• search
गोवा न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

गोवा में कोरोना का तांडव, अस्‍पताल में जमीन पर पड़े हैं मरीज, शमशान में लगी है कोविड लाशों की लंबी कतार

|

गोवा, 14 मई: कोरोना महमारी के दूसरी लहर में भारत का सबसे सुंदर पर्यटन स्‍थल गोवा वहां रहने वालों के लिए काल साबित हो रहा है। गोवा में अस्‍पताल में मरीज जमीन पर पड़े नजर आ रहे हैं, ऑक्‍सीजन न मिलने से मरीज दम तोड़ रहे हैं। जिसके चलते गोवा के शमशान घाटों पर अंतिम संस्‍कार के लिए कोविड लाशों की लंबी कतार लगी है।

corona

बता दें गोवा में कोरोना महामारी के बढ़ते ही समुद्र के किनारे बसे इस राज्य में श्मशान का नजारा दिल दहला देने वाला है क्योंकि अंतिम संस्कार के लिए शवों की कतार लगी हुई है। मडगांव शहर में स्थित गोवा के सबसे पुराने श्मशान घाटों में लाशों की संख्‍या बढ़ने के कारण अतिरिक्त प्लेटफार्मों का निर्माण किया गया लेकिन वो नाकाफी साबित हो रहे हैं।

गोवा राज्‍य के इस प्राचीन शमशान घाट ने कोरोना मृतकों का अंतिम संस्‍कार करने के लिए दी अनुमति
मठग्रामस्थ हिंदू सभा द्वारा प्रबंधित सदी पुराने श्मशान घाट ने भी कोविड मृतकों के लिए अपने दरवाजे खोल दिए, क्योंकि मृतकों को अन्‍य शमशान घाट पर अंतिम संस्‍कार करने के लिए जगह नहीं मिल रही थी। इस मठ के अध्यक्ष, भाई नाइक ने बताया हमने कोरोना के कारण मरने वाले लोगों का दाह संस्कार करने के लिए अपने दरवाजे खोल दिए, क्योंकि हमने महसूस किया कि उन्हें दूसरों द्वारा नहीं लिया जा रहा था। यह पिछले साल जून में किया गया था जब पहली मौत की सूचना मिली थी। उन्होंने कहा कि संस्था सभी धर्मों के मृतक कोरोना रोगियों के पार्थिक शरीरका अंतिम संस्कार करने के लिए खुली है। नाइक ने कहा कि हर दिन शाम 5 से 6 बजे के बीच कोरोना मृतकों का अंतिम संस्कार किया जाता है।

गोवा में कोरोना से मरने वालों की संख्‍या बढ़ने के कारण अंतिम संस्कार के लिए लंबी कतार लगी है। यह दृश्य गंभीर है। इस सुविधा के प्रभारी एक अधिकारी ने कहा कि बोझ कई गुना बढ़ गया है, लेकिन कोई अन्य विकल्प नहीं है। "हम शवों को वापस नहीं भेज सकते। हम सभी आवश्यक मानक संचालन प्रक्रियाओं का पालन करने के बाद अंतिम संस्कार करते हैं।"

गोवा मेडिकल कालेज में स्‍टोर रूम और जमीन पर पड़े हैं कोरोना मरीज, ऑक्सीजन न मिलने से 15 लोगों की हुई मौतगोवा मेडिकल कालेज में स्‍टोर रूम और जमीन पर पड़े हैं कोरोना मरीज, ऑक्सीजन न मिलने से 15 लोगों की हुई मौत

पणजी शहर के निगम (CCP) ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह गोवा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में COVID -19 से मरने वाले रोगियों के रिश्तेदारों को हार्स वैन सेवा प्रदान करने पर अतिरिक्त शुल्क माफ करेगी। सीसीपी मेयर रोहित मोनसेराटे ने कहा कि अनापत्ति प्रमाण पत्र प्रदान करने के लिए 100 रुपये और शव वाहनों द्वारा शवों को लाने के लिए 500 रुपये का शुल्क लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सुविधा केवल पणजी के निवासियों के लिए उपलब्ध होगी। गुरुवार को, गोवा में COVID-19 केसलोएड 1,30,130 था और टोल 1,937 तक पहुंच गया।

English summary
Goa see a surge in COVID-19 cases, corona bodies continue to line up for last rites.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X