• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Sawan 2019: जानिए सावन में महिलाएं क्यों पहनती हैं हरी चूड़ियां और लगवाती हैं मेंहदी?

|

नई दिल्ली। आज से पवित्र महीने सावन की शुरुआत हो गई है, वैसे तो धार्मिक लिहाज से ये महीना तो काफी महत्वपूर्ण है ही साथ ही वैज्ञानिक और प्रेम के दृष्टिकोण से भी ये माह काफी मायने रखता है, इस वक्त आकाश से बारिश होती है, जिससे धरती पर शीतलता रहती है, चारों ओर हरियाली ही हरियाली नजर आती है जो कि आंखों और दिल को सकून देते हैं, इस महीने में एक और खास बात देखने को मिलती है और वो है महिलाओं और लड़कियों का हरा श्रृंगार, इस दौरान महिलाएं हाथों में मेंहदी रचाती हैं, हरी चूड़ियां पहनती हैं और हरे वस्त्र धारण करती हैं।

लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि आखिर सावन के महीने में महिलाएं हरी चूड़ियां या हरा वस्त्र क्यों पहनती हैं, अगर नहीं तो चलिए हम बताते हैं इस राज के बारे में...।

हरा रंग प्रेम और खुशी का प्रतीक

हरा रंग प्रेम और खुशी का प्रतीक

हरा रंग सौभाग्य से जुड़ा होता है दरअसल हरा रंग प्रेम और खुशी का प्रतीक माना जाता है और इसी वजह से महिलाएं सावन के महीने में हरे रंग के श्रृंगार से भगवान और प्रकृति को धन्यवाद देती हैं और अपनी खुशी का इजहार करती हैं। हरा रंग सौभाग्य से जुड़ा होता है इसलिए इस माह बहुत से लोग हरे रंग का कपड़ा पहनना पसंद करते हैं।

यह पढ़ें: #SareeTwitter: जब ट्वीट करके प्रियंका गांधी ने राबर्ट वाड्रा से कहा-मुझे आप डिनर पर ले जा सकते हैं...

हरा रंग शिव का प्रिय है...

हरा रंग शिव का प्रिय है...

हरा रंग शिव का प्रिय है और उन्हें खुश करने के लिए हरी चूड़ियां या हरा वस्त्र पहना जाता है और हाथों में मेंहदी लगाई जाती है, जिससे महिलाओं को अखंड सौभाग्यवती होने का वरदान मिले।

बुद्ध ग्रह का रंग

बुद्ध ग्रह का रंग माना जाता है हरा रंग, इंसान की कामयाबी के लिए उसका करियर में सफल होना बहुत जरूरी है और इसके लिए बुद्ध ग्रह को खुश करने के लिए हरे रंग का श्रृंगार किया जाता है।

चूड़ियों का महत्व

चूड़ियों का महत्व

चूड़ियां तो मन की चंचलता को दर्शाती हैं तो कंगना मातृत्व की ललक उत्पन्न करता हैं। इसलिए कंगन दुल्हनों का श्रृंगार है जब कि चूंड़ियां कुमारी कन्याएं भी पहनती हैं। हमारे साहित्यकारों ने भी इस श्रृंगार के बारे में इतना कुछ लिख दिया है जिसके बारे में बात करना बेहद कठिन हैं। वैसे भी जब तक दुल्हन के हाथ में चूड़ियां और कंगन खनकते नहीं हैं तब तक एहसास नहीं होता कि दुल्हन घर आ गयी हैं।

सावन का महीना प्रेम का महीना कहलाता है ...

सावन का महीना प्रेम का महीना कहलाता है ...

बेहद ही खूबसूरत श्रृंगार में शामिल कंगना और चूड़ी केवल महिलाओं को ही नहीं रिझाते बल्कि पुरूषों का भी दिल चुराते हैं। सावन का महीना प्रेम का महीना कहलाता है और इसी कारण महिलाएं अपने सुंदर श्रृंगार से अपने पतियों को रिझाने का भी काम करती हैं।

यह पढ़ें: सलमान खान के दिव्यांग फैन ने पैर से बनाई उनकी तस्वीर, Video देख इमोशनल हो जाएंगे आप

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sawan is the month, girls and women all are excited about painting their hands red with mehandi or Henna and load their hands with green and red colour glass bangles. There is auspicious spritual reason behind wearing green bangles during sawan.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X