• search
फैजाबाद / अयोध्या न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

उद्धव ठाकरे को लेकर संतों और चंपत राय के बीच बढ़ी तनातनी, अखाड़ा परिषद ने दोनों को दी यह सलाह

|

अयोध्या। कंगना रनौत के समर्थन में आए हनुमानगढ़ी के संत राजू दास ने जब कहा कि शिव सैनिकों को अयोध्या में घुसने नहीं देंगे, इस पर श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने बयान दिया कि किसने मां का दूध पीया है जो उद्धव ठाकरे को अयोध्या आने से रोक दे। चंपत राय के बयान के बाद अयोध्या के नाराज संतों ने उनको श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट से हटाने की मांग करते हुए कहा कि ऐसा नहीं किया गया तो आंदोलन करेंगे। संतों और चंपत राय के बीच इस तनातनी पर अब अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने दोनों को बयानबाजी नहीं करने की सलाह दी है। उन्होंने संतों से भी कहा कि मंदिर में किसी को घुसने नहीं देने वाला बयान ठीक नहीं, वहीं उन्होंने चंपत राय के बयान को अंहकार से भरा बताया।

Akhada Prishad statement on tension between saints and Champat Rai

महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि उद्धव ठाकरे से संत-महात्मा तभी से नाराज हैं जब पालघर की घटना हुई। हमारे दो संतों और ड्राइवर को लोगों ने पीट-पीटकर दरिंदगी से मार डाला। अभी तक उद्धव ठाकरे सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की। संत गुस्से में हैं और महंत राजू दास ने जो बयान दिया है, वह इसी आवेश में दिया है। उद्धव ठाकरे या कोई भी हों, उनको किसी भी मंदिर में जाने का अधिकार है, उनको कोई रोक नहीं सकता इसलिए महंत राजू दास को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए। लेकिन चंपत राय का बयान अहंकार से भरा है। चंपत राय विश्व हिंदू परिषद से बरसों से जुड़े है, वे श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के महामंत्री हैं, उनका एक कद है। मां का दूध पीया है तो कोई रोककर दिखा दे जैसा बयान चंपत राय को भी नहीं देना चाहिए। संतों ने अगर कुछ कह दिया तो चंपत राय को पलटकर ऐसा नहीं बोलना चाहिए था। महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि चंपत राय संतों का सम्मान करें और संत भी धैर्यपूर्वक बयान दें जिस पर कोई विवाद न हो।

Akhada Prishad statement on tension between saints and Champat Rai

चंपत राय के बयान के बाद अयोध्या के संतों ने उनके खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी है। निर्वाणी अखाड़ा के महंत धर्मदास ने मांग की कि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय को पद से तुरंत हटाया जाए नहीं तो बड़ा आंदोलन होगा। अगर उसमें कुछ भी हुआ तो उसकी जिम्मेदारी सरकार और चंपत राय की होगी। चंपत राय के बयान पर हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने पलटवार करते हुए कहा कि वे ईस्ट इंडिया कंपनी की भाषा बोल रहे हैं। चंपत राय ने साधु-संतों का अपमान किया है। ऐसे लोगों की अयोध्या में जरूरत नहीं है, उनको तत्काल ट्रस्ट से हटाने की हम मांग करते हैं।

उद्धव के समर्थन में उतरे राम जन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय, कहा- है कोई मां का लाल जो...

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Akhada Prishad statement on tension between saints and Champat Rai
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X