• search
फर्रुखाबाद न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

फर्रुखाबाद: 23 बच्चों को बंधक बनाने वाले दंपति की अनाथ बेटी 'गौरी' को IPS बनाएंगे IG मोहित

|

फर्रुखाबाद. उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में मारे गए बदमाश सुभाष बाथम और उसकी पत्नी रूबी की अंत्येष्टि भी हो चुकी है। दोनों ने फर्रुखाबाद के मोहम्मदाबाद के करथिया गांव में 24 बच्चों को बंधक बनाकर मार डालने की साजिश रची थी। मगर, पुलिस की टीम ने कुछ ही देर चले ऑपरेशन में बंधक बच्चों को सकुशल छुड़ा लिया था। सुभाष बाथम और रूबी की एक संतान थी, वह है एक बच्ची।

यूपी पुलिस की वर्दी पर लगतार बढ़ रहे हैं बदनामी के तमगे, योगी राज में क्या हो रहा है

बच्ची को पालेगी यूपी पुलिस

बच्ची को पालेगी यूपी पुलिस

उस बच्ची को पालने की जिम्मेदारी अब खुद पुलिस ने ली है। मालूम हो कि, सुभाष के एनकाउंटर के बाद गांववालों की भीड़ ने उसकी पत्नी रूबी को भी मार डाला था। दोनों की मौत के बाद उनकी एक साल की बच्ची गौरी (कुसुम) अकेली रह गई। उसे लेने कोई नहीं आया।​ जिसके बाद उसे फर्रुखाबाद पुलिस ने गोद ले लिया है। पुलिसकर्मियों का कहना है कि, जब तक उसके लिए कोई वारिस नहीं मिल जाता है, तब तक पुलिस बच्ची की परवरिश कराएगी।

आईजी रेंज ने कही ये बात

आईजी रेंज ने कही ये बात

आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने कहा कि बच्ची की देखभाल फर्रुखाबाद में ही किसी महिला पुलिसकर्मी को दी जाएगी। अगर कोई बाहरी व्यक्ति बच्ची को गोद लेने के लिए आवेदन करेगा तो उस पर भी प्रशासनिक स्तर से विचार किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि, मैंने उसका पढ़ाई खर्च उठाने का फैसला लिया है। उसे आईपीएस बनाने का इरादा है।'' वहीं, उन दोनों मृतकों की लाश को उनके सगे-संबंधियों ने भी नहीं लिया था। रविवार को पुलिस ने खुद ही दोनों का दाह संस्कार किया।

यह भी पढ़ें: हत्यारे सुभाष ने रूस-अमेरिका की घटनाओं के वीडियो देख रचा था षड्यंत्र, 120 सेकेंड में मारा गया

गांववालों ने यूं घेरा था मकान को

गांववालों ने यूं घेरा था मकान को

जब सुभाष बाथम ने गुरुवार को 24 बच्चों को घर में बंधक बना लिया था, तो सूचना पर पहुंची पुलिस एवं आईजी मोहित अग्रवाल बच्चों को मुक्त कराने के लिए सीढ़ी के जरिये छत पर जाने की तैयारी में थे। वहीं, आक्रोशित गांववालों की भीड़ ने सुभाष के घर पथराव करते हुए दरवाजा तोड़ डाला था। पुलिस भी पीछे से घुस गई थी। भीड़ ही सुभाष और उसकी बीवी को बाहर खींच लाई थी।

इस तरह दोनों पति-पत्नी मारे गए

इस तरह दोनों पति-पत्नी मारे गए

पुलिस ने सुभाष को पकड़ा और मकान में ही गोलियों से मार डाला। भीड़ भी सुभाष पर हमलावर हो गई, तो उसकी बीवी रूबी ने बचाने की कोशिश की। तब भीड़ ने दोनों पर जमकर गुस्सा निकाला था। गंभीर घायल हुई रूबी को पुलिस एंबुलेंस से लोहिया अस्पताल ले गई। जहां से सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी रेफर किया गया, रास्ते में उसकी मौत हो गई।

फर्रुखाबाद: 23 बच्चों की जान के दुश्मन बने सुभाष की लाश लेने से मां ने किया मना, पुलिस ने खुद की अंत्येष्टि

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
UP Police adopt Subhash Batham's orphan daughter after encounter
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X