• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

रेटिंग एजेंसी मूडीज ने दिया भारत को झटका! सॉवरेन रेटिंग्स को घटाया

|

मुंबई। दुनिया की बड़ी रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने सोमवार को भारत के सॉवरेन रेटिंग्स को घटा दिया है। इसके साथ ही आउटलुक को भी 'स्थिर' से 'निगेटिव' कर दिया है। मूडीज का कहना है कि भारत में कोरोन महामारी के बाद भी लंबे समय तक बहुत धीमी ग्रोथ देखने को मिल सकती है। भारत की विदेशी मुद्रा और स्थानीय मुद्रा लंबी अवधि की जारीकर्ता रेटिंग को Baa3 से Baa2 तक सीमित कर दिया है। जिसमें कहा गया है कि देश के नीति निर्धारण संस्थानों को नीतियों को लागू करने और कार्यान्वित करने में चुनौती दी जाएगी, जो अपेक्षाकृत कम वृद्धि की निरंतर अवधि के जोखिमों को कम कर सकते हैं।

moodys
    Moody's ने घटाई India की Rating, Rahul Gandhi बोले- Economy कबाड़ से बस एक कदम ऊपर | वनइंडिया हिंदी

    दिल्ली: 10 दिन में तैयार हुई दुनिया की सबसे बड़ी Covid-19 केयर फैसिलिटी के बारे में सबकुछ जानिए

    मूडीज द्वारा जारी किए गए बयान में उसने लिखा 'हमने भारत के लोकल-करंसी-सीनियर अनसिक्योर्ड रेटिंग को BAA2 से घटाकर BAA3 कर दिया है। साथी ही छोटी अवधि वाली लोकल-करंसी रेटिंग को यानी अल्पकालिक स्थानीय-मुद्रा की रेटिंग P-2 से P-3 कर दी है।मूडीज के इस बड़े फैसले से आने वाले समय में देश के नीति निर्माता संस्थानों (Policy making Institution) के लिए चुनौतीपूर्ण होगा। उनके लिए जरूरी होगा कि अपने द्वारा उठाये गये कदम को सही तरह से लागू भी करें।2 सही दिशा में कदम उठाने से ही धीरे-धीरे जोखिम कम होगा। ये नाकारात्मक दृष्टिकोण अर्थव्यवस्था और वित्तीय प्रणाली में गहरे तनाव से प्रमुख और पारस्परिक रूप से मजबूत जोखिम को दर्शाता है, जो मूडीज की वर्तमान परियोजनाओं की तुलना में राजकोषीय ताकत में अधिक गंभीर और लंबे समय तक क्षरण का कारण बन सकता है। मूडीज ने भी क्रमशः Baa1 और Baa2 से भारत के दीर्घकालिक विदेशी मुद्रा बॉन्ड और बैंक डिपॉजिट को Baa2 और Baa3 में उतारा है। रेटिंग एजेंसी ने कहा कि भारत देश तुलना में धीमी वृद्धि की लंबी अवधि का सामना कर रहा है।

    भारत की रेटिंग को कम करने का निर्णय मूडीज के विचार को दर्शाता है कि देश के नीति निर्धारण संस्थानों को नीतियों को लागू करने और लागू करने में चुनौती दी जाएगी जो कि अपेक्षाकृत कम वृद्धि की निरंतर अवधि के जोखिमों को प्रभावी ढंग से कम करती हैं। वित्तीय क्षेत्र, "रेटिंग एजेंसी ने एक नकारात्मक दृष्टिकोण को बनाए रखते हुए एक रिलीज में कहा कि सामान्य सरकार की वित्तीय स्थिति में महत्वपूर्ण गिरावट और तनाव में हैं। मूडीज ने कहा कि नवंबर 2017 में भारत की रेटिंग को Baa2 में अपग्रेड करना इस उम्मीद पर आधारित था कि प्रमुख सुधारों के प्रभावी कार्यान्वयन से आर्थिक, संस्थागत और राजकोषीय ताकत में एक क्रमिक लेकिन लगातार सुधार के माध्यम से संप्रभु के क्रेडिट प्रोफाइल को मजबूत किया जाएगा।रेटिंग एजेंसियों ने कहा, "तब से, इन सुधारों को लागू करना अपेक्षाकृत कमजोर रहा है और भौतिक ऋण सुधारों में कमी नहीं हुई है, जो सीमित नीति प्रभावशीलता को दर्शाता है।"

    moodys

    मूडीज के अनुसार रेटिंग को डाउनग्रेड करने की मुख्य वजह केवल कोविड-19 आउटब्रेक से अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान को लेकर ही नहीं है। उसने बताया कि 'आज का निर्णय कोरोना वायरस महामारी के संदर्भ में लिया गया है। यह महामारी के असर से प्रभावित नहीं इस महामारी से भारत के क्रेडिट प्रोफाइल की कमजोरियों को बढ़ाएगा। कोविड-19 आउटब्रेक से पहले ही यह था और इस महामारी ने इसका जोखिम और भी बढ़ा दिया है. यही कारण है कि हमने आउटलुक को निगेटिव करने का निर्णय लिया हैमूडीज ने यह भी कहा कि भारत में इस महामारी के बाद भी लंबे समय तक सुस्त ग्रोथ देखने को मिल सकती है।

    वाजिद खान ने मौत से पहले मीका सिंह को भेजा था ये आखिरी ऑडियो संदेश, सुनकर हो जाएंगे भावुक

    Heavy Rain Lashes In New Delhi
    ===================
    ===================

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Moody's downgrades India's sovereign rating to 'Baa3' from 'Baa2', maintains negative outlook
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more