• search
हरियाणा न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

बंगाल में भाजपा हारी तो आंदोलनकारी किसानों ने फोड़े पटाखे, मिठाइयां बांटकर मना रहे जश्न

|

जींद। भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का नवंबर 2020 से ही आंदोलन चल रहा है। न तो सरकार ने आंदोलनकारियों की बात मानी और न ही आंदोलनकारी पीछे हटने को तैयार हुए। बारिश, ठंड और फिर गर्मियों में भी किसान संगठनों से जुड़े लोग लगातार धरना-प्रदर्शन में जुटे रहे। हालांकि, उन्‍हें जश्‍न का मौका रविवार को तब मिला, जब पांच राज्‍यों के चुनाव परिणाम जारी हुए। पश्चिम बंगाल में भाजपा की करारी हार हुई।

BJP defeat in Bengal, Haryana farmers burst crackers and distributed sweets at protest sites

इस पर प्रदर्शनकारी किसानों ने कहा कि पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ भाजपा की हार हमारे लिए पहली महत्वपूर्ण जीत है, जो कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन को बढ़ावा देगी। उन्‍होंने कहा कि, जनता ने भाजपा का अंहकार तोड़ दिया। भाजपा अपने दम पर सिर्फ असम में जीती। बंगाल जैसे बड़े राज्‍य में उसकी हार बताती है कि मतदाताओं के मत के आगे राजनीति पस्‍त हो ही जाती है।

मालूम हो कि, चुनावों के वक्‍त, संयुक्त किसान मोर्चा के कई किसान नेताओं ने अपने भाजपा के खिलाफ प्रचार करने के लिए बंगाल का दौरा किया था। उन्होंने मतदाताओं से भाजपा का समर्थन नहीं करने की अपील की थी। अब जब भाजपा हार गई तो हरियाणा में धरना स्थलों पर मिठाइयाँ वितरित की जा रही हैं।

हरियाणा के भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा, "अगले साल, पूरे देश के किसान इसे (सत्तारूढ़ भाजपा को) विधानसभा चुनावों में हराने के लिए उत्तर प्रदेश जाएंगे।" किसानों को संबोधित करते हुए एक वीडियो में चढ़ूनी ने कहा, "भाजपा सरकार का रिवर्स गियर शुरू हो गया है। भाजपा अब देश से गायब हो सकती है।"

BJP defeat in Bengal, Haryana farmers burst crackers and distributed sweets at protest sites

वहीं, जींद में भारतीय किसान यूनियिन के अध्यक्ष आजाद पलवा ने कहा, "बंगाल के परिणाम किसानों को और अधिक ताकत देंगे क्योंकि वहां हमने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अभियान चलाया था। यह हमारी पहली बड़ी जीत है क्योंकि भाजपा ने बंगाल विधानसभा चुनाव को प्रतिष्ठा का मुद्दा बना दिया था।'

फसल की कटाई कर कृषि कानूनों के खिलाफ धरने पर लौट रहे किसान, नए जत्थे संग टीकरी बॉर्डर पहुंचेफसल की कटाई कर कृषि कानूनों के खिलाफ धरने पर लौट रहे किसान, नए जत्थे संग टीकरी बॉर्डर पहुंचे

कई किसानों ने कहा कि, रविवार को जैसे ही यह स्पष्ट हो गया कि ममता बनर्जी की टीएमसी चुनावों में झाड़ू लगा रही है, प्रदर्शनकारियों के बीच खुशी की लहर दौडने लगी। हिसार जिले के एक टोल प्लाजा पर किसानों ने गुलाब जामुन बांटे, जबकि जींद जिले के एक टोल प्लाजा पर पटाखे फोड़े और लड्डू बांटे।

English summary
BJP defeat in Bengal, Haryana farmers burst crackers and distributed sweets at protest sites
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X