• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

685 करोड़ के नकली चालान रैकेट का भंडाफोड़, जेल भेजा गया मुख्य आरोपी

|

नई दिल्ली। सीजीएसटी दिल्ली दक्षिण आयुक्तालय के अधिकारियों ने गुरूवार को फर्जी / डमी फर्मों के जीएसटीआईएन पर जारी चालान / ई-वे बिल में शामिल फर्मों के एक रैकेट का भंडाफोड़ किया है। अधिकारियों ने बताया कि इस तरह के नकली चालानों के बल पर आईजीएसटी का रिफंड ले रहा था। गिरफ्तार मुख्य आरोपी को साकेत कोर्ट ने उसे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

GST

बिग बॉस 13 विनर सिद्धार्थ शुक्ला और शहनाज गिल के बीच कुछ तो पक रहा है, क्या दोनों करने जा रहे हैं शादी?

मामले में मेसर्स बाण गंगा इम्पेक्स के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था, जिसका प्रधान कार्यालय एल -10 ए, गंगा टॉवर, महिपालपुर, नई दिल्ली -110037 (GSTIN 07AAMFB0425A1Z4) में स्थित है। अधिकारियों द्वारा जब्त दस्तावेजों की प्रारंभिक छानबीन से पता चला है कि फर्म ई-वे पोर्टल / जीएसटीएन पोर्टल पर उपलब्ध डेटा / जानकारी से नई दिल्ली स्थित मेसर्स बाण गंगा इम्पेक्स ने गैर-मौजूदा 48 से चालान का लाभ उठाया है।

भावी राष्ट्रपति बाइडेन को भाए भारतीय, सत्ता ट्रांसफर टीम के लिए 20 से अधिक भारतवंशियों को चुना

GST

रिपोर्ट के मुताबिक मेसर्स बाण गंगा इम्पेक्स ने नकली संस्थाओं से जुटाए चालान के जरिए लगभग 685 करोड़ रुपए लाभ उठाया है, जिसमें लगभग 50 करोड़ रुपए जीएसटी शामिल था और लगभग 35 करोड़ रुपए का रिफंड पाने में सफल हुआ था। मैसर्स बाण गंगा इम्पेक्स के पार्टनर राकेश शर्मा उक्त सांठगांठ के मुख्य लाभार्थी हैं और फर्म की सभी परिचालन गतिविधियों से निपटने के लिए उसे 9 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया और उसी दिन मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट, साकेत कोर्ट के समक्ष पेश किया गया।

महज 3 दिन में CM पद से इस्तीफे के लिए मजबूर हुए फडणवीस बोले, 'हम महाराष्ट्र CM की कुर्सी नज़र गड़ाए नहीं बैठे हैं'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Officials of CGST Delhi South Commissionerate have busted a syndicate of firms included in the challan / e-way bill issued on GSTIN of fake / dummy firms on Thursday. Officials said IGST was taking refunds on the basis of such fake invoices. The arrested main accused has been sent to judicial custody for 14 days by the Saket court.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X