• search
गुजरात न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

गुजरात में रोज मिल रहे नए कोरोना मरीजों की संख्‍या में गिरावट आई, डॉक्टरों ने कहा- भरपूर ऑक्सीजन मिले

|

अहमदाबाद। गुजरात में कोरोना महामारी से तांडव मचा हुआ है। हालांकि, बीते शनिवार से यहां नए मरीज मिलने की दर कम हुई है। रविवार कोरोना मामलों की गिरावट वाला यहां लगातार दूसरा दिन था। इस दरम्‍यान 24 घंटों में, राज्य भर से 12,978 नए मामले दर्ज किए गए, जो पिछले दिन से 6.3% कम थे। यह राज्य के लिए 11 दिनों में सबसे कम औसत रहा। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह रही दैनिक मृत्यु दर 24 घंटे में 172 से घटकर 153 हो गई, जो 11% की गिरावट थी।

Gujarat sees 6% drop in new coronavirus patients In 24 hours, 12,978 numbers on Sunday

बड़े शहरों की बात करें तो राजकोट शहर ने एक दिन में 33.8% की गिरावट दर्ज की, इसके बाद सूरत में 16.8%, अहमदाबाद में 6% और वडोदरा में 4.4% की गिरावट दर्ज की गई। विशेषज्ञों ने इसके लिए रोज हो रहे कोरोना टेस्‍ट में गिरावट को नए मामलों में कमी आने की वजह माना है। उनके मुताबिक, कोरोना टेस्‍ट शनिवार को 1.5 लाख थे, जबकि शुक्रवार को 1.6 लाख थे।

दूसरी ओर, गुजरात में सक्रिय मामलों की संख्या लगातार बढ़कर 1.47 लाख हो गई। एक विशेषज्ञ ने कहा, रिवकरी रेट में तेजी से वृद्धि हुई है। रविवार को, गुजरात के एक शहर में 1,832 नए रोगी जुड़े, जो एक सप्ताह पहले 7,569 थे।"
शहर के एक वरिष्ठ चिकित्सक ने कहा कि कुछ अस्पतालों ने उच्च ऑक्सीजन की मांग वाले रोगियों को लेना बंद कर दिया है। हालाँकि, शहर में स्थित अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति पर्याप्‍त नहीं है और ये भी कोरोना रिकवरी में बाधा बनी है।

Gujarat sees 6% drop in new coronavirus patients In 24 hours, 12,978 numbers on Sunday

एक डॉक्टर ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, 'इसका कारण यह है कि मध्यम जरूरतों वाले तीन मरीजों को ऑक्‍सीजन की आपूर्ति दी जा सकती है। हमारे यहां किसी भी मरीज को वापस भेजने की इच्छा नहीं है, लेकिन कुछ अस्पतालों को कठोर उपाय करने के लिए मजबूर किया जाता है।"

दो प्रमुख सरकारी अस्पताल- सोला सिविल अस्पताल और गांधीनगर सिविल अस्पताल में- पिछले कुछ दिनों में ऑक्सीजन की आपूर्ति के कारण उपचार के तहत रोगियों की संख्या को सीमित करने के लिए मजबूर हुए हैं। अधिकारियों ने हालांकि यह सुनिश्चित किया कि सुविधाओं को जल्द ही पूरा किया जाए।

सुश्रुषा अस्पताल के निदेशक डॉ. ईशान शाह ने कहा, "आज ऑक्सीजन कई अस्पतालों के लिए सबसे बड़ी जरूरत बन गया है, वे पूरी तरह से सिलेंडर आपूर्ति निर्भर हैं।" उन्‍होंने कहा, "वास्तव में, एक महीने में पाँच बार रेट बढ़े हैं, जैसे कि एक 'ऑक्सीजन बेड़े' को रखने के लिए गैस वहीं चाहिए होगी। ये सुविधा अस्पताल से बाहर नहीं होगी।''

Gujarat sees 6% drop in new coronavirus patients In 24 hours, 12,978 numbers on Sunday

आरना हॉस्पिटल के चेयरमैन डॉ. रोहित जोशी ने कहा कि मिड-साइज़ हॉस्पिटल को एक दिन में 100-150 बॉटल की ज़रूरत होती है। उन्‍होंने कहा, "इस लहर के दौरान उच्च ऑक्सीजन आवश्यकताओं वाले मरीजों में वृद्धि हुई है। कई अस्पताल मालिकों की शाम और रातें अक्सर सिलेंडर की व्यवस्था करने में व्यतीत होती हैं।"

कोरोना से जीता 22 सदस्यों वाला परिवार, पोते से लेकर दादी भी संक्रमित हो गई थीं, ऐसे हुए ठीककोरोना से जीता 22 सदस्यों वाला परिवार, पोते से लेकर दादी भी संक्रमित हो गई थीं, ऐसे हुए ठीक

उन्होंने कहा कि, घर में रहने वाले मरीज भी सिलेंडर के लिए उपभोक्ताओं के रूप में उभरे हैं। उन्हें सिलेंडर के बजाय ऑक्सीजन सांद्रता का उपयोग करने की सलाह दी जानी चाहिए, क्योंकि सभी तकनीकी ज्ञान नहीं रखते हैं।"

English summary
Gujarat sees 6% drop in new coronavirus patients In 24 hours, 12,978 numbers on Sunday
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X