• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

1.9 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है भारतीय एयरलाइंस का घाटा, रुपए की गिरावट ने बढ़ाई चिंता

|

नई दिल्ली। मौजूदा वित्त वर्ष में भारतीय एयरलाइंस का कुल घाटा 1.9 अरब अमेरिकी डॉलर (करीब 13,557 करोड़ रुपये) पहुंचने के आसार है। एविएशन कंसल्टिंग फर्म (CAPA) के मुताबिक कम किराए और बढ़ती लागत की वजह से एयर इंडिया और जेट एयरवेट जैसी भारतीय एयरलाइंस का घाटा साल दर साल बढ़ता जा रहा है। खासकर तेल की कीमतों बढ़ोतरी और रुपए में गिरावट के बाद यह घाटा और ज्यादा तेजी से बढ़ रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इंडिगो एयरलाइंस को छोड़कर कोई भी एयरलाइंस का बैलेंस शीट मजबूत नहीं है। घाटे की भरपाई के लिए टिकटों के दाम नहीं बढ़ाए गए हैं।

Indian airline losses could reach 1.9 billion this financial year, says in CAPA India report

सीएपीए की ये रिपोर्ट सरकार और भारतीय एयरलाइंस के लिए नई मुसिबत बन सकती है। क्योंकि वर्तमान में डोमेस्टिक एविएशन मार्केट में भारत दुनिया भर के देशों की तुलना में तेजी से आगे बढ़ रहा है। कई कंपनियों ने नए एयरबस एसई और बोइंग जेट्स के ऑर्डर दिए हैं। लेकिन सवाल ये उठता है कि करीब 90 प्रतिशत सीटें भरी रहने के बावजूद एयरलाइंस कंपनियों को घाटा सहना पड़ रहा है। जबकि पिछले 4 साल में घरेलू यात्रियों की तादात में दोगुनी से भी ज्यादा वृद्धि देखने को मिली है।

एयर इंडिया के लिए कोई खरीददार नहीं

इधर भारत सरकार एयर इंडिया को प्राइवेट हाथों में देना चाहती है लेकिन खरीदने वाला ही कोई नहीं मिल रहा है। इसके लिए सरकार ने जून में कहा था कि एयर इंडिया के 76 प्रतिशत स्टेक की बोली के लिए कोई खरीददार ही नहीं आया है। वही जेट एयरवेज को एक रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल-जून क्वॉर्टर में 1323 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Indian airline losses could reach 1.9 billion this financial year, says in CAPA India report
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X