• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Indian Railways: रेलवे की बड़ी कामयाबी, भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली 92 साल पुरानी गोल्‍डन टेंपल ट्रेन को किया अपग्रेड

|

नई दिल्ली। Amritsar Golden Temple Mail. भारतीय रेलवे ने एक और बड़ी सफलता हासिल कर ली है। रेलवे ने 92 साल पुरानी ऐतिहासिक ट्रेन को अपग्रेड कर नया कृतिमान बना लिया है। आजादी से पहले भारत और पाकिस्तान के बीच चलने वाली ऐतिहासिक गोल्‍डन टेंपल मेल (Golden Temple Mail) को अपग्रेड कर रेलवे ने बड़ा कारनामा किया है। रेलवे ने 92 साल पुरानी इस ट्रेन के पारंपरिक रैक्स को आधुनिक एलएलबी रैक्स( LHB) से बदल दिया है। आपको बता दें कि एलएचबी रैक्स के जरिए ट्रेनों को आधुनिक बनाया गया है।

लॉकडाउन के दौरान कैंसिल हवाई टिकटों के रिफंड पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश, 31 मार्च तक पैसा लौटाएं एयरलाइंस

 रेलवे की बड़ी कामियाबी

रेलवे की बड़ी कामियाबी

भारतीय रेलवे( Indian Railway) की ओर से साझा की गई जानकारी के मुताबिक रेलवे ने भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली 92 साल पुरानी गोल्डन टेंपल मेल ट्रेन को अपग्रेड किया है। रेलवे ने इस ट्रेन के पुराने रैक्स को आधुनिक एलएचबी रैक्‍स (LHB Rakes) से तब्‍दील कर बड़ी सफलता हासिल की है। रेलवे ने गांधी जयंती के मौके पर 2 अक्टूबर को गोल्डन टेंपल मेल 92 सालों के सफर को याद किया। इस ट्रेन को फ्रंटियर मेल (Frontier Mail) के नाम से बी जाना जाता था।

 भारत-पाकिस्तान के बीच तय करता है सफर

भारत-पाकिस्तान के बीच तय करता है सफर

आपको बता दें कि आजादी से पहले यह ट्रेन भारत और पाकिस्तान के बीच सफर तय करता था। भारत-पाकिस्तान के बंटवार से पहले यह ट्रेन पाकिस्‍तान के पेशावर शहर तक जाती थी। इस ट्रेन में महात्‍मा गांधी ने दांडी यात्रा के दौरान सफर किया था। आजादी के लिए चलाए जाने वाले आंदोलन के दौरान कई बार इस ट्रेन में गांधी जी समेत आंदोलनकारियों ने सफर किया।

 ट्रेन का हुआ मेकओवर

ट्रेन का हुआ मेकओवर

रेलवे अब ट्रेन को स्पेशल ट्रेन के तौर पर चलाता है। ट्रेन संख्या 12903/12904 के तौर पर रेलवे इस ट्रेन को चलाती है। रेलवे ने इसमें कई बदलाव भी किए हैं। अब इस ट्रेन में 22 बोगियां लगाई गई है। पुराने रैक्स को बदलकर नए एलएचबी रैक्स लगाए गए हैं। अब इस ट्रेन में फर्स्ट एसी, सेकेंड एसी, स्लीपर समेत सभी बोगियां और पैंट्री हैं। लोगों के सफर को आरामदायक और सुरक्षित बनाया गया है। LHB रैक्स वाले कोच हल्के होते हैं। जिसकी वजह से दुर्घटना की स्थिति में ये ट्रेन एक दूसरे पर नहीं चढ़ते हैं। इसकी रफ्तार पहले से अधिक है। गोल्‍डन टेंपल मेल में रेलवे ने कोरोना महामारी को देखते हुए भी कई अहम बदलाव किए हैं। बेहद कम वक्त में रेलवे ने इस ट्रेन का मेकओवर किया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Indian Railways upgrades a 92-year-old train. Railways converted all 4 conventional rakes of Mumbai Central - Amritsar Golden Temple Mail with LHB rakes
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X