• search
चंदौली न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

लॉकडाउन में नहीं नसीब हुए चार कंधे, पति के शव को खुद श्मशान लेकर पहुंची पत्नी, दी मुखाग्नि

|

चंदौली। लॉकडाउन की वजह से एक व्यक्ति को मौत के बाद चार कंधे नसीब नहीं हो पाए। ना रिश्तेदार, ना पड़ोसी ना कोई दोस्त। किसी से मदद नहीं मिलने पर पत्नी खुद अपने पति का शव लेकर श्मशान पहुंच गई। जहां उसने पहले तो पति के शव के ऊपर अपनी मांग का सिंदूर धोया, चूड़ियां तोड़ी और लोगों से चंदा मांग कर खुद ही शव को मुखाग्नि दे दिया।

wife perform last rites of husband as no one came due to lockdown in chandauli

अस्पताल में चल रहा था इलाज

जानकारी के अनुसार, आलू मिल नईबस्ती निवासी गुड़िया की शादी बबुरी चौक बाजार निवासी संतोष जायसवाल से हुई थी। दोनों को एक बेटी है। कुछ दिन पहले संतोष की तबीयत खराब हो गई तो उसका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा था। इसी बीच गुड़िया के भाई की भी किन्हीं कारणों से मौत हो गई। तो गुड़िया अपने पति के साथ अपने मायके गई। भाई के शव का अंतिम संस्कार किया और वापस घर लौट आई।

इलाज के दौरान संतोष ने तोड़ा दम

इस दौरान संतोष की तबीयत फिर से खराब हो गई। संतोष की स्थिति बिगड़ता देख गुड़िया संतोष को लेकर जिला अस्पताल पहुंची, जहां इलाज के दौरान संतोष ने दम तोड़ दिया। गुड़िया शव को लेकर मायके पहुंची लेकिन यहां किसी ने उसका साथ नहीं दिया। किस्मत की मारी गुड़िया किसी तरह वाहन से पति के शव को लेकर श्मशान पहुंची और कुछ लोगों की सहायता से लकड़ी इकट्ठा कर अपने पति को मुखाग्नि दिया। बता दें कि गरीबी में पति की भी मौत हो गई और अब तीन साल की मासूम बेटी रोशनी ही एकमात्र सहारा है।

प्रयागराज में मिला कोरोना का पहला पॉजिटिव केस, तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुआ था इंडोनेशिया का नागरिक

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
wife perform last rites of husband as no one came due to lockdown in chandauli
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X