• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की Biography : बंदे में था दम, वंदे मातरम

|

बेंगलुरू। मोहनदास करमचन्द गांधी केवल एक इंसान का नाम नहीं है बल्कि ये नाम है उस सिद्धांत का, जिसको मानने वाला इंसान कभी भी अपने रास्ते से भटक नहीं सकता है। गांधी वो चरित्र है, जो कि भारतीयों की आत्मा में बसता है। ऐनक पहने और हाथों में लाठी लिए गांधी ने देश को केवल अंग्रेजों की गुलामी से आजाद नहीं कराया था, बल्कि ये साबित किया था कि अंहिसा और सच के रास्ते से ही हर लड़ाई जीती जा सकती हैं।

शहीद-ए-आजम भगत सिंह की Biography : जिसने बांधा 'कफन' का सेहरा

उनके व्यक्तित्व को शब्दों में तराशा नहीं जा सकता है लेकिन हां इस आदर्श चरित्र को पढ़कर समझ जरूर सकते हैं और जिसने गांधी को समझ लिया, समझिए वो हर जंग जीत गया।

एक नजर उनके जीवन पर...

प्रारंभिक जीवन

  • मोहनदास करमचन्द गांधी का जन्म पश्चिमी भारत में वर्तमान गुजरात के एक तटीय शहर पोरबंदर नामक स्थान पर 2 अक्टूबर सन् 1869 को हुआ था।
  • उनके पिता करमचन्द गांधी ब्रिटिश राज के समय काठियावाड़ की एक छोटी सी रियासत (पोरबंदर) के दीवान थे।
  • उनकी माता पुतलीबाई था।
  • मई 1883 में गांधी जी की शादी कस्तूरबा से हुई थी।
  • इनके चार पुत्र हरीलाल गांधी, मणिलाल गांधी, रामदास गांधी और देवदास गांधी 1900 थे।
शिक्षा

शिक्षा

  • 4 सितम्बर 1888 को गांधी यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में कानून की पढ़ाई करने और बैरिस्टर बनने के लिये इंग्लैंड चले गए।
  • इंग्लैंड और वेल्स बार एसोसिएशन में वापस बुलावे पर वे भारत लौट आये किन्तु बम्बई में वकालत करने में उन्हें कोई खास सफलता नहीं मिली।
  • बाद में एक हाई स्कूल शिक्षक के रूप में अंशकालिक नौकरी का प्रार्थना पत्र अस्वीकार कर दिये जाने पर उन्होंने जरूरतमंदो के लिये मुकदमे की अर्जियां लिखने का काम शुरू किया लेकिन वहां पर उनका मन नहीं लगा।
  • सन् 1893 में एक भारतीय फर्म से नेटल (दक्षिण अफ्रीका) में एक वर्ष के करार पर वकालत का कार्य स्वीकार कर लिया।
  •  दक्षिण अफ्रीका की घटना ने बदले विचार

    दक्षिण अफ्रीका की घटना ने बदले विचार

    गांधी 24 साल की उम्र में दक्षिण अफ्रीका पहुंचे। वह प्रिटोरिया स्थित कुछ भारतीय व्यापारियों के न्यायिक सलाहकार के तौर पर वहां गए थे। उन्होंने अपने जीवन के 21 साल दक्षिण अफ्रीका में बिताए। दक्षिण अफ्रीका में उनको गंभीर नस्ली भेदभाव का सामना करना पड़ा। एक बार ट्रेन में प्रथम श्रेणी कोच की वैध टिकट होने के बाद तीसरी श्रेणी के डिब्बे में जाने से इन्कार करने के कारण उन्हें ट्रेन से बाहर फेंक दिया गया। ये सारी घटनाएं उनके के जीवन में महत्वपूर्ण मोड़ बन गईं और मौजूदा सामाजिक और राजनैतिक अन्याय के प्रति जागरुकता का कारण बनीं। दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों पर हो रहे अन्याय को देखते हुए उनके मन में ब्रिटिश साम्राज्य के अन्तर्गत भारतियों के सम्मान तथा स्वयं अपनी पहचान से सम्बंधित प्रश्न उठने लगे और यहीं से उनकी सोच बदली।

     भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का संघर्ष (1916-1945)

    भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का संघर्ष (1916-1945)

    वर्ष 1914 में गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत वापस लौट आये। इस समय तक गांधी एक राष्ट्रवादी नेता और संयोजक के रूप में प्रतिष्ठित हो चुके थे। वह उदारवादी कांग्रेस नेता गोपाल कृष्ण गोखले के कहने पर भारत आये थे। उसके बाद उन्होंने यहाँ के किसानों, मजदूरों और शहरी श्रमिकों को अत्यधिक भूमि कर और भेदभाव के विरुद्ध आवाज उठाने के लिये एकजुट किया।

     नमक सत्याग्रह

    नमक सत्याग्रह

    1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की बागडोर संभालने के बाद उन्होंने देशभर में गरीबी से राहत दिलाने, महिलाओं के अधिकारों का विस्तार, धार्मिक एवं जातीय एकता का निर्माण और आत्मनिर्भरता के लिये कई कार्यक्रम चलाए। गांधी जी ने ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों पर लगाये गये नमक कर के विरोध में 1930 में नमक सत्याग्रह और इसके बाद 1942 में अंग्रेजो भारत छोड़ो आंदोलन से वो पूरी राष्ट्र के आवाज बन गए थे।

     असहयोग आन्दोलन

    असहयोग आन्दोलन

    गांधी जी का मानना था की भारत में अंग्रेजी हुकुमत भारतियों के सहयोग से ही संभव हो पाई थी और अगर हम सब मिलकर अंग्रेजों के खिलाफ हर बात पर असहयोग करें तो आजादी संभव है। गाँधी जी की बढती लोकप्रियता ने उन्हें कांग्रेस का सबसे बड़ा नेता बना दिया था और अब वह इस स्थिति में थे कि अंग्रेजों के विरुद्ध असहयोग, अहिंसा तथा शांतिपूर्ण प्रतिकार जैसे अस्त्रों का प्रयोग कर सकें। गांधी जी ने स्वदेशी नीति का आह्वान किया जिसमें विदेशी वस्तुओं विशेषकर अंग्रेजी वस्तुओं का बहिष्कार करना था। उनका कहना था कि सभी भारतीय अंग्रेजों द्वारा बनाए वस्त्रों की अपेक्षा हमारे अपने लोगों द्वारा हाथ से बनाई गई खादी पहनें। उन्होंने पुरूषों और महिलाओं को प्रतिदिन सूत कातने के लिए कहा।

    द्वितीय विश्व युद्ध

    द्वितीय विश्व युद्ध

    द्वितीय विश्व युद्ध के आरंभ में गांधी जी अंग्रेजों को अहिंसात्मक नैतिक सहयोग देने के पक्षधर थे परन्तु कांग्रेस के बहुत से नेता इस बात से नाखुश थे कि जनता के प्रतिनिधियों के परामर्श लिए बिना ही सरकार ने देश को युद्ध में झोंक दिया था। गांधी ने घोषणा की कि एक तरफ भारत को आजादी देने से इंकार किया जा रहा था और दूसरी तरफ लोकतांत्रिक शक्तियों की जीत के लिए भारत को युद्ध में शामिल किया जा रहा था। जैसे-जैसे युद्ध बढता गया गांधी जी और कांग्रेस ने ‘भारत छोड़ो" आन्दोलन की मांग को तीव्र कर दिया। गांधी जी ने यह स्पष्ट कर दिया था कि वह ब्रिटिश युद्ध प्रयासों को समर्थन तब तक नहीं देंगे जब तक भारत को तत्‍काल आजादी न दे दी जाए। इस दौरान कई बार उन्हें लाठियां खानी पड़ीं, उनके साथियों को जेल में रहना पड़ा लेकिन गांधी ने हार नहीं मानी।

    भारत हुआ आजाद

    भारत हुआ आजाद

    अंग्रेजी सरकार ने गांधी जी और कांग्रेस कार्यकारणी समिति के सभी सदस्यों को मुबंई में 9 अगस्त 1942 को गिरफ्तार कर लिया और गांधी जी को पुणे के आंगा खां महल ले जाया गया जहाँ उन्हें दो साल तक बंदी बनाकर रखा गया। इसी दौरान उनकी पत्नी कस्तूरबा गांधी का देहांत हो गया और कुछ समय बाद गांधी जी भी मलेरिया से पीड़ित हो गए। अंग्रेज़ उन्हें इस हालत में जेल में नहीं छोड़ सकते थे इसलिए जरूरी उपचार के लिए 6 मई 1944 को उन्हें रिहा कर दिया गया। आशिंक सफलता के बावजूद भारत छोड़ो आंदोलन ने भारत को संगठित कर दिया और द्वितीय विश्व युद्ध के अंत तक ब्रिटिश सरकार ने स्पष्ट संकेत दे दिया था की जल्द ही सत्ता भारतीयों के हाथ सौंप दी जाएगी। गांधी जी ने भारत छोड़ो आंदोलन समाप्त कर दिया और सरकार ने लगभग 1 लाख राजनैतिक कैदियों को रिहा कर दिया।

    भारत और पाकिस्तान

    भारत और पाकिस्तान

    भारत की आजादी के आंदोलन के साथ-साथ, मोहम्मद अली जिन्ना के नेतृत्व में एक 'अलग मुसलमान बाहुल्य देश' (पाकिस्तान) की भी मांग तीव्र हो गयी थी और 40 के दशक में इन ताकतों ने एक अलग राष्ट्र 'पाकिस्तान' की मांग को वास्तविकता में बदल दिया था। गांधी जी देश का बंटवारा नहीं चाहते थे क्योंकि यह उनके धार्मिक एकता के सिद्धांत से बिलकुल अलग था पर ऐसा हो न पाया और अंग्रेजों ने देश को दो टुकड़ों - भारत और पाकिस्तान - में विभाजित कर दिया।

    गांधी जी की हत्या

    गांधी जी की हत्या

    30 जनवरी 1948 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की दिल्ली के बिरला हाउस में शाम 5:17 पर हत्या कर दी गयी। गाँधी जी एक प्रार्थना सभा को संबोधित करने जा रहे थे जब उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे ने उबके सीने में 3 गोलियां दाग दी। ऐसे माना जाता है की ‘हे राम' उनके मुख से निकले अंतिम शब्द थे। 4 जून 1944 को सुभाषंचंद्र बोस ने सिंगापुर रेडियो से एक संदेश प्रसारित करते हुए महात्मा गांधी को देश का पिता (राष्ट्रपिता) कहकर संबोधित किया था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Mahatma Gandhi was a prominent Indian political leader who campaigned for Indian independence.he is known as Father of the Nation. Here is his Biography in Hindi.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more