India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

पार्टनर के खर्राटे से हैं परेशान? ये 5 आसान उपाय दिलाएंगे मुश्किल से छुटकारा

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 16 सितम्बर। बहुत सारे लोग होते हैं जो सोते वक्त खर्राटे लेते हैं। खर्राटे लेने वालों को तो पता नहीं चलता लेकिन खर्राटे लेने वालों के साथ सोने वालों के लिए ये बहुत बुरा अनुभव हो सकता है। नेशनल स्लीप फाउंडेशन की रिपोर्ट कहती है कि हर तीन से एक पुरुष और चार में एक महिला खर्राटे लेती हैं। ऐसे में जरा सोचिए इनके पार्टनर को सोते समय किन दिक्कतों का सामना करना पड़ता होगा। हालांकि खर्राटे लेने को छोटी समस्या के रूप में नजरअंदाज कर दिया जाता है लेकिन इसके कई कारण है जिन पर ध्यान देने की जरूरत है। अच्छी बात यह है कि दवाओं का उपयोग किए बिना कई सारे ऐसे उपाय है जिनसे खर्राटों का इलाज किया जा सकता है।

वजन कम करना

वजन कम करना

कई लोग ऐसे होते हैं जो पहले खर्राटे नहीं लेते थे लेकिन वजन बढ़ने के बाद यह शुरू हुआ है। ऐसे लोग के लिए कुछ वजन कम करना मददगार हो सकता है। दरअसल मोटे लोगों में गर्दन के क्षेत्र में अतिरिक्त ऊतक और वसा होता है, जो सांस लेने के रास्ते को छोटा कर सकता है। अध्ययन बताते हैं कि वजन घटाने से खर्राटों को कम किया जा सकता है। यहां तक कि ये पूरी तरह समाप्त भी हो सकते हैं।

सोने की स्थिति
खर्राटे का हमारे सोने की पोजीशन से भी संबंध है। जैसे जब आप पीठ के बल लेट जाते हैं तो खर्राटों के तेज होने की संभावना तेज हो जाती है। जब कोई पीठ के बल लेट जाता है तो हवा के रास्ते में आसपास के ऊतक गुरुत्वाकर्षण के चलते नीचे चले जाते हैं जिसके चलते यह संकरा हो जाता है। वैसे एक दिलचस्प बात ये है कि जब आप झूठ बोलते हैं तो खर्राटों की तीव्रता में कमी आती है।

नासिका मार्ग को खुला रखें

नासिका मार्ग को खुला रखें

जब हमारी नाक बंद हो जाती है या तो सांस के दौरान हवा बहुत तेजी से चलती है, जिससे खर्राटे आते हैं। नासिका मार्ग को खुला रखने से भी खर्राटों को रोका जा सकता है। गर्म तेल की मालिश या नाक के तेल की बूंदें नाक में रुकावटें खोल सकती हैं। इसके अलावा, सोने से पहले एक गर्म स्नान काफी फायदेमंद हो सकता है क्योंकि नमी नाक के मार्ग को खोलती है और खर्राटों की संभावना को कम करती है।

हाइड्रेट रहें
हाइड्रेट रहना न केवल सेहतमंद और फिट रहने के लिए जरूरी है बल्कि खर्राटों को दूर रखने में भी यह मददगार है। जब शरीर में पानी की कमी होती है तो नाक और तालु में चिपचिपा स्राव हो जाता है। यह सांस लेते समय हवा को बाधित कर सकता है जिसके चलते खर्राटे आ सकते हैं। हाइड्रेट रहने के लिए पुरुषों को हर दिन कम से कम 3-4 लीटर पानी या तरल पदार्थ का सेवन करने की सलाह दी जाती है, जबकि महिलाओं को रोजाना 2-3 लीटर तरल पदार्थ लेना चाहिए।

धूम्रपान और शराब

धूम्रपान और शराब

शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि धूम्रपान करने वालों में एडिमा और ऊपरी वायुमार्ग की सूजन के कारण खर्राटे हो सकते हैं। हालांकि इसके प्रभाव दिखने में समय लगता है लेकिन धूम्रपान छोड़ने से खर्राटों की संभावना काफी कम हो सकती है। शराब एक अन्य पदार्थ है जो वायुमार्ग के आसपास की मांसपेशियों को आराम देता है जिससे खर्राटे आने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए, अक्सर यह सलाह दी जाती है कि सोने से पहले शराब का सेवन न करें।

खर्राटे से छुटकारे के लिए अगर इन टिप्स को अगर रोजाना आजमाए जाएं तो सकारात्मक परिणाम मिल सकते हैं।

Skincare Tips: स्किन की रेडनेस से छुटकारा दिलाएंगे ये 7 उपायSkincare Tips: स्किन की रेडनेस से छुटकारा दिलाएंगे ये 7 उपाय

Comments
English summary
snoring is a big problem 5 ways to fix it
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X