• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

समय आने पर पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती का निर्णय लेगी सरकार- सीबीआईसी चेयरमैन

|

नई दिल्ली, 14 अप्रैल। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड के चेयरमैन एम अजीत कुमार ने मंगलवार को कहा कि सरकार सही समय आने पर पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले करों में कटौती का निर्णय लेगी। उन्होंने कहा कि 31 मार्च को समाप्त वित्त वर्ष 202-21 में पिछले वित्त वर्ष की तुलना में पेट्रोल-डीजल पर अप्रत्यक्ष कर संग्रह सालाना आधार पर 59 प्रतिशत से अधिक रहा।

petrol price

उन्होंने कर के आंकड़ों के बारे में जानकारी देते हुए वीडियो कॉल पर मीडिया से कहा कही, 'हमें उम्मीद है कि आने वाले महीनों में राजस्व और अच्छा रहेगा।' उन्होंने मीडिया से कहा कि, जहां तक तेल के दामों में कटौती का सवाल है तो मैं आपको बता दूं कि इस विषय पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है और मुझे उम्मीद है कि सही समय आने पर इस पर फैसला लिया जाएगा।' हालांकि उन्होंने इस बात की जानकारी नहीं दी कि आखिर सरकार कब तक इस विषय पर फैसला लेगी।

यह भी पढ़ें: दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे चालू होने पर उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने कहा- यह देश को जोड़ेगा, व्यापार बढ़ाएगा

सरकार ने पिछले साल पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 13 रुपए प्रति लीटर जबकि डीजल पर 16 रुपए प्रति लीटर की वृद्धि की थी। पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क वर्तमान में 32.90 रुपए प्रति लीटर है। राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 90.56 रुपए प्रति लीटर है जिसपर 36 प्रतिशत उत्पाद शुल्क लगता है।

डीजल पर उत्पाद शुल्क 31.80 रुपये प्रति लीटर है और इसके प्रति लीटर 80.87 रुपये के खुदरा बिक्री मूल्य में उत्पाद शुल्क का हिस्सा 39 प्रतिशत है। राज्यों के वैट (मूल्य वर्धित कर) को जोड़ने पर इन ईंधनों के खुदरा मूल्यों में कुल कर का हिस्सा 55 से 60 प्रतिशत बैठता है।

सीबीआईसी सदस्य विवेक जोहरी ने कहा कि उत्पाद शुल्क संग्रह में 59.2 प्रतिशत की वृद्धि का एक कारण पेट्रोलियम कर की दर में वृद्धि है। उन्होंने कहा कि यदि करों में कटौती होती है तो इससे राजस्व संग्रह पर भी असर पडे़गा।

पिछले महीने पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने संसद में कहा था कि पेट्रोल और डीजल पर कर संग्रह 2013 में 52,537 करोड़ रुपये था जो 2019-20 में बढ़कर 2.13 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया। वहीं 2020-21 के पहले 11 महीनों में यह बढ़कर 2.94 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया।

English summary
CBIC chairman said Decision on excise duty cut on petrol, diesel when time comes
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X