कोटखाई गैंगरेप-मर्डर: दरिंदों को पकड़ने के लिए बनाई गई SIT

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। हिमाचल प्रदेश में शिमला के कोटखाई इलाके में छात्रा से रेप की घटना के करीब छह दिनों बाद लोगों का गुस्सा शांत करने की गरज से दरिंदों की तलाश के लिए पुलिस ने अब एसआईटी का गठन किया। यह जांच बिना रुके चले, इसके लिए यह एसआईटी बनाई गई है।

Read Also: PICs: दिल्ली के बाद हिमाचल में 'निर्भया' जैसा कांड, न्याय की खातिर सड़कें जाम

आईजी की अध्यक्षता में बनी एसआईटी

आईजी की अध्यक्षता में बनी एसआईटी

शिमला रेंज के आईजी एस जहूर जैदी अध्यक्षता में बनी इस एसआईटी में एएसपी (रूरल) भजन देव नेगी, डीएसपी ठियोग मनोज जोशी और एसएचओ कोटखाई राजेंन्द्र को शामिल किया गया है। प्रदेश पुलिस महानिदेशक सोमेश गोयल ने कहा कि पुलिस कोटखाई की सारी घटना पर नजर रखे हुए है। उन्होंने कहा कि एसआईटी को निर्देश दिए गए हैं कि उन्हें जांच के लिए जो-जो भी अफसर और जवान चाहिए, वे ले सकते हैं।

छात्रा के साथ दरिंदगी करनेवालों की तलाश

छात्रा के साथ दरिंदगी करनेवालों की तलाश

गोयल ने कहा कि एसआईटी इसी काम पर फोकस करेगी और वे खुद भी इस मामले को मॉनीटर करेंगे। पुलिस को इस मामले में तकनीकी स्पोर्ट मिला है और इसके आगे वे कुछ कहना नहीं चाहते। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर एसपी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए हैं। गौर हो कि इस घटना को हुए छह दिन हो गए हैं और अभी तक इस घटना के आरोपी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। इसके कारण लोगों में भारी रोष व्याप्त है और लोग सड़कों पर उतर आए हैं और वे मांग कर रहे हैं कि पुलिस जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार करें और उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दिलाए।

राज्यपाल से मिलकर कार्रवाई की मांग

राज्यपाल से मिलकर कार्रवाई की मांग

इस बीच मदद सेवा ट्रस्ट के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज राजभवन शिमला में राज्यपाल आचार्य देवव्रत से भेंट कर कोटखाई के राजकीय उच्च पाठशाला, बमकुफर की 10वीं की छात्रा छात्रा की निर्मम हत्या की सीबीआई जांच की मांग की है। उन्होंने राज्यपाल को ज्ञापन दिया तथा मामले की शीघ्र जांच का आग्रह किया। राज्यपाल ने कहा कि देवभूमि में हुआ यह जघन्य अपराध एक दु:खद घटना है। इस मामले में ठोस कार्रवाई की जाएगी ताकि आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार किया जा सके।

सात दिन बाद सीएम वीरभद्र ने दिया ये कैसा बयान!

सात दिन बाद सीएम वीरभद्र ने दिया ये कैसा बयान!

उधर कोटखाई में रेप के बाद छात्रा मर्डर मामले को सीएम वीरभद्र सिंह ने भी गंभीर मामला करार दिया है। उन्होंने कहा कि क्षतिपूर्ति तो नहीं की जा सकती है, लेकिन संवेदना के रूप में सरकार की तरफ से छात्रा के परिजनों को पांच लाख की राशि मंजूर की गई है। उन्होंने लोगों की सीबीआई से जांच करवाए जाने की मांग को लेकर कहा कि हमारी पुलिस सीबीआई से कहीं अच्छा काम करती है। पुलिस को हिदायत दी गई है कि मामले की गहनता से छानबीन की जाए और आरोपियों को जल्द पकड़ा जाए। कोटखाई के लोगों के विरोध को लेकर उन्होंने कहा कि कोटखाई के लोग जरूरत से ज्यादा होशियार हैं। जब जांच हो रही है तो लोग कैसे कह सकते हैं कि जांच ठीक से नहीं हो रही है। जांच के कई पहलू होते हैं। यह एक संदिग्ध मामला है और इसमें हर पहलू को देखा जा रहा है। ऐसे मामले में उतावलापन दिखाने की जरूरत नहीं है। पुलिस अपना काम कर रही है। ऐसा नहीं है कि ऐसे मामले हल करने में हमारी पुलिस सक्षम नहीं है।

Read Also: मामा के घर रहने वाली छात्रा की जंगल में हत्या और उससे पहले बारी-बारी हैवानियत

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
SIT to investigate Priyanka gang rape murder case in Himachal Pradesh.
Please Wait while comments are loading...