• search
दिल्ली न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

किसान आंदोलन: कोरोना से बचने के लिए बंट रहा काढ़ा, प्रदर्शनकारी बोले- सरकार ने कुछ नहीं किया

|

दिल्ली। केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में नवंबर 2020 से जारी किसान संगठनों के आंदोलन में भी कोरोना वायरस का खौफ देखा जा सकता है। यहां धरना स्‍थलों पर आने वाले लोग महामारी से बचाव के लिए अपने स्‍तर पर ही कई तरह के इंतजाम कर रहे हैं। विरोध-प्रदर्शन का प्रमुख अड्डा बने टीकरी व सिंघू बॉर्डर पर 'काढ़ा' परोसा जा रहा है। यह काढ़ा कुछ वनस्‍पतियों, नींबू व लौंग इत्‍यादि से बनाया गया है। जिससे वायरस की चपेट में आने से बचा जा सकता है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि, कोरोना से बचने के लिए उन्हें सरकार से कोई सुविधा नहीं मिली है। सभी उपायों को वे खुद ही कर रहे हैं।

farmers serve covid kadha

प्रदर्शनकारियों द्वारा कोरोना से बचाव के लिए क्‍या-क्‍या किया जा रहा है, इस सवाल पर एक किसान नेता ने कहा, "चौबीसों घंटे चलने वाले लंगरों को नियमित रूप से साफ किया जा रहा है। किसानों की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार के लिए, उन्हें 'काढ़ा' भी परोसा जा रहा है। इसके अलावा, आसपास के क्षेत्रों में टीकाकरण शिविर हैं और जो कोई भी टीकाकरण कराना चाहता है,वो स्वतंत्र है। जाएं और टीका लगवाएं।"

किसान नेता अभिमन्यु कोहाड़ ने कहा कि, सिंघू बॉर्डर पर हर लंगर की नियमित रूप से सफाई की जा रही है और प्रदर्शनकारियों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए रोज 'काढ़ा' भी परोसा जा रहा है। दिल्‍ली से सटे गाजियाबाद के डासना में तो किसान-प्रदर्शनकारी रतजगा भी करते हैं और तम्बू में काढ़ा बनाकर पीते हैं। जिन मार्गों पर प्रदर्शनकारियों का जमावाड़ा है, वहां 24 घंटे की नाकाबंदी देखी जा सकती है।

वहीं, संयुक्‍त किसान मोर्चा के नेता ने कहा, ''हजारों किसान, जो ज्यादातर पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं, वे इन दिनों दिल्ली से लगते तीन इलाकों- सिंघू, टिकरी और गाजीपुर में लगभग छह महीने से केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि सुधार कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं। हमारी लड़ाई पिछले साल सितंबर में शुरू हुई थी।''

farmers serve covid kadha

भारतीय किसान यूनियन के नेता रूप सिंह ने कहा, "हमने टिकरी बॉर्डर पर धरना-स्‍थल को 17 किमी इलाके में विघटित किया है, ताकि प्रदर्शनकारियों के बीच सोशल डिस्‍टेंसिंग बनी रहे। हमारे कई संगठन प्रदर्शनकारियों के लिए मास्क, सैनिटाइटर एवं दवाओं का वितरण कर रहे हैं।'

बंगाल में भाजपा हारी तो आंदोलनकारी किसानों ने फोड़े पटाखे, मिठाइयां बांटकर मना रहे जश्नबंगाल में भाजपा हारी तो आंदोलनकारी किसानों ने फोड़े पटाखे, मिठाइयां बांटकर मना रहे जश्न

कोरोना वैक्‍सीन लगवा रहे हैं या नहीं, इस सवाल पर वह बोले कि, वैक्‍सीनेशन वाले आएंगे तो सब लगवा सकते हैं। सिंह ने दावा किया कि, अभी वायरस के खिलाफ लड़ाई में किसानों को सरकार से कोई समर्थन नहीं मिला है, और यहां तक कि टीकरी बॉर्डर पर वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सभी उपाय केवल उनके द्वारा किए गए हैं।

English summary
farmers' protest: To improve the immunity of protesters, langars serve them 'kadha', Mask and sanitizer
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X