• search
छत्तीसगढ़ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

छत्तीसगढ़: धान खरीदी की प्रक्रिया को लेकर हो रहे विरोध पर सीएम भूपेश बघेल ने की टिप्पणी

|

रायपुर। भाजपा के विरोध को लेकर सीएम भूपेश बघेल ने बयान दिया है। उन्होंने कहा कि लगभग 17-18 लाख किसानों ने अपनी उपज बेची है। भाजपा विरोध कर रही है, जो लोग सिस्टम में विश्वास नहीं करते, वे विरोध कर सकते हैं या जो अपनी उपज नहीं बेच सकते। जिन लोगों ने धान बेचा और पैसा प्राप्त किया उन्होंने विरोध नहीं करना चाहिए। बता दें कि समर्थम मूल्य पर धान खरीदी के लिए प्रशासन के पास केवल 10 दिन रह गया है। प्रशासन का दावा है कि 80 प्रतिशत किसानों का धान खरीदा जा चुका है। बाकी केवल 20 प्रतिशत ही हैं।

cm bhupesh baghel statement on bjp over protest

हर दिन औसतन दो हजार किसानों का धान खरीदना होगा। ऐसे में कोई गड़बड़ी न हो, कलेक्टर ने मैदानी अफसर को सजग रहने को कहा है। मंगलवार को साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक में सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि जिन दान खरीदी केंद्रों में धान बेचने वाले किसानों की संख्या अधिक है, वहां बचे हुए दिन के अनुपात में टोकन जारी किया जाए।

उन्होंने धान खरीदी केंद्र में धान का उठाव करने के निर्देश दिए हैं, जिससे धान खरीदी के लिए पर्याप्त स्थान उपलब्ध रहे। बताया गया कि जिले के अधिकांश धान खरीदी केंग्रों में 80 प्रतिशत से अधिक धान की खरीदी हो गई है। बता दें कि प्रदेश में भाजपा किसानों के लिए प्रदर्शन कर रही है।

भाजपा यह प्रदर्शन राज्य में दान खरीद की प्रक्रिया में किसानों के सामने आने वाली समस्याओं के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। इसी मामले में सीएम भूपेश बघेल ने प्रदर्शन करने वालों को आड़े हाथों लिया है। सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि जो लोग व्यवस्था से संतुष्ट नहीं हैं या जिनकी उपज बिकी नहीं है उन्हें तो प्रदर्शन का अधिकार है लेकिन जिन्हें कोई दिक्कत नहीं है उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए।

ओडिशा में MSP पर हुई धान की रिकॉर्ड खरीद, पिछले साल के मुकाबले 22 फीसदी अधिक बिका धान

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
cm bhupesh baghel statement on bjp over protest
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X