• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

FII पात्र निवेश की सीमा पांच अरब डॉलर बढ़ी

|

rbi
मुंबई। रिजर्व बैंक की ओर से इस बार सरकारी प्रतिभूतियों में विदेशी संस्थागत निवेशकों के लिए उप सीमा को पांच अरब डॉलर बढ़ा दिया गया है। यह उप सीमा तीस अरब डॉलर थी। इससे विदेशी संस्थागत निवेशकों को आकर्षण करने में आसानी होगी और विदेशी पूंजी में बढ़ोतरी होगी। आपको बता दें कि जब से केंद्र सरकार में भाजपा आई है तभी से विदेशी निवेश को आकर्षित करने के प्रयास तेज हो गए हैं।

भाजपा का विदेशी निवेश आकर्षित करने की ओर अधिक ध्यान है। आपको बता दें कि इससे पहले रेलवे व इंश्योरेंस में भी विदेशी निवेश को लेकर भाजपा बात आगे बढ़ा चुकी है।

दीर्घावधि के निवेशकों के लिए सीमा

दीर्घावधि के लिए निवेश की सीमा 10 से घटाकर 5 अरब डालर करके बढ़ाई गई है। रिजर्व बैंक की अधिसूचना में कहा गया है कि एफआईआई पात्र विदेशी निवेशकों (क्यूएफआई) और विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों के लिए सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश की सीमा में 5 अरब डालर की बढ़ोतरी करने का फैसला किया गया है। यह सीमा दीर्घावधि के निवेशकों के लिए निवेश की सीमा 10 अरब से घटाकर 5 अरब डालर करके बढ़ाई गई है। निवेश की कुल सीमा 30 अरब डालर ही रहेगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sub limit of FII investment in government securities increased 5 billion.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X