• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

गुजरात में रोजाना 20 लोग कर रहे हैं आत्महत्या, विधानसभा में सरकार ने दी जानकारी

|

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के गृहराज्य गुजरात में खुदकुशी करने का भयावह आंकड़ा सामने आया है। दरअसल, गुजरात विधानसभा में सरकार की ओर से पिछले दो सालों में हुए खुदकुशी के मामलों का एक आंकड़ा पेश किया गया जो बहुत ही चिंता जनक है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2018 और 2019 में राज्य में कुल 14,702 लोगों ने आत्महत्या की, रिपोर्ट की मानें तो राज्य में करीब 20 व्यक्ति रोजाना खुदकुशी कर रहे हैं।

गुजरात विधानसभा में चल रहा है बजट सत्र

गुजरात विधानसभा में चल रहा है बजट सत्र

बता दें कि गुजरात विधानसभा में इस समय बजट सत्र चल रहा है और इसी दौरान यह चौंकाने वाला आंकड़ा पेश किया गया। इस सत्र में बताया गया कि राज्य में पिछले 2 सालों में 25,723 घटनाएं दर्ज की गईं जबकि इस दौरान 14.702 लोगों ने आत्महत्या की। गुजरात विधानसभा में बजट सत्र के दौरान कांग्रेस नेता परेश धनानी ने सरकार पर आरोप लगाया कि वह आत्महत्या के मामलों में 'नियंत्रण' दिखाने के लिए उन्हें 'अप्राकृतिक मौत' दिखा रही है। परेश धनानी ने सरकार से राज्य में आत्महत्या करने वाले किसानों का विवरण मांगा था।

कांग्रेस नेता ने सरकार पर लगाए ये आरोप

कांग्रेस नेता ने सरकार पर लगाए ये आरोप

कांग्रेस नेता परेश धनानी के आरोंपो के बाद राज्य सरकार ने बताया कि पिछले दो वर्षों में दर्ज किए गए 88,081 अप्राकृतिक मृत्यु के मामलों में से 14,702 आत्महत्या के मामले थे। गृह मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने कांग्रेस नेता के सवाल को राजनीतिक बताते हुए कहा कि वह इस मुद्दे पर राजनीति करना चाहते हैं। उन्होंने सदन में कहा, अगर आत्महत्या के मामलों में दर्ज की गई प्राथमिकी में कृषि को पेशे के रूप में उल्लेख किया जाता है, तो इन पर विचार करना सही नहीं है क्योंकि यह कृषि संबंधी मुद्दा है। प्रदीपसिंह जडेजा ने बताया कि किसानों के लिए राज्य सरकार ने 3,795 करोड़ रुपये का पैकेज घोषित किया है।

पिछले दो सालों का आंकड़ा पेश

पिछले दो सालों का आंकड़ा पेश

गुजरात सरकार द्वारा पेश किया गया खुदकुशी आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा मामले साल 2018 और 2019 में सामने आये हैं। इसमें सूरत में 2,153 मामले दर्ज किए गए, वहीं अहमदाबाद में 1,941 मामले और राजकोट में 1,651 खुदकुशी के मामले दर्ज किए गए हैं। विपक्ष के आरोप के बाद गृह मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने बताया कि पिछले दो सालों में गुजरात में 2,491 लूट, 25,723 चोरी, 2,035 हत्या और 559 डकैती के मामले दर्ज किए गए थे। वहीं, राज्य में इसी समय अंतराल में 2,720 रेप, 5,879 अपहरण, 14,702 आत्महत्या, 3,305 दंगे 46,264 अप्राकृतिक मृत्यु और 28,298 आकस्मिक मृत्यु के मामले दर्ज किए गए थे।

इन दो जिलों में नहीं आया आत्महत्या का मामला

इन दो जिलों में नहीं आया आत्महत्या का मामला

खेड़ा और आणंद जिले में दर्ज आत्महत्या के मामलों से संबंधित कपडवंज निर्वाचन क्षेत्र के कांग्रेस विधायक कलाभाई डाभी द्वारा उठाए गए सवाल के जवाब में गृह मंत्री ने कहा कि इन दो जिलों में कृषि संकट या बेरोजगारी से संबंधित आत्महत्या का एक भी मामला दर्ज नहीं किया गया है। प्रदीपसिंह जडेजा ने बताया कि खेड़ा और आणंद जिलों में एक भी ऐसा मामला नहीं है जहां किसी व्यक्ति ने कृषि से संबंधित मुद्दों या बेरोजगारी के कारण आत्महत्या की हो।

गुजरात में भीषण हादसा: बस को बीच से चीरते हुए निकला हाईस्पीड टैंकर, 8 मौतें, कई यात्री फंसे

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
20 people are committing suicide every day in Gujarat government gave information in the assembly
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X