• search
चंदौली न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

छत्‍तीसगढ़ में शहीद हुए चंदौली के धर्मदेव दो मासूम बेट‍ियों के थे प‍िता, प्रेग्‍नेंट थीं पत्‍नी

|

चंदौली। छत्‍तीसगढ़ के सुकमा-बीजापुर बॉर्डर पर नक्‍सल‍ियों के साथ मुठभेड़ में चंदौली के जवान धर्मदेव कुमार भी शहीद हो गए। वह सीआरपीएफ की कोबरा बटाल‍ियन में थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शहीद को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई है। डीएम संजीव कुमार ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा परिवार को हर संभव आर्थिक मदद की घोषणा की गई है। 50 लाख रुपए की परिवार को आर्थिक सहायता, परिवार के एक सदस्य को नौकरी और जनपद के एक प्रमुख सड़क का नाम शहीद धर्मदेव कुमार के नाम पर की जाने की घोषणा की गई है।

    Chhattisgarh Naxal Attack: Ayodhya का लाल शहीद, CM Yogi ने की 50 Lakh की घोषणा | वनइंडिया हिंदी
    दो मासूम बेट‍ियों के पिता थे धर्मदेव, प्रेग्‍नेंट थीं पत्‍नी

    दो मासूम बेट‍ियों के पिता थे धर्मदेव, प्रेग्‍नेंट थीं पत्‍नी

    धर्मदेव कुमार चंदौली के चकिया तहसील के ठेकहां गांव के रहने वाले थे। वह अपने तीन भाईयों में सबसे बड़े थे। धर्मदेव के छोटे भाई धनंजय भी सीआरपीएफ में हैं। खास बात यह है कि दोनों भाई 2013 में एक साथ सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे और दोनों की पोस्टिंग भी छत्तीसगढ़ में ही थी। वर्तमान समय में धनंजय कुमार की पोस्टिंग मुठभेड़ वाली जगह से तकरीबन 200 किलोमीटर की दूरी पर बताई जाती है। धर्मदेव कुमार के सबसे छोटे भाई आनंद कुमार गांव में अपने माता पिता के साथ रहते हैं। धर्मदेव कुमार की 8 साल और 2 साल की दो बेटियां हैं। पत्नी मीना देवी एक बार फिर गर्भवती है।

    शहादत का बदला लेने की मांग

    शहादत का बदला लेने की मांग

    चंदौली के डीएम संजीव कुमार सिंह ने बताया कि छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सल‍ियों के साथ हुई मुठभेड़ में चंदौली के श्री धर्मदेव कुमार ने अदम्य वीरता और साहस का परिचय दिया है। वह शहीद हुए हैं। पूरे जनपद में इस दुखद घटना से शोक की लहर है। बता दें, इस घटना के बाद पूरे गांव में मातम पसरा है। परिजनों ने सरकार से मांग की है कि सरकार इस शहादत का बदला ले।

    अयोध्‍या के राजकुमार यादव भी हुए शहीद

    अयोध्‍या के राजकुमार यादव भी हुए शहीद

    नक्सली हमले में अयोध्‍या के राजकुमार यादव भी शहीद हुए हैं। वह अयोध्या के रानोपाली के रहने वाले थे। शहीद के पिता सूरज लाल यादव ने बताया कि उनका बेटा 1995 में सीआरपीएफ में शामिल हुआ था। बचपन से ही उसे देश की सेवा करने की लगन थी। शहीद राजकुमार तीन भाइयों ने सबसे बड़े थे। उसकी पत्नी और दो बच्चे भी हैं। दोनों अयोध्या एकेडमी में पढ़ाई करते हैं। बताया जा रहा है कि शहीद जवान की मां गंभीर रूप से कैंसर पीड़ित हैं। शहीद के भाई ने बताया कि घटना से दो दिन पहले ही भाई से बात हुई थी।

    छत्‍तीसगढ़ में अयोध्या का लाल शहीद, CM योगी ने की परिवार को 50 लाख रुपए की अनुग्रह राशि की घोषणा

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    chandauli dharmdev kumar lost life in chhattisgarh sukma bijapur border region
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X