• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

एनसीएलएटी के फैसले के बाद साइरस मिस्त्री ने कही बड़ी बात

|

नई दिल्ली। टाटा कंपनी के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री को कंपनी ने तीन साल पहले उनके पद से हटा दिया था। लेकिन इस मामले में आज नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल (एनसीएलएटी) ने बड़ा फैसला देते हुए साइरस मिस्त्री को उनके पद से हटाए जाने को अवैध करार दिया है। एनसीएलएटी के फैसले के बाद साइरस मिस्त्री ने कहा कि आज का फैसला मेरी व्यक्तिगत जीत नहीं है, यह छोटे शेयरधारकों के अधिकार, सिद्धांतों और गुड गवर्नेंस की जीत है। इस फैसले ने मेरे दावे की पुष्टि की है।

cyrus mistry

बता दें कि तीन साल पहले टाटा सन्स के चेयरमैन पद से हटाए गए साइ‍रस मिस्त्री को एनसीएलएटी ने आज बड़ी राहत देते हुए साइ‍रस मिस्त्री को पद से हटाए जाने को अवैध करार दिया है और उन्हें चेयरमैन पद पर फिर से बहाल करने का आदेश दिया है। वहीं एनसीएलएटी ने एन चंद्रशेखरन को कार्यकारी चेयरमैन बनाने के फैसले को भी अवैध करार दिया है। साइरस मिस्त्री के लिए यह बड़ी जीत बताई जा रही है, वहीं एनसीएलएटी के फैसले के खिलाफ टाटा समूह के पास सुप्रीम कोर्ट जाने का अभी मौका है।

मिस्त्री पर आरोप

दरअसल साइरस मिस्त्री पर आरोप लगा था कि उवह टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे थे। टाटा समूह के मुताबिक, पी साइरस मिस्‍त्री ने टाटा के भरोसे का दुरुपयोग किया और इसका नाजायज फायदा उठाया। वह टाटा ग्रुप की सभी बड़ी फर्मों को अपने कंट्रोल में लेना चाहते थे। इस बारे में टाटा ग्रुप ने प्रेस रिलीज जारी करके कहा था कि मिस्‍त्री ने पूरी प्‍लैनिंग के साथ बोर्ड के अन्‍य मेंबर्स को बाहर किया। चार वर्षों में टाटा समूह का एकमात्र प्रतिनिधि बनने के लिए मिस्‍त्री ने पूरी ताकत झोंक दी। उन्‍होंने इसके लिए रणनीति बनाई और उसी को अमल में लाया। टाटा संस ने कहा,'मिस्‍त्री के नेतृत्‍व में, टाटा समूह के 100 साल पुराने ढांचे को नुकसान पहुंचा है। इसकी फर्में, प्रमोटर्स अैर शेयरहोल्‍डर्स से दूर भाग रही हैं। इशहात हुसैन को टीसीएस का अंतरिम चेयरमैन नियुक्‍त किया गया है।' टाटा समूह ने एक असाधारण आम बैठक कर पी सायरस मिस्‍त्री को चेयरमैन पद से हटाया था।

क्या है टाइमलाइन

24 अक्टूबर 2016: साइरस मिस्त्री को चेयरमैन के पद से हटा दिया गया

25 अक्टूबर 2016: साइरस मिस्त्री ने टाटा कंपनी पर अनियमितता का आरोप लगाया

5 नवंबर 2016: टाटा की कंपनियों ने मिस्त्री को चेयरमैन के पद से हटाने के लिए ईजीएम की बैठक करनी शुरू कर दी।

19 दिसंबर 2016: साइरस मिस्त्री ने टाटा ग्रुप की सभी कंपनियों के डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया।

20 दिसंबर 2016: साइरस मिस्त्री की ओर से एनसीएलटी में केस दायर किया गया।

6 फरवरी 2016: साइरस मिस्त्री को टाटा संस के डायरेक्टर के पद से हटाया गया।

18 दिसंबर 2019: साइरस मिस्त्री को एनसीएलटी ने दी राहत

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Here is what Syrus Mistry said after decision of NCLAT.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X