कोटखाई गैंगरेप-मर्डर: हिमाचल में सड़क पर उतरे लोग,प्रदर्शन

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। हिमाचल प्रदेश में शिमला जिला के कोटखाई इलाके के महासू में दसवीं की छात्रा की निर्ममता से की गई हत्या के मामले में लोगों का आक्रोश गुम्मा से लेकर शिमला तक पहुंच गया है। हलांकि प्रदेश के पुलिस महानिदेशक सोमेश गोयल ने शिमला के एसपी डी डब्लयू नेगी को मामले की पूरी तहकीकात करने के आदेश दिये हैं।

Read Also: मामा के घर रहने वाली छात्रा की जंगल में हत्या और उससे पहले बारी-बारी हैवानियत

हिमाचल में लोगों का गुस्सा फूटा

हिमाचल में लोगों का गुस्सा फूटा

दसवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा की दुष्कर्म के बाद की गई बेरहमी से हत्या को लेकर गुस्साए लोग सड़कों पर उतर आए हैं। राजधानी शिमला से लेकर गुम्मा तक लोगों का विरोध-प्रदर्शन देर शाम तक चलता रहा। एसएफआई के छात्रों ने दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने व इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने की मांग को लेकर शिमला में जिलाधीश कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। शिमला में मदद संस्था, अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति और एन.एस.यू.आई. कार्यकर्ताओं ने कैंडल मार्च निकाला। इस दौरान कुछेक संगठनों ने जिलाधीश कार्यालय से नाज-मालरोड-रिज जबकि कुछेक ने संजौली से रिज मैदान तक कैंडल मार्च निकाल रोष जताया।

निर्ममता से हुई छात्रा की गैंगरेप के बाद हत्या

निर्ममता से हुई छात्रा की गैंगरेप के बाद हत्या

गुम्मा में शनिवार को इस मामले में पुलिस की धीमी जांच को लेकर गुस्साये स्थानीय लोगों ने अपने बाजार बंद रखे व सड़कों पर निकल कर विरोध-प्रर्दशन किया व मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की। लोगों में पुलिस के प्रति इस बात को लेकर गुस्सा है कि अभी तक इस मामले में पुलिस किसी भी आरोपी को नहीं पकड़ पाई है। इलाके में गम व गुस्से का महौल है। हैरानी की बात है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के गृह जिला में इस युवती के साथ पहले गैंगरेप किया गया व बाद में उसका गला घोंट कर हत्या कर दी गई लेकिन पुलिस अभी तक आरोपियों को पकड़ने में पूरी तरह नाकाम रही है। मृतका का शव जिसने भी देखा उसके आंसू झलक आये। दरिंदो ने दरिंदगी की सारी हदें पार की थीं। पहले उसके साथ गैंगरेप किया गया। आखिरी सांस तक उसे पता नहीं कितनी यातनायें दी गई होंगी। लड़की की दोनों टांगें तोड़ दी गई थीं। गुप्तांग समेत पूरे शरीर पर चोटों के निशान थे, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में छात्रा का गला घोटने की भी पुष्टि हो गई है।

लोगों ने पुलिस को दिया 10 दिन का अल्टीमेटम

लोगों ने पुलिस को दिया 10 दिन का अल्टीमेटम

गुस्साये लोगों ने पुलिस के खिलाफ जमकर प्रर्दशन किया व नारेबाजी कर इंसाफ की मांग की। लोगों के हाथ में तख्तियां थीं, जिनपर लिखा था, छात्रा को इंसाफ दो, दरिन्दों को गिरफ्तार करो व मामले की सीबीआई जांच हो। शनिवार को कोटखाई के गुम्मा बाजार में व्यापारियों और स्थानीय लोगों ने भी इसके विरोध में अपनी दुकानें बंद रखीं थीं। व्यापार मंडल गुम्मा की अगुवाई में वहां विरोध-प्रदर्शन किया गया जिसमें बड़ी तादाद में स्थानीय लोग भी शामिल हुये। लोगों के साथ-साथ बच्चों और महिलाओं ने भी हिस्सा लिया। लोगों में मांग की कि इस घटना के दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए। इसके साथ-साथ उन्होंने प्रशासन और पुलिस को 10 दिन का अल्टीमेटम दिया और कहा कि यदि 10 दिन के भीतर आरोपियों को नहीं पकड़ा गया तो स्थानीय लोग चक्का जाम करेंगे। इससे पहले प्रर्दशनकारियों ने छात्रा की मौत पर दो मिनट का मौन कर श्रद्धांजलि दी।

पुलिस ने बिछाया जाल लेकिन अब तक हाथ खाली

पुलिस ने बिछाया जाल लेकिन अब तक हाथ खाली

छात्रा पांच दिन पहले गायब हुई थी और दो दिन पहले इसका शव जंगल में मिला था। इस घटना को बीते पांच दिन हो चुके हैं और पुलिस के हाथ खाली है। हलांकि पुलिस का दावा है कि पुलिस ने आरोपियों की तलाश के लिए अपना जाल बिछा दिया है और छानबीन तेज कर दी है लेकिन आरोपियों की कोई पहचान नहीं हो पाई है। उधर, डीएसपी ठियोग दलबल के साथ महासू गांव में डेरा जमाए हुए हैं। वहां स्थानीय लोगों से पूछताछ भी की जा रही है। इस बीच, एसपी शिमला डीडब्ल्यू नेगी खुद घटनास्थल पर पहुंचे हैं और वहां हालात का जायजा और फीडबैक लिया है।

Read Also: ड्रग्स, सेक्स का कॉकटेल बनी रेव पार्टियां, कुल्लू के जंगल में रेड

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
People in Himachal demandin.g justice for Priyanka
Please Wait while comments are loading...