• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

#Emergency: PM मोदी ने शेयर किया खास Video, जानिए देश के काले अध्याय के बारे में सब कुछ

|

नई दिल्ली। भारतीय लोकतंत्र में 25 जून को एक काले दिन के तौर पर याद किया जाता है,आज ही के दिन 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल का ऐलान किया था, आज इमरजेंसी को 44 साल पूरे हो गए हैं, आपको बता दें कि देश में साल 1975 से लेकर 1977 तक देश में इमरजेंसी लगी थी और इस दौरान बहुत सारी ऐसी चीजें हुई थीं जिसने देश में नफरत और विद्रोह पैदा कर दिया था, आपातकाल के 44 साल पूरे होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है।

PM मोदी ने शेयर किया खास Video

प्रधानमंत्री द्वारा ट्विटर पर शेयर किए वीडियो में संसद के भाषण की एक क्लिप को भी दिखाया गया है तो वहीं गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा कि आज ही के दिन राजनीतिक हितों के लिए लोकतंत्र की हत्या कर दी गई थी।

लोगों से जीने का हक भी छीन लिया गया था

कहते हैं उस दौर में लोगों से जीने का हक भी छीन लिया गया था, इस बारे में तो साल 2011 में सुप्रीम कोर्ट ने गलती भी मानी थी, देश की सर्वोच्च अदालत ने भी माना था कि इस दौरान नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन हुआ था, इसी कारण आज भी कांग्रेस को इमरजेंसी के लिए कोसा जाता है।

यह पढ़ें:ये हैं इमरजेंसी की चीफ ग्लैमर गर्ल 'रूखसाना सुल्ताना', जिन्हें देखते ही डर से कांप जाते थे लोग

26 जून 1975 से लेकर 21 मार्च 1977 तक आपातकाल

26 जून 1975 से लेकर 21 मार्च 1977 तक आपातकाल

26 जून 1975 से लेकर 21 मार्च 1977 तक यानी कि 21 महीने भारत में आपातकाल घोषित था। तत्कालीन राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली अहमद ने तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी के कहने पर भारतीय संविधान की धारा 352 के अधीन आपातकाल की घोषणा कर दी थी। स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह सबसे विवादास्पद और अलोकतांत्रिक काल था।

'भारतीय इतिहास की सर्वाधिक काली अवधि

आपातकाल में चुनाव स्थगित हो गए थे, नागरिक अधिकारों को समाप्त कर दिया गया था। पीएम इंदिरा गांधी के राजनीतिक विरोधियों को कैद कर लिया गया और प्रेस को प्रतिबंधित कर दिया गया था। प्रधानमंत्री के बेटे संजय गांधी के नेतृत्व में बड़े पैमाने पर नसबंदी अभियान चलाया गया। कांग्रेस नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी कहते हैं कि उस समय यूथ कांग्रेस ने बहुत अच्छा काम भी किया था लेकिन नसबंदी प्रोग्राम ने खेल खराब कर दिया क्योंकि यूथ कांग्रेस और अधिकारियों ने जबरदस्ती शुरू की और जनता में आक्रोश फैल गया, जयप्रकाश नारायण ने भी इसे 'भारतीय इतिहास की सर्वाधिक काली अवधि' कहा था।

क्यों लगाया गया था आपातकाल ?

क्यों लगाया गया था आपातकाल ?

आपातकाल की जड़ें 1971 में हुए लोकसभा चुनाव से जुड़ी हुई हैं जब इंदिरा गांधी ने रायबरेली सीट से राजनारायण को हराया था। लेकिन राजनारायण ने हार नहीं मानी और चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए हाईकोर्ट में फैसले को चैलेंज किया। 12 जून, 1975 को इलाहाबाद हाईकोर्ट के जस्टिस जगमोहन लाल सिन्हा ने इंदिरा गांधी का चुनाव निरस्त कर छह साल तक चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया। कोर्ट के फैसले के बाद इंदिरा गांधी पर विपक्ष ने इस्तीफे का दबाव बनाया, लेकिन उन्होंने इस्तीफा देने से मना कर दिया , इंदिरा गांधी ने हाईकोर्ट को मानने से इनकार करते हुए सर्वोच्च न्यायालय में अपील की और 26 जून को आपातकाल लागू करने की घोषणा कर दी।

'मेरे खिलाफ साजिश रची जा रही है'

आकाशवाणी पर प्रसारित अपने संदेश में इंदिरा गांधी ने कहा था कि जब से मैंने आम आदमी और देश की महिलाओं के फायदे के लिए कुछ प्रगतिशील कदम उठाए हैं, तभी से मेरे ख़िलाफ़ गहरी साजिश रची जा रही थी, आपातकाल लगाने के पीछे सबसे प्रमुख कारण यही था कि इंदिरा गांधी को अपनी पीएम की कुर्सी बचानी थी, हालांकि 19 महीने बाद 18 जनवरी 1977 को इंदिरा गांधी ने अचानक ही मार्च में लोकसभा चुनाव कराने का ऐलान कर दिया था।

कांग्रेस को अपनी पार्टी में भी विरोध का डर

कांग्रेस को अपनी पार्टी में भी विरोध का डर

आपातकाल की घोषणा के पहले ही सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को विपक्षी नेताओं की गिरफ्तारी के आदेश दे दिए गए थे, उनकी गिरफ्तारी का उद्देश्य संसद को ऐसा बना देना था कि इंदिरा गांधी जो चाहें करा लें, उन दिनों कांग्रेस को अपनी पार्टी में भी विरोध का डर पैदा हो गया था इसीलिए जब जयप्रकाश नारायण सहित दूसरे विपक्षी नेताओं को गिरफ्तार किया गया तो कांग्रेस कार्यकारिणी के सदस्य चंद्रशेखर और संसदीय दल के सचिव रामधन को भी गिरफ्तार कर लिया गया था।

जनता ने सिखाया सबक

इमरजेंसी के दौरान सरकार ने जीवन के हर क्षेत्र में आतंक का माहौल पैदा कर दिया था, जिसका सबक जनता ने 1977 में एकजुट होकर न केवल कांग्रेस बल्कि इंदिरा गांधी को भी धूल चटा दी, 16 मार्च को हुए चुनाव में इंदिरा और उनके बेटे संजय गांधी दोनों हार गए। 21 मार्च को आपातकाल खत्म हो गया लेकिन अपने पीछे लोकतंत्र का सबसे बड़ा सबक छोड़ गया।

यह पढ़ें: आखिरकार सामने आया सुनैना रोशन का मुस्लिम प्रेमी, जिसे राकेश रोशन ने कहा था 'आतंकी'

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
On 44th anniversary of Emergency PM Modi took to Twitter and wrote that India's democratic ethos successfully prevailed over an authoritarian mindset.
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more