• search
दिल्ली न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

सुप्रीम कोर्ट को सॉलिसिटर जनरल ने बताया, देश को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत

|

नई दिल्ली, अप्रैल 22: भारत में कोरोना की दूसरी वेव तूफान बन कर आ गई है। देश के ज्यादातर हिस्सों की हालत ये है कि अस्पताल में ऑक्सीजन से लेकर वेड तक के लिए मारामारी हो रही है। कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। ऑक्सीजन के अभाव में मरीजों की सांसें उखड़ रही हैं। इस बीच आज सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि देश को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है।

Supreme Court
    Corona के हालात पर Supreme Court का केंद्र को नोटिस, इन चार मुद्दों पर पूछे सवाल | वनइंडिया हिंदी

    दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने ऑक्सीजन की आपूर्ति और आवश्यक दवाओं के मुद्दे पर स्वत: संज्ञान लिया था। सीजेआई एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की तीन न्यायाधीशों की पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कोविड-19 से निपटने के लिए नेशनल प्लान के बारे में जानकारी देने के लिए कहा। अब अदालत इस मामले में कल यानी शुक्रवार (23 अप्रैल) को करेगी।

    इस तरह से करें दो मास्क का इस्तेमाल, 95 प्रतिशत तक कम हो जाएगा कोरोना का खतराइस तरह से करें दो मास्क का इस्तेमाल, 95 प्रतिशत तक कम हो जाएगा कोरोना का खतरा

    सर्वोच्च अदालत ने सरकार से नेशनल प्लान मांगा है, जिसमें ऑक्सीजन और दवाओं की सप्लाई, वैक्सीन देने की प्रक्रिया सहित लॉकडाउन के मुद्दे पर रिपोर्ट पेश करने को कहा है। आपको बता दें कि देश में बढ़ते कोरोना संकट और फिर अस्पतालों में ऑक्सीजन के साथ दवाओं की भारी कमी के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाई है। कोर्ट ने गुरुवार को स्वत: संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया था।

    English summary
    Solicitor General Tushar Mehta told Supreme Court country dire need of oxygen
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X