• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लॉकडाउन में 4 राज्यों में 22 प्रतिशत श्रमिक हुए बेरोजगार, सर्वे में हुआ हैरत में डाल देने वाला खुलासा

|

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के चलते देशव्‍यवापी लॉकडाउन का असर सबसे ज्यादा लोगों की नौकरी पर पड़ा हैं। इस दौरान लाखों लोग बेरोजगार हो गए हैं। सबसे बुरी स्थिति श्रमिकों की हुई हैं। हाल ही में किए गए एक सर्वे में चौका देने वाले आंकड़े सामने आए हैं। देश के चार राज्‍यों में 22 प्रतिशत श्रमिकों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा हैं। वहीं इनमें अनौपचारिक क्षेत्र के 51% श्रमिकों ने अपनी नौकरी खो दी और 30% ने आंशिक बेरोजगारी का शिकार हो रहे हैं। पूर्ण और साथ ही आंशिक बेरोजगारी महिला श्रमिकों की तुलना में पुरुष श्रमिकों में सबसे अधिक है।

unemployment,
    Lockdown में 22 फीसदी Workers हुए Unemployed, अब क्या करेगी सरकार ? | वनइंडिया हिंदी

    कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

    बता दें यूनिवर्सिटी बिजनेस स्कूल (यूबीएस) के व्यावसायिक और आर्थिक नीति अनुसंधान पर फोकस समूह ने एक ऑनलाइन सर्वेक्षण किया है । शोधकर्ताओं ने पाया है कि 22 प्रतिशत श्रमिकों ने अपनी नौकरी खो दी और तीन उत्तर भारतीय राज्यों में तालाबंदी के बीच 30 प्रतिशत ने आंशिक बेरोजगारी का सामना किया। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ में रोज़गार पर पड़ने वाले प्रभावों का आंकलन किया। तीन विशेषज्ञों की एक टीम जिसमें कुलविंदर सिंह और गनमाला सूरी, दोनों चंडीगढ़ में पंजाब विश्वविद्यालय के बिजनेस स्कूल से और पटियाला में पंजाबी विश्वविद्यालय से निर्वीर सिंह ने यह अध्ययन किया।

    unemployment,

    510 प्रतिक्रियाओं से डेटा के विश्लेषण के आधार पर, अध्ययन से सर्वेक्षण वाले राज्यों में रोजगार परिदृश्य पर लॉकडाउन 1.0 के विनाशकारी प्रभाव का पता चला। उन्होंने दर्शाया कि लॉकडाउन के कारण, 22 प्रतिशत श्रमिकों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा और 31 प्रतिशत को आंशिक बेरोजगारी का सामना करना पड़ा है, जिसका अर्थ है कि उन्हें या तो अन्य व्यवसायों को छोड़ना पड़ा है या एकल नौकरी से उनकी आय में गिरावट आई है।

    unemployment,

    अनौपचारिक क्षेत्र के 80 प्रतिशत श्रमिकों को किसी भी प्रकार की बेरोजगारी का सामना करना पड़ा।अनौपचारिक क्षेत्र के 51 प्रतिशत श्रमिकों ने अपनी नौकरी खो दी और 30 प्रतिशत ने आंशिक बेरोजगारी झेला।औपचारिक क्षेत्र में 10 प्रतिशत पूर्ण बेरोजगारी दर्ज की गई, जबकि 30 प्रतिशत में आंशिक बेरोजगारी थी।अनौपचारिक क्षेत्र रोजगार के नुकसान से सबसे अधिक पीड़ित है।

    unemployment,

    12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

    सर्वेक्षण में शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में लॉकडाउन के प्रभाव का विश्लेषण किया गया है।19 फीसदी शहरी लोगों की तुलना में तालाबंदी के कारण 30 प्रतिशत ग्रामीण श्रमिकों की बेरोजगारी हुई है। हालांकि शहरी क्षेत्रों में आंशिक बेरोजगारी उच्चतम (32 प्रतिशत) है। कुलविंदर सिंह ने कहा कि अध्ययन से पता चलता है कि अनौपचारिक क्षेत्र रोजगार के नुकसान से सबसे अधिक पीड़ित था। उन्होंने कहा कि एक और चिंताजनक बात यह है कि किसानों को आंशिक रूप से बेरोजगारी (38 प्रतिशत) का सामना करना पड़ा, इसके बाद स्वरोजगार और वेतनभोगी श्रमिकों का योगदान है।उन्‍होंने बताया कि "शर्मनाक बात तो यह है कि आकस्मिक श्रमिकों (62 फीसदी) और आत्म व्यापारियों (48 प्रतिशत) अधिकतम बेरोजगारी का सामना करना पड़ा और प्रभामंडल संकट से मुश्किल हिट कर रहे थे," सर्वेक्षण बताता है कि निजी क्षेत्र में श्रमिकों के बीच पूर्ण (33 प्रतिशत) और आंशिक (31 प्रतिशत) दोनों बेरोजगारी सबसे अधिक है।सरकारी क्षेत्र ने केवल 5 प्रतिशत श्रमिकों की बेरोजगार हुए। पुराने कामगारों की तुलना में छोटे कामगारों ने अधिक नौकरियां खो दीं। पूर्ण और साथ ही आंशिक बेरोजगारी महिला श्रमिकों की तुलना में पुरुष श्रमिकों में सबसे अधिक है।उन्होंने कहा कि विवाहित श्रमिकों में पूर्ण और आंशिक दोनों तरह की बेरोजगारी सबसे अधिक है।

    अमेरिका में 20 लाख के पार हुई कोरोना मरीजों की संख्‍या, 1लाख से ज्यादा लोगों की हो चुकी मौत

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    22 percent of workers unemployed in these 4 states in lockdown, the survey revealed a surprise
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X