• search
छत्तीसगढ़ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

मकर संक्रांति के दिन जन्मा तीन आंखो वाला बछड़ा ,लोग मान रहे शिव का रूप

|
Google Oneindia News

राजनांदगांव,15 जनवरी । कुदरत कभी-कभी अनोखे चमत्कार करती है,जिसे देखकर लोग अचरज मे पड़ जाते हैं। छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले मे ऐसा ही कुछ घटा है। जिले के गंडई इलाके की ग्राम पंचायत बुन्देली के गांव लोधी नवागांव में तीन आंखों वाला बछड़ा लोगो में कौतुहल का विषय बना हुआ है। इस तीन आंखों वाले बछड़े को लोग भगवान शिव का रूप मानकर उसके दर्शन के लिए लम्बी कतार मे लग रहे हैं। इतना ही नहीं वह उसे दूध पिलाने के साथ अगरबती फूल नारियल पैसा भी चढ़कर उसकी पूजा भी कर रहे हैं ।

मकर संक्रांति के दिन पैदा हुआ बछड़ा ,लोग मान रहे शिव का रूप

मकर संक्रांति के दिन पैदा हुआ बछड़ा ,लोग मान रहे शिव का रूप

दरअसल राजनांदगांव जिले के लोधी नवागांव के हेमंत चंदेल नाम के किसान की पालतू जर्सी गाय ने शुक्रवार को मकर संक्रांति के दिन शाम करीब 7 बजे एक बछड़ा को जन्म दिया, जिसकी तीन आंखे है। इस बछड़े के नाक मे दो की जगह चार छिद्र हैं । साथ उसकी पूंछ जटा जैसी है । जैसे ही इस बछड़े के जन्म की खबर गांव मे फैली लोग इसे चमत्कार मानते मानने लगे । क्योंकि बछड़े का जन्म मकर संक्रांति के दिन हुआ इसलिए लोगो इसमें धार्मिक आस्थाओं को ढूढ़ने लगे और बछड़े को भगवान शिव का रूप बता दिया ।

बछड़ा है पूरी तरह स्वस्थ

बछड़ा है पूरी तरह स्वस्थ

स्थानीय ग्रामीणों के मुताबिक उन्होंने में ऐसी घटना पहली बार ही देखी है, इसलिए उसके पीछे तर्क तलाशने की जगह वह उसे धार्मिक आस्था से जोड़कर अधिक देख रहें हैं । गाय पालक नीरज चंदेल ने बताया कि कहना है कि बछड़े को देखने के लिए बड़ी संख्या मे गांव और बाहर के लोग इकट्ठे हो रहे हैं ।लोगो में कौतुहल देखकर वह भी बछड़े के दर्शन करने से लोगो को नहीं रोक रहे है, लेकिन असामान्य रूप में जन्मे बछड़े का चेकअप उन्होंने पशु चिकित्सक से कराया है । खुशी की बात है कि डॉक्टर के मुताबिक बछड़े का स्वास्थ्य ठीक है उसे कोई परेशानी नहीं है ।

अक्सर होते हैं ऐसे मामले

अक्सर होते हैं ऐसे मामले

बहरहाल तीन आंखो वाले सी अद्भुत बछड़े के जन्म लेने की खबर तेजी से फैलती जा रही है । बहरहाल यह पहला मौका नहीं है जब कोई पशु असामान्य रूप के साथ पैदा हुआ हो । इससे पहले भी समय समय पर ऐसी खबरें देशभर के अलग अलग हिस्से से आती रहती हैं । अब इसे कुदरत का करिश्मा कहें या भगवान भोलेनाथ का अवतार सबकी अपनी अपनी भावनाएं होती है। फ़िलहाल यह बछड़ा चर्चा का विषय बना हुआ है।

यह भी पढ़ें छत्तीसगढ़ रोजगार मिशन के गठन का निर्णय,पांच सालों मे 15 लाख को रोजगार देने का लक्ष्य

Comments
English summary
Three-eyed calf born on the day of Makar Sankranti, people believe in the form of Shiva
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X