• search
गुजरात न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

विश्व प्रसिद्ध सूर्य मंदिर की झांकी गणतंत्र दिवस परेड में दिखाएगी गुजरात सरकार, 60 कलाकारों ने 3 माह में बनाई

|

अहमदाबाद। देश की राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस के मौके पर होने वाली परेड में गुजरात सरकार बहुत ही भव्य झांकी दिखाने जा रही है। इस बार यहां से विश्व प्रसिद्ध मोढ़ेरा के सूर्य मंदिर की झांकी को दिखाया जाएगा। इस झांकी को 60 कलाकारों ने 3 माह में तैयार किया है। इसे तैयार कराने वाले अधिकारियों का कहना है कि, उत्कृष्ट शिल्प एवं स्थापत्य कला के साथ ही संस्कृति के बेजोड़ समन्वय मोढेरा के सूर्य मंदिर की हूबहू झलक इस झांकी में नजर आएगी। उन्होंने कहा कि, नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस की राष्ट्रीय परेड में इस बार गुजरात की झांकी के रूप में विश्व प्रसिद्ध मोढेरा का सूर्य मंदिर ही राजपथ की भव्यता में चार चांद लगाएगा।

modhera sun temple gujarat

ऐतिहासिक दस्तावेजों के अनुसार, उत्तर गुजरात के मेहसाणा शहर के निकट स्थित मोढेरा गांव में पुष्पावती नदी के किनारे सोलंकी राजवंश के राजा भीमदेव प्रथम ने आज से करीब 1 हजार वर्ष पूर्व 1026-27ई. में इस मंदिर का निर्माण कराया था। ऐसे प्रमाण भी मिले हैं कि इस सूर्य मंदिर का निर्माण ओडिशा के कोणार्क सूर्य मंदिर से भी पहले किया गया था। मारु-गुर्जर स्थापत्य शैली में निर्मित इस मंदिर के तीन मुख्य भाग हैं- 'गर्भगृह', सभामंडप और सूर्य कुंड। खूबसूरत स्थापत्य की बेहतरीन मिसाल सभामंडप को देखने पर लगता है मानोंपत्थरों पर 'कविताएं' उकेरी गई हों। यहां सौर वर्ष के 52 सप्ताह के प्रतीक के रूप में 52 नक्काशीदार स्तंभ हैं, जिन पर मनमोहक उत्कीर्णन के जरिए रामायण, महाभारत और कृष्ण लीला के दृश्यों को दिखाया गया है।

झांकी के मुख्य ट्रेलर वाले हिस्से में विशाल सभामंडप शोभायमान है जबकि ट्रैक्टर वाले अगले हिस्से में कीर्ति तोरण जैसे दो स्तंभों को दर्शाया गया है। झांकी पर अग्रणी शिल्पकारों ने फाइबर कास्टिंग के जरिए सूर्य मंदिर का हूबहू निर्माण किया है। पत्थर जैसी प्रतिकृति का निर्माण करने के लिए धौलपुर स्टोन टेक्सचर कलर का उपयोग किया गया है। एलईडी फ्लड लाइट के माध्यम से झांकी का यह सूर्य मंदिर प्रकाशमान है। मोढेरा सूर्य मंदिर की झांकी के साथ 12 महिला कलाकार टिप्पणी नृत्य की प्रस्तुति देंगे। परंपरागत जिमी वेशभूषा से सुसज्जित इन गुजराती महिलाओं की टिप्पणी की पदचाप से राजपथ गूंज उठेगा। इस टिप्पणी नृत्य के लिए विशेष गीत की रचना की गई है।

'सूर्यदेव ना तेज छे अदकेरा, हेंडोने जइए सौ मोढेरा...' अर्थात 'सूर्यदेव का तेज है अनूठा, चलिए, सभी साथ चलते हैं मोढेरा...' कविता की इन पंक्तियों के जरिए पूरी दुनिया के सैलानियों से गुजरात के मोढेरा सूर्य मंदिर आने का आह्वान किया गया है। सूचना एवं प्रसारण विभाग के सचिव अश्विनी कुमार और सूचना निदेशक अशोक कालरिया के मार्गदर्शन में अतिरिक्त सूचना निदेशक अरविंद पटेल, उप सूचना निदेशक पंकज मोदी एवं हिरेन भट्ट तथा स्मार्ट ग्राफ आर्ट एडवर्टाइजिंग प्रा. लि. के सिद्धेश्वर कानूगा और उनकी टीम ने इस झांकी को जी-जान से तैयार किया है।

गुजरात सरकार पुलिस विभाग में आर आर सेल बंद कराएगी, CM विजय रूपाणी ने की घोषणागुजरात सरकार पुलिस विभाग में आर आर सेल बंद कराएगी, CM विजय रूपाणी ने की घोषणा

शिल्पकार, चित्रकार, फैब्रिकेटर, मिस्त्री और अन्य कारीगरों समेत 60 कलाकार फिलहाल नई दिल्ली में इस झांकी को अंतिम रूप दे रहे हैं। सुर्य मंदिर जैसे हूबहू शिल्प और वास्तुकला के साथ ही टिप्पणी नृत्य के जरिए गुजरात की कला और संस्कृति को प्रस्तुत करती यह झांकी नई दिल्ली के राजपथ की शोभा बढ़ाएगी।

English summary
World's famous modhera sun temple tableau to show in Republic Day parade
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X