• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Bday Special: जब रूठे मनमोहन को मनाने उनके घर पहुंचे थे अटल बिहारी, जानिए कुछ अनकही बातें

|

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को उनके 87वें जन्मदिन के मौके पर बधाई दी है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके मनमोहन सिंह को जन्मदिन की बधाई देते हुए उनकी स्वस्थ्य जीवन और लंबी उम्र की कामना की है, गौरतलब है कि डॉ. मनमोहन सिंह यूपीए की सरकार के दौरान 2004 से 2014 तक देश के प्रधानमंत्री रहे हैं।

जब मनमोहन सिंह हो गए थे अटल बिहारी से गुस्सा

जब मनमोहन सिंह हो गए थे अटल बिहारी से गुस्सा

प्रसिद्ध अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह को राजनीति में लाने का श्रेय भले पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव को जाता है, लेकिन उन्हें राजनीति की पेचीदगियों से वाकिफ करने में अटल बिहारी वाजपेयी का भी योगदान माना जाता है, वैसे को बेहद ही शांत स्वभाव और कम बोलने वाले मनमोहन सिंह ने एक बार संसद में काफी कुछ बोला था, जिसके बाद वो देश के पूर्व अटल बिहारी वाजपेयी की निशाने पर आ गए थे, जिससे आहत होकर मनमोहन सिंह ने इस्तीफा देने की पेशकश की थी।

यह पढ़ें: Article 370: डोभाल के कश्मीर दौरे पर मुफ्ती का तंज- पिछली बार बिरयानी क्या इस बार हलीम?

अटल बिहारी की आलोचना से आहत हो गए थे मनमोहन सिंह

अटल बिहारी की आलोचना से आहत हो गए थे मनमोहन सिंह

दरअसल ये बात साल 1991 की है, तब केंद्र में पीवी नरसिम्हा राव की सरकार थी, इस सरकार में डॉक्टर मनमोहन सिंह वित्तमंत्री थे, मनमोहन सिंह देश में आर्थिक उदारीकरण से जुड़े फैसल ले रहे थे, इसी को ध्यान में रखकर मनमोहन सिंह ने संसद में बजट पेश किया था, उस वक्त अटल बिहारी वाजपेयी नेता प्रतिपक्ष थे. मनमोहन सिंह ने अपना बजट भाषण संपन्न किया तो नेता प्रतिपक्ष होने के नाते अटल बिहारी वाजपेयी ने अपना भाषण दिया।

लेकिन अटल बिहारी ने मना लिया था दोस्त मनमोहन सिंह को

लेकिन अटल बिहारी ने मना लिया था दोस्त मनमोहन सिंह को

इस भाषण में वाजपेयी ने मनमोहन सिंह की ओर से पेश किए गए बजट की जमकर आलोचना की थी, बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक वाजपेयी की आलोचना से मनमोहन सिंह आहत हो गए थे, आलम यह था कि उन्होंने तत्कालीन पीएम नरसिम्हा राव को इस्तीफा देने तक के बारे में सोच रहे थे, नरसिम्हा राव को यह बात पता चली तो उन्होंने वाजपेयी को फोन कर पूरी कहानी बताई, जिसके बाद खुद अटल बिहारी अपने रूठे दोस्त मनमोहन सिंह को मनाने पहुंचे थे।

करीबी दोस्त थे अटल और मनमोहन

करीबी दोस्त थे अटल और मनमोहन

अटल बिहारी ने मनमोहन सिंह से मुलाकात की और उन्हें समझाया कि उनकी आलोचना राजनीतिक है, संसद में उन्होंने राजनीतिक भाषण दिया था, उन्होंने कोई निजी अटैक नहीं किया, जिसके बाद मनमोहन सिंह ने वित्त मंत्री पद छोड़ने का फैसला वापस ले लिया था, इस मुलाकात का असर यह हुआ कि मनमोहन सिंह और अटल बिहारी वाजपेयी दोस्त बन गए, अटल बिहारी वाजपेयी जब बीमारी से ग्रसित रहे तो उनसे नियमित मिलने वालों में मनमोहन सिंह भी शामिल थे।

यह पढ़ें: Bigg Boss 13: OMG 400 करोड़ नहीं बल्कि 15 हफ्तों की इतनी फीस ले रहे हैं सलमान खान

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Former Prime Minister Dr. Manmohan Singh turns 87 years today.he had very special bond with former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee, read some Interesting story abot their friendship.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more