• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

International Nurses Day 2021: कौन थीं फ्लोरेंस नाइटिंगेल, जिनकी याद में मनाया जाता है 'नर्स डे'

|

नई दिल्ली, 12 मई। आज 'इंटरनेशनल नर्स दिवस' है, कोविड महामारी के बीच नर्स-डाक्टर्स ही हर देश में रीयल योद्धा के रूप में सामने आए हैं। एक मरीज की देखरेख का सारा काम नर्स करती हैं, डॉक्टर के दिए निर्देश का यथासमय पर पालन करने से ही बीमार आदमी ठीक होता है औैर ये भूमिका निभाती है 'नर्स'। वैसे आपको बता दें कि 'इंटरनेशनल नर्स डे' पूरी दुनिया में आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल की याद में मनाया जाता है।

    International Nurses Day 2021: कब और क्यों मनाया जाता है International Nurses Day ? | वनइंडिया हिंदी
    'अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस'

    'अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस'

    आज फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्मदिवस है और इसलिए यह दिन नर्स दिवस के रूप में पूरे विश्व में सेलिब्रेट किया जाता है। "लेडी विद द लैंप" के नाम से मशहूर फ्लोरेंस नाइटिंगेल की सेवा, समर्पण, त्याग के आगे पूरा विश्व नतमस्तक है।

    यह पढ़ें: WHO की वैज्ञानिक ने कहा-'भारत में हालात खराब, कोरोना के सही आंकड़े दिखाए सरकार'यह पढ़ें: WHO की वैज्ञानिक ने कहा-'भारत में हालात खराब, कोरोना के सही आंकड़े दिखाए सरकार'

    कौन थीं फ्लोरेंस नाइटिंगेल

    कौन थीं फ्लोरेंस नाइटिंगेल

    फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म 12 मई 1820 ब्रिटेन में हुआ था, ये वो दौर था जब नर्सों को वो सम्मान नहीं दिया जाता था, जो कि सम्मान उन्हें आज मिलता है। फ्लोरेंस एक संभ्रात परिवार से ताल्लुक रखती थीं, उनके पिता विलियम एडवर्ड नाइटिंगेल एक समृद्ध जमींदार थे इसलिए जब उन्होंने 1845 में गरीब-असहाय लोगों की सेवा का प्रण लिया तो उन्हें अपने परिवार के विरोध का सामना करना पड़ा था। लेकिन फिर इन्होंने जर्मनी में प्रोटेस्टेंट डेकोनेसिस संस्थान से नर्सिंग की पढ़ाई पूरी की।

    यह पढ़ें:Assam: 22 साल के बिस्वा ने 17 साल की रिनकी से कहा था-'अपनी मां को बता दो, मैं एक दिन CM बनूंगा'यह पढ़ें:Assam: 22 साल के बिस्वा ने 17 साल की रिनकी से कहा था-'अपनी मां को बता दो, मैं एक दिन CM बनूंगा'

    "लेडी विद द लैंप" के नाम मशहूर

    प्रीमिया युद्ध के दौरान फ्लोरेंस ने लालटेन लेकर सभी सैनिकों की निस्वार्थ भाव से सेवा की थी और इसी वजह से उन्हें "लेडी विद द लैंप" के नाम से संबोधित किया जाता है। फ्लोरेंस नाइटिंगेल ने साल 1860 में सेंट टॉमस अस्पताल और नर्सों के लिए नाइटिंगेल प्रशिक्षण स्कू‍ल की स्थापना की थी। जनवरी 1974 में फ्लोरेंस नाइटिंगेल की याद और सम्मान में 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाए जाने का प्रस्ताव यूएस में पारित हुआ था। आज के दिन नर्सिंग के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाली नर्सों को फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार से भी सम्मानित किया जाता है।

    राहुल गांधी ने किया Tweet

    राहुल गांधी ने किया Tweet

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने'इंटरनेशनल नर्स दिवस' पर सभी नर्सों को बधाई दी है। उन्होंनेट्वीट है कि 'उन लोगों को मेरी शुभकामनाएं जो इस दुनिया से दर्द और पीड़ा को दूर कर रहे हैं। हम आपके योगदान को सलाम करते हैं और आपकी परोपकारी भावना की प्रशंसा करते हैं। हैप्पी इंटरनेशनल नर्स डे।'

     कुछ बधाई संदेश

    कुछ बधाई संदेश

    • सेवा का उत्तम भाव तुम्हारा,निस्वार्थ है बहाव तुम्हारा, बिना भेदभाव के ख्याल रखती हो, है जनमानस से लगाव तुम्हारा।(अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस की शुभकामनाएं)
    • तुम कर्मनिष्ठ सेवा की मूरत, हर काम तेरा कमाल है, है तहेदिल से आभार तुम्हारा, तू इंसानियत की मिसाल है।(अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस की शुभकामनाएं)
    • जीवन की डोर हो तुम, जीवन संचार हो तुम, करती नैया पार हो तुम, नर्स नहीं भगवान हो तुम(अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस की शुभकामनाएं)
    • ना रातों को सो रही हो,ना अपने दुखो में रो रही हो।निजी सुखो को त्याग कर, है देश से जुड़ाव तुम्हारा। बिना भेदभाव के ख्याल रखती हो, है आम जनमानस से लगाव तुम्हारा।(अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस की शुभकामनाएं)

    English summary
    Every year May 12, the birth anniversary of Florence Nightingale, is observed as International Nurses Day.Read History and Everything about Florence Nightingale and quotes.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X