• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Banking News: 1 अप्रैल से बदल गए इन बैंकों के चेकबुक, IFSC कोड, खाताधारक इन बातों का रखें ध्यान

|

नई दिल्ली। 1 अप्रैल 2021 से नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत हो चुकी है। नए वित्तीय वर्ष क साथ ही आपके आसपास कई नियमों में बदलाव हो गया है। वहीं आज से बैंक से जुड़े कई नियमों में बदलाव हो रहे हैं। आज से कई बैंकों के पासबुक, चेकबुक और आईएफएससी कोड जैसे जरूरी नियमों में बदलाव हो गया है। 1 अप्रैल 2021 से ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया, आंध्रा बैंक, कोर्पोरेशन बैंक के चेकबुक, पासबुक और आईएफएससी कोड में बदलाव हो गया है। दरअसल ये वो बैंक हैं, जिनका विलय दूसरे बैंकों में हुआ है।

    1 April से इन 7 Government Banks के Passbook और Cheque Book हुए अमान्य | वनइंडिया हिंदी

    जरूरी खबर: SBI, HDFC, ICICI,कोटक महिंद्रा बैंक के खाताधारकों के लिए 1 अप्रैल से बंद हो सकती है ये सर्विसजरूरी खबर: SBI, HDFC, ICICI,कोटक महिंद्रा बैंक के खाताधारकों के लिए 1 अप्रैल से बंद हो सकती है ये सर्विस

     1 अप्रैल से बदल गए IFSC कोड

    1 अप्रैल से बदल गए IFSC कोड

    1 अप्रैल से इन सरकारी बैंकों के IFSC कोड में बदलाव हो गया है। इन बैंकों के ग्राहकों को डिजिटल ट्रांजैक्शन के लिए नए आईएफएससी कोड का इस्तेमाल करना होगा। आपको बता दें कि किसी को ऑनलाइन फंड भेजने के लिए आईएफएससी कोड की जरूरत पड़ती है। 1 अप्रैल से इन बैंकों के पुराने आईएफएससी और एसआईसीआर कोड बदल गए हैं।

     किन-किन बैंकों के IFSC कोड बदले

    किन-किन बैंकों के IFSC कोड बदले

    आज से जिन बैंकों के आईएफएससी कोड में बदलाव हुआ है उनमें ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स( OBC), यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया(UBI), आंध्रा बैंक, कार्पोरेशन बैंक शामिल है। इसके अलावा सिंडीकट बैंक और इलाहाबाद बैंक के ग्राहकों को नए आईएफएससी कोड के लिए कुछ और वक्त मिला है। इलाहाबाद बैंक के ग्राहकों को 1 मई 2021 तक और सिंडीकेट बैंक के कस्टमर्स को 1 जुलाई 2021 तक नया IFSC कोड लेना होगा।

     बैंकों के विलय के बाद लिया गया फैसला

    बैंकों के विलय के बाद लिया गया फैसला

    आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने बैंकों पर बढ़ते भारी एनपीए को बोझ को कम करने के लिए विलय का फैसला लिया और कई बैंकों का मर्जर कर दिया। इस क्रम में देना और विजया बैंक का विलय बैंक ऑफ बड़ौदा में किया गया। वहीं सिंडिकेट बैंक का केनरा बैंक में विलय, आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में और इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक में मर्ज हो गया। वहीं ओबीसी बैंक और यूनाइडेट बैंक का विलय पंजाब नेशनल बैंक में हो गया।

     क्यों जरूरी है IFSC कोड

    क्यों जरूरी है IFSC कोड

    आज के डिजिटल समय में अधिकांश लोग ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं। चेकबुक पर ही आपके खाते का IFSC और MICR कोड छपा होता है। बिना इन कोड के आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं कर सकते हैं। नए चेक बुक में आपक नया आईएफएससी कोड दर्ज होगा। बिना इस कोड के आप नेट बैंकिंग के जरिए किसी को फंड ट्रांजैक्शन नहीं कर सकेंग। जिस बैंक में आपका खाता ह उस बैंक के लिए खास आईएफएससी कोड जारी किया जाता है, जो उस बैंक के ब्रांच के सभी ग्राहकों के लिए सामान होता है।

    English summary
    Banking News: Cheque Book and IFSC Code of these Government Banks Changed from 1st April 2021, here is the detail.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X