• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

BUDGET 2021: कंपनियों को EPFO में अब समय पर जमा कराना होगा कर्मिचारियों का PF पार्ट

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। सैलरी क्लास के लिए इस बार के आम बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बड़ा ऐलान किया है। वेतनभोगियों के लिए बड़ी राहत देते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि अगर एम्प्लॉयर कर्मचारी का पीएफ योगदान देर से जमा करता है तो उसे एम्प्लॉयर को छूट में लाभ नहीं मिलेगा। वित्त मंत्री ने कर्मचारियों की परेशानी का जिक्र करते हुए कहा कि हमने यह देखा है कि कुछ नियोक्ता समय पर कर्मचारी की ओर से काटी गई पीएफ की राशि को जमा नहीं करते हैं। कंपनियां कर्मचारी के वेतन से ही पीएफ और अन्य सामाजिक सुरक्षा योजना के नाम पर राशि काटते हैं लेकिन उसे समय पर जमा नहीं करते हैं।

    Budget 2021: साल में 2.5 लाख से ज्यादा PF जमा किया तो ब्याज पर लगेगा टैक्स | वनइंडिया हिंदी

    epfo

    वित्त मंत्री की दो टूक

    वित्त मंत्री ने कहा कि कंपनियों की ओर से की जाने वाली इस देरी की वजह से कर्मचारियों को ब्याज और कमाई दोनों में नुकसान होता है, लिहाजा जो कंपनियां समय पर ईपीएफओ की राशि को जमा नहीं करती हैं उन्हें कर में छूट का लाभ नहीं दिया जाएगा। गौरतलब है कि कर्मचारियों के लिए पीएफ की स्कीम काफी लाभदायक है, इससे ना सिर्फ कर्मचारियों की सेविंग होती है बल्कि उन्हें अच्छी ब्याज दर, टैक्स में छूट आदि भी मिलता है।

    किनके लिए अनिवार्य है ईपीएफ कटौती

    बता दें कि पीएफ वह राशि होती है जिसे कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के बाद या रिटायरमेंट के बाद मिलती है। यही नहीं जरूरत पड़ने पर पीएफ की राशि के कुछ हिस्से को बीच में भी निकाला जा सकता है। अगर किसी कंपनी में 20 से अधिक कर्मचारी काम करते हैं तो उसका पंजीकरण कर्मचारी भविष्य निधि संगठन मे होना अनिवार्य है। ऐसे में इन कंपनियों में कर्मचारियों को दी जाने वाली सैलरी का एक हिस्सा बतौर पीएफ काटा जाता है जिसे नौकरी छोड़ने के समय कर्मचारी को दे दिया जाता है।

    क्या होता है ईपीएफ

    कर्मचारी अपनी सैलरी का 12 फीसदी ईपीएफके रूप में हर महीने जमा कराते हैं और कंपनी की ओर से 12 फीसदी की राशि अतिरिक्त जमा की जाती है। इसमे से 3.67 पीसदी कर्मचारी ईपीएफ और 8.33 फीसदी ईपीएस यानि पेंशन स्कीम में जमा होती है। जिसे रिटायरमेंट के बाद किश्तों में कर्मचारी को दिया जाता है। अहम बात यह है कि पीएफ के लिए जो राशि काटी जाती है उसपर किसी भी तरह का कोई टैक्स नहीं देना होता है। इसका पूरा लाभ कर्मचारियों को दिया जाता है। इस राशि पर 8 फीसदी का ब्याज भी मिलता है।

    इसे भी पढ़ें- Budget 2021: परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, वाहन स्क्रैपिंग नीति से प्रदूषण कम होगाइसे भी पढ़ें- Budget 2021: परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, वाहन स्क्रैपिंग नीति से प्रदूषण कम होगा

    English summary
    Budget 2021: Now it will cost huge to employer if pf amount delayed.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X