडिया टूडे वर्ष में दो बार देश मूड जानने के लिए कराए जाने ऐसा सर्वे कराती है। पहला सर्व जनवरी में और दूसरी अगस्त में कराया जाता है।

चीन के ‘जीन’ में है विस्तारवाद , उसकी जमीन हड़पो नीति से भारत समेत दुनिया के 23 देश परेशान

    India China Tension : भारत ने चीन से शांति और गंभीरता से काम करने की दी सलाह | वनइंडिया हिंदी

    modi

    इंडिया टूडे का दावा है कि एकमात्र ऐसा सर्वे है, जिसमें देश के प्रमुख मुद्दों पर एक औसत भारतीयों का मूड भांपने और उन्हें समझने का प्रयास किया जाता है। चूंकि अभी एलएसी पर भारत- चीन के बीच गतिरोध और राम मंदिर मुद्दे जैसे ज्वलंत हैं, ऐसे में लोगों की राय बेहद राय ली गई है। जानिए सर्व में पूछे गए कुछ अन्य सवालों जवाब?

    राम मंदिर पॉलिटिक्सः अगस्त में कभी भी रामलला दर्शन को अयोध्या जा सकते हैं राहुल गांधी!

    पीएम मोदी ने कब-कब जवानों के बीच पहुंचकर सबको चौंकाया ?

    91 फीसदी भारतीयों का कहना है कि चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाना सही है

    91 फीसदी भारतीयों का कहना है कि चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाना सही है

    सवाल किया गया कि क्या चीनी ऐप्लिकेशन्स पर प्रतिबंध लगाना और चीनी कंपनियों का कॉन्ट्रैक्ट तोड़ना चाइनीज आक्रामकता का मुकाबला करने का सही तरीका है?

    69 फीसदी भारतीयों का कहना है कि भारत ने चीन को जवाब दिया

    69 फीसदी भारतीयों का कहना है कि भारत ने चीन को जवाब दिया

    सवालः चीन के साथ हाल की झड़पों से निपटने के लिए मोदी सरकार की दर क्या होगी? आप चीन के साथ हाल ही में हुए झड़पों से मोदी सरकार के कामकाज का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

     यह पूछे जाने पर कि भारत-चीन विवाद के लिए किसे दोषी ठहराया जाए?

    यह पूछे जाने पर कि भारत-चीन विवाद के लिए किसे दोषी ठहराया जाए?

    47 फीसदी भारतीयों ने कहा कि चीन की आक्रामकता जिम्मेदार है, 30 फीसदी ने भारत की 'दोषपूर्ण विदेश नीति' को दोषी ठहराया, जबकि 11 फीसदी ने कहा, यह एक बौद्धिक विफलता थी।

    क्या चीन में बने सामानों के लिए अधिक भुगतान करने के लिए तैयार हैं?

    क्या चीन में बने सामानों के लिए अधिक भुगतान करने के लिए तैयार हैं?

    60-70 फीसदी लोगों ने कहा कि वे मेड इन इंडिया उत्पादों के लिए अतिरिक्त भुगतान करने के लिए तैयार थे।

    भारत सशस्त्र बलों में विश्वास रखता है?

    भारत सशस्त्र बलों में विश्वास रखता है?

    72 फीसदी भारतीयों ने कहा कि उन्हें लगता है कि भारत एक युद्ध में चीन को हरा सकता है।

    सीमा विवाद को लेकर भारत को चीन के साथ युद्ध में उतरना चाहिए?

    सीमा विवाद को लेकर भारत को चीन के साथ युद्ध में उतरना चाहिए?

    59 फीसदी भारतीयों का कहना है कि भारत को चीन के साथ युद्ध में जाना चाहिए

    क्या भारत चीन पर भरोसा कर सकता है?

    क्या भारत चीन पर भरोसा कर सकता है?

    84 भारतीयों ने कहा कि भारत चीन पर भरोसा नहीं कर सकता है।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    According to a survey called Mood of the Nation conducted by India Today, about 69% of Indians believe that the Modi government in power at the Center has given a better answer to China at the standoff site in the Galvan Valley in eastern Ladakh. India Today conducts such a survey conducted twice a year to know the mood of the country. The first is done in January and the second in August.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X